सिडनी: भारत के लिए करो या मरो की स्थिति !

  • 26 जनवरी 2015
विराट कोहली, महेंद्र सिंह धोनी इमेज कॉपीरइट AP

ऑस्ट्रेलिया में खेली जा रही त्रिकोणीय एकदिवसीय क्रिकेट सिरीज़ में सोमवार का दिन भारत के लिए करो या मरो वाला है.

सिडनी में भारत मौजूदा सिरीज़ के पांचवे मुक़ाबले में मेज़बान ऑस्ट्रेलिया का सामना करेगा.

इससे पहले भारत ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड से हारा है. दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलिया ने लगातार तीन जीत हासिल कर पहले ही फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है.

(पढ़ेंः वार्नर टू रोहित, 'अंग्रेज़ी बोलो')

इंग्लैंड ने भारत को बोनस अंक के साथ हराया था. ऐसे में फाइनल में पहुंचने की संभावनाओं को बनाए रखने के लिए भारत को हर हाल में ऑस्ट्रेलिया को हराना होगा.

सामान्य प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट AFP

अब यह तो बात हुई सिरीज़ की वर्तमान परिस्थितियों की, लेकिन हक़ीक़त इससे परे है. ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर भारत को अभी भी पहली जीत का इंतज़ार है.

टेस्ट सिरीज़ में 2-0 से हार के बाद सभी क्रिकेट प्रेमियों को एकदिवसीय क्रिकेट में टीम से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद थी लेकिन टीम के सामान्य प्रदर्शन ने क्रिकेट पंडितो को भी हैरान कर दिया.

(पढ़ेंः डी विलियर्स के कारनामे)

पिछले मुक़ाबले में तो इंग्लैंड ने भारत को नौ विकेट से मात दी और वह भी रिकॉर्ड 135 गेंद शेष रहते.

इंग्लैंड के स्टीवन फिन और जेम्स एंडरसन की तेज़ और स्विंग होती गेंदों के सामने भारतीय पारी रेत के महल की तरह केवल 39.3 ओवर में 153 रनों पर ढेर हो गई.

फिटनेस और चयन

इमेज कॉपीरइट AFP

रविवार को भारत के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हम सिडनी में अपनी सर्वश्रेष्ठ टीम के साथ मैदान में उतरेंगे.

उन्होंने कहा, "किसी नए प्रयोग का इस्तेमाल नही होगा. इसके अलावा विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट बेहद नज़दीक हैं, ऐसे में केवल मैच जीतने के लिए किसी अनफिट खिलाड़ी को मैच में नही खिलाया जा सकता."

(पढ़ेंः सौ साल बाद भी नॉट आउट)

रवींद्र जडेजा और ईशांत शर्मा की फिटनेस और चयन को लेकर उनका कहना था कि दोनों खिलाड़ी चयन के लिए उपलब्ध हैं.

लेकिन देखना होगा कि कितने मैच फिट हैं, ख़ासकर जडेजा अभी भी शायद आउटफील्ड में फिल्डिंग के लिए पूरी तरह फिट नही हैं.

धवन की नाकामी

इमेज कॉपीरइट AFP

वही शिखर धवन की लगातार नाकामी से भी धोनी चिंतित हैं लेकिन उनका बचाव करते हुए उन्होंने पिछले मैच से पहले कहा था कि कुछ मैचों के आधार पर किसी को टीम से नही हटाया जा सकता.

धवन ने इंग्लैंड में खेली गई चैम्पियंस ट्रॉफी जीतने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

(पढ़ेंः बुलंदी की सीढ़ियां)

धोनी हमेशा विवादास्पद सवालों के जवाब में मौन ही रहते हैं लेकिन रविवार को उन्होंने दावा किया कि आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में उनके ख़िलाफ कोई सबूत नही मिले हैं.

इसके बावजूद उन्हें नही लगता कि उनके ख़िलाफ अटकले समाप्त होंगी.

टीम की हार

इमेज कॉपीरइट GETTY

उन्होंने कहा कि एक कहानी समाप्त होने के बाद नई कहानी एक दो दिन में तैयार हो सकती है और वह उसके आदी हो चुके हैं. अब धोनी भले ही इन बातों के आदी हों लेकिन टीम की हार का आदी होना ठीक नही है.

जीत के रथ पर सवार ऑस्ट्रेलिया से सिडनी में भी पार पाना भारत के लिए आसान नही होगा और विश्व कप में हार की यादों के साथ जाना भारत को महंगा पड़ सकता है.

वैसे सिडनी में भारत की राह और भी मुश्किल इसलिए हो गई है क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शतक बनाने वाले रोहित शर्मा चोटिल होने की वजह से इस मैच में नहीं खेल सकेंगे.

ऐसे में भारतीय बल्लेबाज़ों और गेंदबाज़ों को पूरा ज़ोर लगाकर केवल जीत के लिए मैदान में उतरना ज़रूरी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार