आईपीएलः सभी नज़रें बैंगलोर पर

  • 17 मई 2015
विराट कोहली इमेज कॉपीरइट PTI

आईपीएल-8 में रविवार को शुरुआती दौर के आख़िरी दो मुक़ाबले खेले जाएंगे जिसके बाद प्ले ऑफ की तस्वीर साफ़ होगी.

चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स की टीमें अंतिम चार में पहुंच चुकी हैं.

बाक़ी दो स्थानों के लिए रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, सनराइजर्स हैदराबाद, मुंबई इंडियंस और कोलकाता नाइटराइडर्स के बीच मुक़ाबला है.

रविवार को पहले मुक़ाबले में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर का सामना अपने ही मैदान पर दिल्ली डेयरडेविल्स से होगा.

दूसरा मुक़ाबला सनराइजर्स हैदराबाद और मुंबई इंडियंस के बीच खेला जाएगा.

जीत की चिंता

पहले मुक़ाबले में आमने-सामने होने वाली दिल्ली और बैंगलोर की टीमों में जीत की चिंता सिर्फ बैंगलोर को होगी.

बैंगलोर के 13 मैचों के बाद 15 अंक हैं. रविवार के मुक़ाबले प्ले ऑफ में टीमों की स्थिति को भी साफ करेंगे कि कौन सी टीम किस स्थान पर है.

इमेज कॉपीरइट AFP

दूसरी तरफ दिल्ली तो पहले ही प्ले ऑफ की दौड़ से बाहर हो चुकी है. उसके 12 मैचों के बाद केवल 10 अंक हैं और अंक तालिका में वह बस पंजाब से ऊपर सांतवें स्थान पर है.

उसके स्टार खिलाड़ी इस बार उसके लिए सबसे बड़ा सिरदर्द साबित हुए. चाहे वह मध्यम क्रम में खेलने वाले युवराज सिंह हों, आलराउंडर एंजलो मैथ्यूज़ हों, तेज़ गेंदबाज़ ज़हीर खान हों या फिर ख़ुद कप्तान जेपी डूमिनी ही क्यों ना हों.

हार का ठीकरा

जब हार का ठीकरा फोड़ना ही हो तो उसमें कुछ ही नाम क्यों शामिल हों. डूमिनी का बल्ला चला ज़रूर, लेकिन पिछले 10 मैचों में उनके बल्ले से तीन अर्धशतक निकले.

इमेज कॉपीरइट PTI

बाक़ी मैचों में वह भी कुछ ख़ास नहीं कर सके. युवराज तो ख़ैर अपने नाम की परछाई मात्र लगे. अभी तक खेले गए 13 मुक़ाबलों में उनके बल्ले से केवल 237 रन ही निकले और उन्होंने दो अर्धशतक बनाए हैं.

एंजलो मैथ्यूज़ तो 10 मैचों में 143 रन ही बना सके. ज़हीर भी फ़िटनेस कारणों से केवल 6 मैच ही खेल सके हैं और उन्होंने 7 विकेट लिए.

ख़ैर अब जब हार-जीत से टीम पर असर ही नहीं पड़ेगा तो अब रोना कैसा.

बैंगलोर भारी

वहीं बैंगलोर ने पिछले मुक़ाबले में हैदराबाद के ख़िलाफ़ कमाल का दमख़म दिखाया. बारिश से प्रभावित मैच में उन्होंने केवल 6 ओवर में जीत के लिए 81 रनों का लक्ष्य हासिल किया.

इमेज कॉपीरइट AFP

अब एक बार फिर बैंगलोर की नैया के खेवैया क्रिस गेल, विराट कोहली, एबी डिविलियर्स और दिनेश कार्तिक ही साबित होगें.

गेंदबाज़ी में मिचेल स्टार्क और दूसरे गेंदबाज़ों को अपना दम-ख़म दिखाना होगा. गेल और डिविलियर्स तो इस सीज़न में भी शतकीय पारी खेलने में कामयाब रहे हैं.

विराट भी गज़ब से आत्मविश्वास से भरे हैं.

कमाल की बात है कि केवल एक हार अब तक की सारी मेहनत पर पानी फेर सकती है तो एक जीत बेहद अहम साबित हो सकती है.

वैसे आंकड़ों में दोनों टीमें अभी तक 14 बार आमने-सामने हुई हैं जिनमें से 9 बार बैंगलोर और 5 बार दिल्ली जीती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार