समीकरण बिगाड़ने उतरेगी दिल्ली डेयरडेविल्स

दिल्ली डेयर डेविल्स इमेज कॉपीरइट PTI

आईपीएल-8 में मंगलवार को भी केवल एक ही मुकाबला खेला जाएगा. अंक तालिका में पहले स्थान पर चल रही चेन्नई सुपर किंग्स रायपुर में दिल्ली डेयरडेविल्स का सामना करेगी.

दिल्ली का दिल तो 12 में 8 मैच हार कर पहले ही बैठ चुका है. वह प्ले ऑफ़ की दौड़ से बाहर हो चुकी है. अब तो वह बस दूसरों के समीकरण बिगाड़ सकती है.

दूसरी तरफ महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेल रही चेन्नई वाकई सुपर किंग्स है.

धोनी की कप्तानी और अपनी टीम के खिलाड़ियों पर उनका भरोसा रंग ला रहा है. चेन्नई ने पिछले मैच में राजस्थान के ख़िलाफ़ 5 विकेट खोकर केवल 157 रन बनाए और इसके बावजूद 12 रन से जीतने में कामयाब रही.

उसकी जीत के हीरो रहे रविंद्र जडेजा जो अभी तक लगभग गुमनाम ही थे. उन्होंने केवल 11 रन देकर 4 विकेट लिए.

इनमें स्टार बल्लेबाज़ शेन वाटसन और स्टीव स्मिथ के विकेट भी शामिल है. उन्होंने एक तरह से राजस्थान की बल्लेबाज़ी की कमर ही तोड़ दी.

मुश्किल डगर

इमेज कॉपीरइट PTI

मोहित शर्मा ने भी 3 विकेट झटके. एक-दो अवसर को छोड़ दिया जाए तो चेन्नई की फिल्डिंग भी लाजवाब है, खासकर ड्वेन ब्रावो कलाबाज़ी खाकर असंभव लगने वाले कैच लेने में माहिर है. वह तो अभी तक 19 विकेट भी ले चुके है.

ब्रैंडन मैक्कुलम ने भी राजस्थान के ख़िलाफ अपना बल्ला ख़ूब भांजा और 81 रनों की बड़ी पारी खेली. अनुभवी आशीष नेहरा की गेंदों का तोड़ भी किसी को नहीं मिल रहा और वह 17 विकेट अपने नाम कर चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI

वहीं दिल्ली सारे जतन करने के बावजूद जीत नहीं पा रही है. अब तो ख़ैर उनका कारवां लुट चुका है. अपने पिछले मैच में वह हैदराबाद के ख़िलाफ़ 4 विकेट खोकर 157 रन ही बना सकी और केवल 6 रन से हार गई.

युवराज सिंह ऊंची दुकान फीके पकवान साबित हुए. वह केवल 2 रन बनाकर परवेज़ रसूल का शिकार बने. वैसे भी उनका बल्ला मुंबई के ख़िलाफ़ चला तो ज़रूर पर गरजा नहीं. 44 गेंदो पर 57 रन उनके नाम से मेल नहीं खाते और ना ही अब उनके नाम से विरोधी गेंदबाज़ डरते हैं.

पलड़ा भारी

इमेज कॉपीरइट PTI

हालत यह है कि कामयाब लैग स्पिनर इमरान ताहिर को डूमिनी टीम से बाहर रख रहे है. क्विंटन डी कॉक को पिछले मैच में ही खेलने का मौक़ा मिला और उन्होने 50 रन भी बनाए, लेकिन अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता.

कप्तान डूमिनी और दूसरे बल्लेबाज़ गेंदबाज़ों को बड़े स्कोर का सहारा नहीं दे सके.

दिल्ली इससे पहले चेन्नई से पहला मैच केवल एक रन से हारी थी.

आंकड़ो में चेन्नई और दिल्ली 15 बार आमने-सामने हुए है. चेन्नई 11 बार और दिल्ली केवल 4 बार जीती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार