महिला हॉकी का 36 साल का 'वनवास' ख़त्म

  • 29 अगस्त 2015
फ़ाइल फोटो इमेज कॉपीरइट HOCKEY INDIA

भारतीय महिला हॉकी टीम को 36 साल के लंबे अंतराल के बाद ओलंपिक में खेलने का मौका मिलेगा.

लंदन में यूरोहॉकी चैंपियनशिप में इंग्लैंड के फ़ाइनल में पहुँचने के साथ भारतीय महिला हॉकी टीम अगले साल रियो में होने वाले ओलंपिक खेलों के लिए क्वालीफ़ाई कर गई.

यूरोहॉकी के पहले सेमीफ़ाइनल में इंग्लैंड ने स्पेन को मात दी, जबकि दूसरे सेमीफ़ाइनल में नीदरलैंड्स ने जर्मनी को हराया. क्योंकि दोनों ही टीमें पहले ही ओलंपिक के लिए क्वालीफ़ाई कर चुकी थी, इसलिए ओलंपिक के लिए बचा एक टिकट भारत को मिल गया.

बेल्जियम का प्रदर्शन काम आया

भारत ने पिछले महीने बेल्जियम के एंटवर्प में हॉकी वर्ल्ड लीग सेमीफ़ाइनल में पाँचवां स्थान हासिल कर ओलंपिक में पहुंचने की संभावनाएं प्रबल की थीं.

इमेज कॉपीरइट AFP

अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ ने रियो ओलंपिक के लिए भारतीय महिला टीम के क्वालीफ़ाई करने की पुष्टि की. महासंघ ने एक बयान में कहा, "लंदन में यूरोहॉकी चैंपियनशिप में इंग्लैंड के स्पेन को हराने के साथ ही भारत रियो के लिए क्वालीफ़ाई कर गया है."

रियो के लिए क्वालीफ़ाई करने वाली अन्य टीमों में दक्षिण कोरिया, अर्जेंटीना, इंग्लैंड, चीन, जर्मनी, नीदरलैंड्स, ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड और अमरीका शामिल हैं.

भारतीय महिला टीम ने आख़िरी बार 1980 के मास्को ओलंपिक खेलों के लिए क्वालीफ़ाई किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार