सारकोज़ी-वुल्फ ने बनाया था दबाव: ब्लैटर

  • 5 जुलाई 2015
सेप ब्लैटर इमेज कॉपीरइट AFP

फुटबॉल पर नियंत्रण रखने वाली संस्था फीफ़ा के अध्यक्ष सेप ब्लैटर ने आरोप लगाया है कि फ्रांस और जर्मनी ने रुस और क़तर को वर्ल्ड कप की मेजबानी देने को लेकर राजनीतिक दबाव का इस्तेमाल किया.

रुस को 2018 और क़तर को 2022 वर्ल्ड कप की मेजबानी मिली है. भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते ब्लैटर अपने पद से इस्तीफ़ा दे चुके हैं.

'सारकोज़ी ने डाला दबाव'

जर्मनी के एक अख़बार से बातचीत में ब्लैटर ने आरोप लगाया कि फ्रांस और जर्मनी के पूर्व राष्ट्रपतियों निकोला सारकोज़ी और क्रिस्चयन वुल्फ ने मतदान के पहले अपने देश के प्रतिनिधियों को प्रभावित करने की कोशिश की.

उन्होंने कहा, " सारकोज़ी और वुल्फ ने अपने प्रतिनिधियों को प्रभावित करने की कोशिश की. इसीलिए क़तर को वर्ल्ड कप की मेजबानी मिली. जिन्होंने ये तय किया उन्हें इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए."

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक उन्होंने इस ओर इशारा किया कि वुल्फ ने आर्थिक हितों की वजह से जर्मन फुटबॉल फेडरेशन को क़तर के लिए वोट करने को कहा.

किसकी जिम्मेदारी?

इमेज कॉपीरइट Reuters

भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर एफबीआई ब्लैटर की जांच कर रही है.

ब्लैटर ने कहा है कि जिन चीजों पर उनका कोई नियंत्रण नहीं है, उनकी जिम्मेदारी लेते हुए वो थक चुके हैं. ब्लैटर का कहना है कि वो अब फीफा को बचाने पर ध्यान लगा रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार