इन वजहों से चर्चा में रहा विश्व कप

  • 30 मार्च 2015
इमेज कॉपीरइट AFP

रविवार को मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया की न्यूज़ीलैंड पर सात विकेट की आसान जीत के साथ ही विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट भी समाप्त हो गया.

ऑस्ट्रेलिया ने पांचवी बार ख़िताब अपने नाम किया. विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट का पहला मैच पूल ए में न्यूज़ीलैंड और श्रीलंका के बीच पिछले महीने 14 फरवरी को खेला गया था.

यानी पहला और आख़िरी मैच न्यूज़ीलैंड ने खेला. वह पहली बार विश्व कप के फ़ाइनल में भी पहुंचा लेकिन उसका ख़िताब जीतने का सपना-सपना ही रहा.

अगला विश्व कप इंग्लैंड में साल 2019 में खेला जाएगा. इस विश्व कप में तो उसका प्रदर्शन बेहद साधारण रहा और वह शुरूआती दौर में ही हारकर बाहर हुआ.

इमेज कॉपीरइट AFP

ऑस्ट्रेलिया के कप्तान माइकल क्लार्क ने भी ऑस्ट्रेलिया को ख़िताबी जीत दिलाने के बाद एकदिवसीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया.

पिछली चैंपियन भारत सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया से 95 रन से हारा. वैसे भारत ने सेमीफ़ाइनल से पहले कोई मुक़ाबला नहीं हारा तो न्यूज़ीलैंड भी फ़ाइनल में ही हारा.

ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड में संयुक्त रूप से आयोजित इस विश्व कप में केवल एक मैच बारिश से रद्द हुआ जिसमें चैंपियन बन चुके ऑस्ट्रेलिया और बांग्लादेश आमने-सामने थे.

सर्वाधिक रन और विकेट

इमेज कॉपीरइट AFP

इस टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन न्यूज़ीलैंड के मार्टिन गप्टिल ने बनाए. उन्होंने नौ मैचों में दो शतक और एक अर्धशतक की मदद से 547 रन बनाए.

उन्होंने विश्व कप के इतिहास में सबसे बड़ी व्यक्तिगत पारी खेलते हुए वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ नाबाद 237 रन बनाए.

उनके अलावा वेस्टइंडीज़ के क्रिस गेल ने भी ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ दोहरा शतक बनाते हुए 215 रन बनाए. यह किसी भी खिलाड़ी का विश्व कप में पहला दोहरा शतक था.

ऑस्ट्रेलिया के तेज़ गेंदबाज़ मिचेल स्टार्क ने इस विश्व कप में सर्वाधिक विकेट अपने नाम किए.

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने आठ मैचों में 22 विकेट झटके. वैसे उनके अलावा न्यूज़ीलैंड के तेज़ गेंदबाज़ ट्रैंट बोल्ट ने भी 22 विकेट लिए लेकिन उन्होंने 9 मैच खेले.

आश्चर्यजनक रूप से विश्व कप शुरू होने से पहले कमज़ोर माने जा रहे भारतीय तेज़ गेंदबाज़ भी चमके.

उमेश यादव ने आठ मैचों में 18 और मोहम्मद शमी ने सात मैचों में 17 विकेट झटके.

दक्षिण अफ्रीका के मोर्ने मोर्कल ने भी आठ मैचों में 17 विकेट लिये. यह पांचों गेंदबाज़ सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज़ रहे.

संन्यास

इमेज कॉपीरइट Getty

इस विश्व कप के बाद एकदिवसीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले खिलाड़ियों में अफ़ग़ानिस्तान के नवरोज़ मंगल, ऑस्ट्रेलिया के माइकल क्लार्क, आयरलैंड के एड जॉयस, न्यूज़ीलैंड के काइल मिल्स, पाकिस्तान के शाहिद अफ़रीदी और विश्व कप में कप्तान रहे मिस्बाह उल हक़, श्रीलंका के महेला जयवर्धने और कुमार संगकारा, संयुक्त अरब अमीरात के ख़ुर्रम ख़ान और ज़िम्बाब्वे के ब्रेंडन टेलर रहे.

श्रीलंका के कुमार संगकारा ने इस विश्व कप में लगातार चार शतक बनाकर जमकर नाम कमाया, लेकिन भारत और बांग्लादेश के बीच क्वार्टर फ़ाइनल मुक़ाबला सुर्खियों में छाया रहा.

विवाद

इमेज कॉपीरइट Getty

भारत के रोहित शर्मा बांग्लादेश के गेंदबाज़ रूबेल हुसैन की फुल टॉस पर कैच हुए लेकिन अंपायर को लगा शायद बॉल बेहद ऊंची हैं और उसे नो बॉल क़रार दिया.

रोहित शर्मा नॉटआउट रहे लेकिन रिप्ले में पता चला कि गेंद कमर की ऊंचाई तक थी और नो बॉल नहीं थी. इस बात ने बेहद तूल पकड़ा.

यहां तक कि आईसीसी के अध्यक्ष बांग्लादेश के मुस्तफा कमाल ने अम्पायरों की निष्पक्षता पर ही सवाल खड़े कर दिए.

इससे भी एक कदम आगे बढ़कर बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने इसी निर्णय को टीम की हार का कारण माना.

इसके अलावा पाकिस्तान की क्वार्टर फ़ाइनल में हार के बाद गुस्साई जनता का टीवी सेटों को तोड़ना और भारत की हार के बाद विराट कोहली और अनुष्का शर्मा भी ख़बरों में छाए रहे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार