भारत के लिए आज जीत ज़रूरी

महेंद्र सिंह धोनी इमेज कॉपीरइट AFP

भारत और बांग्लादेश के बीच तीन एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैचों की सिरीज़ का दूसरा मैच रविवार को मीरपुर के शेर-ए-बांग्ला नेशनल स्टेडियम में खेला जाएगा.

पहले मैच में बांग्लादेश ने शानदार प्रदर्शन करते हुए भारत को 79 रन से शिकस्त दी. भारतीय टीम को अब सिरीज़ में बने रहने के लिए दूसरे मैच को हर हाल में जीतना होगा.

बांग्लादेश की टीम अगर यह मैच भी जीत जाती है तो वह सिरीज़ में 2-0 की अपराजेय बढ़त बना लेगी और भारत के ख़िलाफ़ यह उसकी पहली वनडे सिरीज़ जीत होगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले मैच में मेज़बान टीम ने इस मैच में खेल के हर क्षेत्र में भारत को मात दी.

उसकी सलामी जोड़ी तमीम इक़बाल और सौम्य सरकार ने 13.4 ओवर में 102 रन जोड़े. यह भारत के ख़िलाफ़ बांग्लादेश की पहले विकेट के लिए सबसे बड़ी साझेदारी थी.

इसके अलावा बांग्लादेश ने पहली बार भारत के ख़िलाफ तीन सौ से अधिक रन बनाते हुए 307 रन बनाए.

भारी बांग्लादेश

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत के चोटी के पांच बल्लेबाज़ महज़ 128 रन पर पैवेलियन कूच कर गए थे.

बांग्लादेश के गेंदबाज़ों ख़ासकर तेज़ गेंदबाज़ मुस्तफिज़ुर रहमान ने बढ़िया गेंदबाज़ी की.

विकेट में बहुत अधिक उछाल नहीं था, लेकिन इस ख़ब्बू गेंदबाज़ ने ग़ज़ब की नियंत्रित गेंदबाज़ी करते हुए पांच विकेट हासिल किए.

धोनी रन लेते समय रहमान से टकरा गए और उन्हें अपनी 75 प्रतिशत मैच फ़ीस गंवानी पड़ी. रहमान की भी 50 प्रतिशत मैच फ़ीस काटी गई.

पहले मैच में उमेश यादव, भुवनेश्वर कुमार और मोहित शर्मा की तिकड़ी ने केवल 19.4 ओवर में 148 रन लुटाए.

इमेज कॉपीरइट AFP

धोनी ने बाद में कहा कि बांग्लादेश के बल्लेबाज़ों ने हमारी गेंदबाज़ी पर जमकर प्रहार किए.

हौसले बुलंद

भारत और बांग्लादेश के बीच सिरीज़ को इससे पहले शायद ही कभी इतनी चर्चा मिली हो, लेकिन पाकिस्तान के ख़िलाफ़ किए गए शानदार प्रदर्शन ने बांग्लादेश की छवि बदल दी है.

पाकिस्तान को 3-0 से हराने के बाद अब भारत से मौजूदा एकदिवसीय सिरीज़ में 1-0 की बढ़त ने बांग्लादेश के हौसले और भी बुलंद कर दिए हैं.

भारत के बल्लेबाज़ों ख़ासकर विराट कोहली को अपने विकेट की उपयोगिता समझनी होगी.

उनका और अजिंक्य रहाणे का सस्ते में आउट होना बांग्लादेश के लिए वरदान साबित हुआ.

बांग्लादेश अगर दूसरा मैच भी जीत जाता है तो उसके लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि होगी.

अब दबाव भारत पर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार