संडे सुपर मुक़ाबला: साइना का पलड़ा भारी

  • 16 अगस्त 2015
साइना नेहवाल इमेज कॉपीरइट AFP

इंडोनेशिया के जकार्ता में खेली जा रही वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारत की साइना नेहवाल के पास आज इतिहास रचने का मौका है.

विश्व रैंकिंग में दो नंबर की खिलाड़ी साइना का सामना स्पेन की कैरोलिना मारिन से होगा.

जकार्ता में हुए सेमीफ़ाइनल में साइना ने इंडोनेशिया की लिंडावेनी फानेत्री को दो गेम में 21-17, 21-17 से हराया था.

साइना इस टूर्नामेंट के फ़ाइनल में पहुँचने वाली भारत की पहली खिलाड़ी हैं.

दूसरी ओर, स्पेनिश खिलाड़ी मारिन ने दक्षिण कोरिया की संग जी ह्यूआन को 21-17, 15-21, 21-16 से हराकर फ़ाइनल मे जगह बनाई है.

साइना का पलड़ा भारी

इमेज कॉपीरइट

रिकॉर्ड की बात करें तो मारिन के ख़िलाफ़ साइना का पलड़ा अब तक भारी रहा है.

साइना और मारिन का अब तक चार बार आमना-सामना हुआ है. जिसमें से तीन बार साइना ने जीत दर्ज की है, जबकि मारिन सिर्फ़ एक बार ही साइना को शिकस्त दे सकी हैं.

साइना अगर हार भी जाती हैं तो उन्हें रजत पदक मिलेगा और वर्ल्ड चैंपियनशिप में ये भारत का पाँचवां पदक होगा.

इससे पहले, पीवी सिंधु ने 2013 और 2014 में इस टूर्नामेंट का कांस्य पदक हासिल किया था. 2011 में ज्वाला गट्टा और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी ने डबल्स का कांस्य पदक जीता था.

1983 में प्रकाश पादुकोण वर्ल्ड चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाले पहले भारतीय थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार