आईपीएल फ़ाइनलः टक्कर का है मुक़ाबला

धोनी, रोहित शर्मा इमेज कॉपीरइट Getty

आईपीएल-8 का ख़िताबी मुक़ाबला रविवार को चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस के बीच कोलकाता में खेला जाएगा.

दोनों ही टीमें ख़िताब की प्रबल दावेदार हैं इसलिए इस महामुक़ाबले के संडे की शाम दिलचस्प होगी.

महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेल रही चेन्नई सुपर किंग्स में एक से बढ़कर एक जगमगाते सितारे हैं.

चेन्नई के सबसे अनुभवी तेज़ गेंदबाज़ आशीष नेहरा अब तक 22 विकेट अपने नाम कर चुके हैं. उनके दम पर चेन्नई दूसरे क्वॉलिफ़ायर में बीते शुक्रवार को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को तीन विकेट से मात देने में कामयाब रहा.

इमेज कॉपीरइट PTI

हालांकि यह जीत केवल एक गेंद शेष रहते नसीब हुई, जबकि लक्ष्य सिर्फ़ 140 रनों का था.

नेहरा ने केवल 28 रन देकर विराट कोहली, एबी डिविलियर्स और दिनेश कार्तिक जैसे धुरंधर बल्लेबाज़ों के विकेट लिए तो पासा पलट गया.

गेंदबाज़ी ही ताक़त

चेन्नई के ड्वेन ब्रावो को भी नहीं भूला जा सकता जो अभी तक 24 विकेट अपने नाम कर चुके हैं. आर अश्विन और मोहित शर्मा भी सधी गेंदबाज़ी कर रहे हैं.

वास्तव में गेंदबाज़ी ही चेन्नई की ताक़त है.

दूसरी तरफ रोहित शर्मा की कप्तानी में खेल रही मुंबई के तेज़ गेंदबाज़ लसिथ मलिंगा भी फ़ॉर्म में है. उन्होंने अभी तक 22 विकेट अपने नाम कर लिए हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI

अनुभवी ऑफ़ स्पिनर हरभजन सिंह ने पहले क्वॉलिफ़ायर में अपना जादू दिखाया ही था.

उन्होंने चेन्नई के ख़िलाफ़ लगातार दो गेंदों पर धोनी और सुरेश रैना के विकेट लेकर स्टेडियम में दर्शकों के साथ-साथ चयनकर्ताओं का मन भी मोह लिया.

उन्हें बांग्लादेश के ख़िलाफ़ आगामी टेस्ट सिरीज़ में भारतीय टीम में शामिल होने का इनाम ही हाथों-हाथ मिल गया.

आर विनय कुमार और किरेन पोलार्ड भी अपना जलवा दिखा ही देते हैं. पोलार्ड ने तो कोलकाता के ख़िलाफ़ आख़िरी ओवर में पीयूष चावला को जैसे परेशान किया और मैच जिताया उसे कौन भूल सकता है.

जमकर होगी जंग

इमेज कॉपीरइट Getty

बल्लेबाज़ी को देखें तो चेन्नई को मैक्कुलम की कमी तो खल रही है लेकिन माइक हसी ने धोनी को निराश नहीं किया और बैंगलोर के ख़िलाफ़ 54 रन ठोके.

ख़ुद कप्तान धोनी ने भले ही रन तो 26 बनाए लेकिन टीम को संकट से निकाल लिया. सुरेश रैना और फैफ डू प्लेसिस और ड्वेन स्मिथ को अब फ़ाइनल में अपना दमख़म दिखाना होगा.

मुंबई के लिए राहत की बात यह है कि अब पार्थिव पटेल भी रन बना रहे है. लेंडल सिमेंस और ख़ुद रोहित शर्मा और पोलार्ड कभी भी मैच का नक्शा बदल सकते है.

इमेज कॉपीरइट PTI

चेन्नई इससे पहले साल 2010 और 2011 में चैंपियन रह चुकी है और 2013 में मुंबई से ही फ़ाइनल में हारी थी लिहाज़ा धोनी के धुरंधरों और रोहित शर्मा के शेरों के बीच चैंपियन बनने के लिए जमकर जंग होने की उम्मीद है.

कोलकाता में फ़ाइनल खेलने से पहले वैसे दोनों टीमें अभी तक 21 बार आमने-सामने हुई है, जिनमें 11 बार मुंबई और 10 बार चेन्नई जीती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार