धोनी-श्रीनिवासन युग बस अंतिम पड़ाव पर

धोनी, श्रीनिवासन इमेज कॉपीरइट PTI

क्रिकेट अनिश्चितताओं का ही खेल है और ऑफ़-स्पिनर हरभजन सिंह के ज़हन में ये ख्याल बार-बार आ रहा होगा.

इसी वर्ष ऑस्ट्रेलिया और विश्व कप में टीम से बाहर रहे हरभजन का करियर ख़त्म समझा जा रहा था लेकिन एकाएक आईपीएल में सितारा चमका जिसके चलते बांग्लादेश दौरा मिला और फ़ॉर्म भी लौट आया.

10 जुलाई से ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ होने वाली एक दिवसीय और टी-20 श्रंखला में भज्जी भारतीय टीम के सबसे वरिष्ठ सदस्य बनकर खेलने वाले हैं.

अब ज़रा अजिंक्य रहाणे की किस्मत पर नज़र दौड़ाइए. ओपनर के तौर पर शुरुआती क्रिकेट खेलने वाले रहाणे को इसी महीने ख़त्म हुए बांग्लादेश दौरे में मौका मिला.

मैच में बाहर

इमेज कॉपीरइट AP

पहले एक दिवसीय मैच में उन्होंने नौ रनों का योगदान दिया और भारत भले ही अगला मैच भी हार गया हो लेकिन कप्तान धोनी ने उन्हें इस मैच में बाहर बैठा दिया.

धोनी का तर्क था, "रहाणे कुछ पिचों पर अच्छा खेलते हैं लेकिन कुछ पिचों पर उन्हें स्ट्राइक रोटेट करने में मुश्किल होती है. अभी उन्हें और समय लगेगा".

कैप्टेन 'कूल' धोनी आज शायद अपने बयान को 'कोस' रहे होंगे क्योंकि ज़िम्बाब्वे के आगामी दौरे के लिए अजिंक्य रहाणे कप्तान होकर जा रहे हैं.

एक हफ़्ते पहले तक रहाणे के टीम में रहने के भविष्य को लेकर कयास लग रहे थे पर अब वे टीम कोच के साथ फ़ैसला लेंगे कि ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ मैदान में 10 दूसरे खिलाड़ी कौन से उतरेंगे.

'आराम' दिया जाना लाज़मी

इमेज कॉपीरइट PTI

हालांकि धोनी, कोहली, रोहित शर्मा, अश्विन और रैना जैसे खिलाड़ी पिछले कई महीनों से लगातार खेल रहे थे और उन्हें 'आराम' दिया जाना लाज़मी ही था.

लेकिन रवीन्द्र जडेजा का टीम से ड्रॉप किया जाना भी कोई छोटा ‘संकेत’ नहीं है.

जडेजा टी-20 और एकदिवसीय क्रिकेट के स्पेशलिस्ट माने जाते हैं और चयनकर्ताओं ने साफ़ कह दिया है कि जडेजा 'आराम' वाली लिस्ट का हिस्सा नहीं हैं.

फरवरी-मार्च के ऑस्ट्रेलिया दौरे और विश्व कप के दौरान भी जडेजा के फ़ॉर्म पर सवाल उठते रहे हैं लेकिन कप्तान धोनी का उनमें 'अटूट' विश्वास रहा है.

विवाद

इमेज कॉपीरइट Reuters

जडेजा चेन्नई सुपरकिंग्स की तरफ से आईपीएल खेलते हैं और वहां पर धोनी उनके कप्तान हैं.

वैसे भी बांग्लादेश दौरे में मिली हार के बाद धोनी ने कहा था, "मेरे कप्तानी छोड़ देने से सब ठीक हो जाएगा तो मैं बतौर खिलाड़ी खेलने के लिए तैयार हूँ".

धोनी के इस बयान पर हुए विवाद के बावजूद टीम इंडिया और चेन्नई सुपरकिंग्स में उनके सहयोगी खिलाडियों सुरेश रैना और आर अश्विन खुलकर धोनी के समर्थन में आए.

चेन्नई सुपरकिंग्स और इंडिया सीमेंट्स के मालिक एन श्रीनिवासन की भी मुश्किलें पिछले एक वर्ष में काफी बढ़ गईं लगतीं हैं.

कोर्ट के आदेश के बाद उन्हें बीसीसीआई अध्यक्ष का पद छोड़ना पड़ा और आईसीसी प्रमुख का भी उनका कार्यकाल ख़त्म हो चुका है.

इशारे साफ़ कहते हैं कि भारतीय क्रिकेट में बदलाव ख़ासा तेज़ हो रहा है.

क्रिकेट वाकई में अनिश्चितताओं का खेल है!

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार