शटलकॉक तक नहीं मिलती: ज्वाला

  • 6 जुलाई 2015
इमेज कॉपीरइट pr

लंदन ओलंपिक में मेडल से चूकी ज्वाला गुट्टा आज भी उस हार से उबर नहीं पाई हैं.

लेकिन अब ज्वाला का लक्ष्य अन्य भारतीय खिलाड़ियों की तरह रिओ ओलंपिक्स 2016 से मेडल लाना है.

हालांकि मेडल की तैयारी में जुटी ज्वाला गुट्टा बैडमिंटन में मिल रही सुविधाओं से नाखुश हैं.

ज्वाला कहती हैं, "भारत में डबल्स बैडमिंटन के साथ सौतेला व्यवहार किया जाता है. जैसी सिंगल्स खिलाड़ियों को सुविधाएं मिलती हैं वैसी हमें नहीं मिलती. हालात इतने बुरे हैं कि अपनी शटलकॉक के लिए पैसे खुद देने पड़ते हैं, बाकी सुविधाएं तो दूर की बात."

टॉप्स स्कीम में नाम नहीं

इमेज कॉपीरइट JWALA GUTTA

रिओ ओलंपिक के लिए खिलाड़ियों को तैयार करने के लिए भारत सरकार ने टॉप्स (TOPS) स्कीम का ऐलान किया है.

टॉप्स (TOPS) का मतलब है - टारगेट ओलंपिक पोडियम स्कीम - इस स्पेशल स्कीम के तहत भारतीय बैडमिंटन संघ को 30 करोड़ रुपये का बजट मिला है.

बैडमिंटन एसोसिएशन ये रकम चुनिंदा खिलाड़ियों की ओलंपिक तैयारी पर ख़र्च करेगा. ये वो खिलाड़ी होंगे जिनसे एसोसिएशन को उम्मीद है कि वो ओलंपिक से मेडल लाने में सफल होंगे.

लेकिन इस सूची में ज्वाला और उनकी जोड़ीदार अश्विनी पोनप्पा का नाम नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Jwala Pr

इस बात से नाखुश ज्वाला गुट्टा का कहना है, "हमने भारत के लिए इतने मेडल और चैंपियनशिप जीते हैं और अब हमें मेडल लाने के काबिल नहीं माना जाता तो बुरा लगता है. टॉप्स स्कीम मेरा हक़ है. इस स्कीम में कई ऐसे नाम हैं जो ओलंपिक में क्वालीफाई भी नहीं होंगे, लेकिन हम क्वालीफाई हो जाएंगे."

'अच्छे कोच के लिए भीख'

बैडमिंटन में सिंगल्स और डबल्स खेल के लिए अलग-अलग कोच रखे जाते हैं. भारत की डबल्स बैडमिंटन टीम का कोई कोच नहीं रहा है.

इस बारे में बैडमिंटन सिंगल्स खिलाड़ी जैसे साइना नेहवाल और के श्रीकांत का उदाहरण देते हुए ज्वाला गुट्टा ने कहा, "सिंगल्स के खिलाड़ियों के पास सब कुछ है - कोच, सुविधाएँ, ट्रेनर, फिजियो और ये सब होना भी चाहिए क्योंकि उन्होंने बड़े खिताब जीते हैं, पर हम भी कम नहीं हैं."

इमेज कॉपीरइट AFP

ज्वाला कहती हैं कि पिछले तीन सालों से वो बैडमिंटन एसोसिएशन से एक अच्छे डबल्स कोच की भीख मांग रही हैं. उनकी इस फ़रियाद को अब सुना गया है जब मलेशिया के टेन किम हर को भारतीय बैडमिंटन डबल्स का कोच नियुक्त किया है.

इस पर ज्वाला कहती हैं, "अच्छा है कि हमारी बात सुन ली लेकिन अब इसका कितना फायदा होगा ये तो बाद में पता चलेगा."

हाल ही में ज्वाला गुट्टा अपनी जोड़ीदार अश्विनी पोनप्पा के साथ कनाडा ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट मे वूमंस डबल का खिताब जीतकर लौटी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार