एथलेटिक्सः बोल्ट को चीन में लगेगा झटका?

  • 22 अगस्त 2015
उसेन बोल्ट इमेज कॉपीरइट Reuters

चीन के बीजिंग नेशनल स्टेडियम में शनिवार से 15वीं विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप शुरू होने जा रही है.

17 भारतीय एथलीटों समेत दुनिया भर के बेहतरीन एथलीट इस प्रतियोगिता में उतरेंगे.

ख़ास तौर से जमैका के सुपर स्टार धावक उसेन बोल्ट पर सबकी नज़रें रहेंगी.

डिस्कस थ्रो में भारत के विकास गौडा और शॉट पुट थ्रो में इंद्रजीत सिंह भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे.

विकास गौडा ने ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक अपने नाम किया था.

इसके अलावा वह पिछले साल चीन के ग्वांगझो में आयोजित एशियन खेलों में रजत पदक जीत चुके हैं.

भारतीय दल

एथलेटिक्स की पैदल चाल स्पर्धा में भारत पुरुष वर्ग में पांच और महिला वर्ग में दो एथलीट उतार रहा है.

इमेज कॉपीरइट AP

पुरुषों की 20 किलोमीटर पैदल चाल स्पर्धा में भारत के बिजेंद्र सिंह, गुरमीत सिंह, चंदन सिंह और महिला वर्ग में खुशबीर कौर और सपना भाग लेंगी.

पुरुषों की 50 किलोमीटर पैदल चाल में भारत के मनीष सिंह रावत और संदीप कुमार हिस्सा लेंगे.

पिछले कुछ समय से भारत की उम्मीदों के रूप में उभरी टिंटू लुका महिलाओं की 800 मीटर दौड में हिस्सा लेंगी.

कभी स्वर्णपरी कहलाने वाली भारत की जानी-मानी एथलीट पीटी ऊषा की शिष्या टिंटू लुका ने इसी साल वुहान में हुई एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था.

अंतराष्ट्रीय स्तर पर यह व्यक्तिगत रूप से उनकी पहली सबसे बड़ी कामयाबी रही. वह ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में उस 4 गुना 400 मीटर रिले टीम का भी हिस्सा थी जिसने स्वर्ण पदक जीता था.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption टिंटू लुका ने इसी साल वुहान में हुई एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था.

महिलाओं की 5,000 मीटर दौड़ और मैराथन में ओपी जैशा हिस्सा लेंगी. मैराथन में ही इनके अलावा सुधा सिंह और ललिता बाबर भी अपना-अपना दावा पेश करेंगी.

ललिता बाबर मैराथन के अलावा 3000 मीटर स्टिपलचेस में भी हिस्सा लेंगी.

इनके अलावा महिलाओं की 4 गुना 400 मीटर दौड में भारत की टिंटू लुका, जैशना मैथ्यू, अनु राघवन, एम, आर, पुवाम्मा और देबश्री मजूमदार भाग लेंगी.

विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भारत के लिए पहला पदक लम्बी कूद में अंजू बॉबी जॉर्ज ने साल 2003 में पेरिस में कांस्य पदक के रूप में जीता था.

उसके बाद साल 2005 में मोंटे कार्लो में विश्व एथलेटिक्स फाइनल्स में उन्होंने रजत पदक जीता था लेकिन अंतराष्ट्रीय एथलेटिक्स फेडेरेशन ने जब रूस की तात्याना कोतोवा को डिस्क्वालीफाइ कर दिया तो उन्हें स्वर्ण पदक दिया गया.

इमेज कॉपीरइट PIB

विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भारत की यह एकमात्र उपलब्धि है.

फॉर्म में हैं बोल्ट

विश्व चैंपियनशिप के पहले ही दिन शनिवार को जमैका के सुपर स्टार धावक उसेन बोल्ट 100 मीटर हीट में उतरेंगे.

बोल्ट ने यहीं साल 2008 में बीजिंग ओलंपिक में तीन स्वर्ण पदक जीते थे. विश्व चैंपियनशिप में बोल्ट के नाम 8 स्वर्ण पदक है.

वैसे पिछले दिनों बोल्ट ने डायमंड लीग चैंपियनशिप में 100 मीटर दौड 9.87 सेकंड में जीत कर दिखा दिया था कि उन्हें पछाड़ना आसान नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Getty

बोल्ट के अलावा शनिवार को ही ब्रिटेन के मो फराह 10,000 मीटर दौड़ में अपने छठे ख़िताब की तलाश में उतरेंगे.

पुरुषों की मैराथन में युगांडा के स्टीफन किपरोटिच और महिलाओं की हेप्टाथलन में ब्रिटेन की जेसिका एनिस हाल और कैटरीना जानसन थाम्पसन और कनाडा की ब्रियानो थेइसेन के बीच कड़ा संघर्ष होने की उम्मीद है.

लेकिन इस चैंपियनशिप का आयोजन ऐसे समय हो रहा है जब विश्व एथलेटिक्स दुनिया ड्रग सेवन के आरोपों का भी सामना कर रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार