कोहली ने वो किया जो पहले कोई नहीं कर पाया

इमेज कॉपीरइट AFP

भारतीय टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ कि विदेशी ज़मीन पर खेली गई किसी सिरीज़ में पिछड़ने के बाद भारत ने जीत का डंका बजाया हो.

तीन टेस्ट मैचों की सिरीज़ में गॉल में पहले टेस्ट की दूसरी पारी को छोड़कर भारतीय बल्लेबाज़ पूरी तरह से श्रीलंकाई गेंदबाज़ों पर हावी रही.

मौजूदा भारतीय टीम के किसी भी खिलाड़ी के पास श्रीलंका में सिरीज़ जीत की यादें नहीं हैं.

22 साल बाद लांघा पुल

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत ने पिछली बार श्रीलंका को उसकी ज़मीन पर 22 साल पहले 1993 में हराया था.

तब भारतीय टीम की कमान मोहम्मद अज़हरुद्दीन के हाथों में थी और कपिल देव भी टीम का हिस्सा थे.

टीम में सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, सौरभ गांगुली, वीरेंद्र सहवाग, अनिल कुंबले और महेंद्र सिंह धोनी जैसे दिग्गज खिलाड़ी भी रहे, लेकिन लंका को फ़तह नहीं कर सके.

सिरीज़ में पिछड़ने के बाद वापसी करना आसान नहीं होता और आंकड़े इस बात के गवाह हैं कि घर हो या बाहर यह तीसरा मौक़ा था, जब भारत टेस्ट सिरीज़ में पिछड़ने के बाद जीत दर्ज करने में कामयाब रहा हो.

इमेज कॉपीरइट AFP

पहली बार भारत ने 1972 में ऐसा कारनामा किया था जब दिल्ली में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ पहला टेस्ट 6 विकेट से गंवाने के बाद भारत ने कोलकाता टेस्ट 28 रन और चेन्नई टेस्ट 4 विकेट से जीता था. कानपुर और मुंबई में खेले गए अगले दो टेस्ट बेनतीजा रहे थे और इस तरह भारत ने 5 मैचों की सिरीज़ 2-1 से अपने नाम की थी.

इसके बाद भारत ने पिछड़ने के बाद सिरीज़ जीती थी 2001 में ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़. मुंबई टेस्ट गंवाने के बाद भारत ने ऑस्ट्रेलिया को कोलकाता और चेन्नई में मात दी थी.

विराट का भरोसा

इमेज कॉपीरइट AFP

गॉल टेस्ट गिरफ़्त में होने के बावजूद शिकस्त मिलने पर कप्तान विराट कोहली की जमकर आलोचना हुई थी.

लेकिन कोहली ने अपनी युवा और कम अनुभवी खिलाड़ियों की ब्रिगेड पर भरोसा बनाए रखा. ख़ासकर रविचंद्रन अश्विन और अमित मिश्रा ने अपनी फिरकी से साबित किया कि उपमहाद्वीप के विकेटों पर स्पिनरों को नज़रअंदाज़ करना कितना ग़लत फ़ैसला था.

इमेज कॉपीरइट AFP

अश्विन ने सिरीज़ में 21 विकेट और लंबे समय बाद भारतीय टीम में वापसी करने वाले अमित मिश्रा ने 15 विकेट चटकाए.

इसके अलावा कोहली ने दिल्ली के साथी ईशांत शर्मा का भी बख़ूबी इस्तेमाल किया, ख़ासकर तीसरे टेस्ट में. ईशांत ने इस मैच में कुल मिलाकर आठ विकेट लिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार