'फ़ीफ़ा ने 2010 विश्व कप के लिए ली थी घूस'

  • 27 मई 2015
एटार्नी जनरल, लॉरेटा लिंच इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption अमरीकी एटार्नी जनरल लॉरेटा लिंच जाँच का ब्योरा दे रही थीं.

अमरीकी एटॉर्नी जनरल लॉरेटा लिंच के मुताबिक फ़ीफ़ा अधिकारियों ने साल 2010 के विश्व कप के आयोजन के अधिकार दक्षिण अफ़्रीका को दिलाने के लिए कथित तौर पर घूस लिया था.

लिंच विश्व फ़ुटबॉल की संचालक संस्था फ़ीफ़ा की भ्रष्टाचार के मामले में चल रही जाँच का ब्योरा दे रही थीं.

उन्होंने फ़ीफ़ा पर 2011 के अध्यक्ष चुनाव और 2016 में अमरीका में होने वाले कोपा अमरीकी टूर्नामेंट में भी घूसखोरी का आरोप लगाया.

लिंच ने कहा, "फ़ीफ़ा के अधिकारियों ने अपने पद का दुरुपयोग किया और घूस ली. उन्होंने बार-बार, साल दर साल, एक के बाद एक टूर्नामेंटों के दौरान ऐसा किया."

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption फ़ीफ़ा के गिरफ़्तार अधिकारी

इससे पहले फ़ीफ़ा के सात खेल अधिकारी भ्रष्टाचार के आरोप में स्विट्जरलैंड में गिरफ़्तार किए गए थे.

इन सात अधिकारियों समेत फ़ीफ़ा के 14 अधिकारियों पर घूस और कमीशन लेने के आरोप की जाँच हो रही है.

माना जा रहा है कि पिछले 24 सालों में 15 करोड़ डॉलर कथित तौर पर घूस या कमीशन के रूप में लिए गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार