पीटरसन की वापसी पर विवाद गहराया

केविन पीटरसन इमेज कॉपीरइट Press Association

आईपीएल की हैदराबाद टीम को छोड़, सर्रे के लिए खेलकर 355 नाबाद बनाने के बावजूद, एंड्रयू पीटरसन के इंग्लैंड की टीम में वापसी न कर पाने का मुद्दा विवाद बन गया है.

इंग्लैंड के क्रिकेट के नए निदेशक एंड्रयू स्ट्रॉस ने केविन पीटरसन से कहा है कि उनकी इंग्लैंड टीम में वापसी की कोई गुंजाइश नहीं है.

हाल ही में सर्रे के लिए 355 बनाने वाले पीटरसन सोमवार को स्ट्रॉस से मिले थे.

उधर इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने बीबीसी स्पोर्ट से कहा, "पीटरसन को ग़लत सलाह दी गई और उनके साथ बुरा सुलूक किया गया है. उन्होंने वो सब किया जो उन्हें करने के लिए कहा गया, लेकिन वो सब किसी काम नहीं आया."

फ़रवरी 2014 में इंग्लैंड टीम से हटाए गए 34 वर्षीय खिलाड़ी को दो महीने पहले इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड के चेयरमैन कोलिन ग्रेव्ज़ ने कुछ और ही संकेत दिया था .

उन्होंने कहा था कि यदि पीटरसन काउंटी क्रिकेट खेलते हैं और पर्याप्त रन बनाते हैं तो उन्हें दोबारा इंग्लैेड के लिए खेलने को बुलाया जा सकता है.

आत्मकथा

इमेज कॉपीरइट Getty

पीटरसन ने जनवरी 2014 में ऑस्ट्रेलिया में हुई एशेज़ सीरीज़ के फ़ाइनल में इंग्लैंड की ओर से आखिरी मैच खेला था. यह सीरीज़ इंग्लैंड पांच-शून्य से हार गया था.

इसके एक महीने बाद उन्हें हटा दिया गया था जिसके बाद उन्होंने अक्टूबर में अपनी आत्मकथा छपवाई जिसमें उन्होंने कई खिलाड़ियों की यह कहते हुए आलोचना की थी कि टीम में 'दबाने की संस्कृति' थी.

लेकिन 2015 के विश्व केप के बाद, जब इंग्लैंड अपने छह में से चार मैच हार गया था, इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड के होने वाले चेयरमैन कॉलिन ग्रेव्ज़ ने कहा था कि अगर पीटरसन घरेलू मैचों में अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो उनकी टीम में वापसी हो सकती है.

पीटरसन ने 2015 में अपने आईपीएल के अनुबंध को छोटा कर लिया और सर्रे के साथ खेलने लगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार