रणजी ट्राफी: करुण नायर ने रचा इतिहास

  • 11 मार्च 2015
करुण नायर इमेज कॉपीरइट pti

कर्नाटक के करुण नायर रणजी ट्रॉफी के फ़ाइनल में तिहरा शतक जड़ने वाले आज़ाद भारत के पहले खिलाड़ी बन गए हैं.

मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले जा रहे मुक़ाबले में करुण नायर ने तिहरा शतक जमाया.

उन्होंने 560 गेंदों पर 46 चौकों और एक छक्के की मदद से 328 रनों की मैराथन पारी खेली.

कर्नाटक और तमिलनाडु के बीच खेले जा रहे रणजी ट्रॉफ़ी के फ़ाइनल मुक़ाबले में करुण नायर ने नया कीर्तिमान बना डाला.

23 साल के करुण नायर ने 328 रनों की पारी खेली और तमिलनाडु के ख़िलाफ़ टीम का स्कोर 762 रन तक पहुँचाने में अहम भूमिका निभाई.

साझेदारी का रिकॉर्ड

इमेज कॉपीरइट AP

इसके साथ ही करुण रणजी ट्राफ़ी के फ़ाइनल में सबसे बड़ी पारी खेलने वाले भारतीय बल्लेबाज़ भी बन गए हैं.

इससे पहले, ये रिकॉर्ड गुल मुहम्मद के नाम दर्ज था, जिन्होंने 1946-47 के सत्र में वडोदरा में होल्कर के ख़िलाफ़ खेलते हुए अपनी टीम बड़ौदा के लिए 319 रन बनाए थे.

करुण और के एल राहुल (188) के बीच छठे विकेट के लिए 386 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी भी हुई. उन्होंने रणजी के फ़ाइनल में 1977-78 में मोहिंदर अमरनाथ और सुरिंदर खन्ना के 256 रन की साझेदारी के रिकॉर्ड को तोड़ा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए