'वर्ल्ड कप फ़ुटबाल की मेज़बानी के लिए घूस'

चक ब्लेज़र इमेज कॉपीरइट AP

फ़ुटबाल के खेल की देखरेख करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था फ़ीफ़ा के पूर्व अधिकारी चक ब्लेज़र ने अदालत में यह स्वीकार किया है कि दक्षिण अफ्रीका में फुटबॉल विश्व कप आयोजन के लिए रिश्वत ली गई थी.

उनका कहना है कि उन्होंने और फ़ीफ़ा की कार्यकारी समिति के सदस्यों ने साल 2010 में दक्षिण अफ्रीका को विश्व कप की मेज़बानी देने के लिए रिश्वत ली थी.

अख़बार, द अमेरिकन, का कहना है कि ब्लेज़र ने वर्ष 1998 के विश्व कप में भी रिश्वत ली थी.

'24 साल, 15 करोड़'

अमरीकी अभियोजन पक्ष ने पिछले हफ़्ते फुटबॉल में भ्रष्टाचार के मामले को लेकर आपराधिक जांच शुरू की थी और 14 के ख़िलाफ़ आरोप पत्र दाखिल किया था.

इमेज कॉपीरइट AP

फ़ीफ़ा के अध्यक्ष सेप्प ब्लैटर ने मंगलवार को कहा था कि वह अपने पद से त्यागपत्र दे रहे हैं जबकि इससे दो दिन पहले उन्हें पांचवीं बार फ़ीफ़ा अध्यक्ष चुना गया था.

अमरीकी न्याय विभाग ने आरोप लगाया है कि 24 साल की अवधि में 15 करोड़ डॉलर की रिश्वत दी गई है.

अमरीका की ओर से जिन 14 लोगों पर अवैध रूप से पैसे के लेनदेन का आरोप लगाया गया था. इनमें फ़ीफ़ा के सात जूनियर अधिकारियों के अलावा दो उपाध्यक्ष भी थे.

इन 14 आरोपियों में से सात को स्विट्जरलैंड में गिरफ्तार किया गया था.

इमेज कॉपीरइट chuckblazer.blogspot.co.uk

चक ब्लेज़र के अपराध स्वीकार करने का विवरण अभियोजन पक्ष की ओर से ईस्टर्न न्यूयॉर्क ज़िला न्यायालय में साल 2013 में हुई सुनवाई की रिपोर्ट, पेश किए जाने के बाद सामने आया है.

'वैध थी राशि'

चक ब्लेज़र 1990 से 2001 तक फ़ीफ़ा के उत्तर और मध्य अमरीका और कैरेबियन क्षेत्र के दूसरे सबसे महत्वपूर्ण अधिकारी थे. वह 1997 से 2013 तक फ़ीफ़ा की कार्यकारी समिति के सदस्य भी रहे थे.

ब्लेज़र का कहना है कि उन्होंने 2004 की शुरुआत में या उसके आसपास और वर्ष 2011 में, और फ़ीफ़ा की कार्यकारी समिति के अन्य सदस्यों ने 2010 के विश्व कप की मेज़बानी के लिए दक्षिण अफ्रीका के चयन के लिए रिश्वत लेने की हामी भरी थी.

चक ब्लेज़र अमरीका में जांच में सहयोग का आश्वासन दिया है.

इमेज कॉपीरइट Getty

इससे पहले दक्षिण अफ्रीका ने वर्ष 2010 के फुटबॉल विश्व कप दक्षिण अफ्रीका में आयोजित करवाने के लिए फ़ीफ़ा को एक करोड़ डॉलर रिश्वत देने से इनकार किया था.

दक्षिण अफ्रीका के खेल मंत्री फ़िकेले मालुला ने कहा था कि यह राशि कैरेबियन में अफ्रीकी प्रवासियों में फुटबॉल को बढ़ावा देने के इरादे से दी गई थी और वैध थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार