'विराट को मैदान पर संयम बरतने को कहा था'

  • 5 सितंबर 2015
विराट कोहली इमेज कॉपीरइट AFP

भारतीय क्रिकेट टीम ने श्रीलंका में पिछले दिनों टेस्ट सिरीज़ जीतकर न सिर्फ़ 22 साल का सूखा ख़त्म किया, वहीं विराट कोहरी की कप्तानी में ये पहली टेस्ट जीत रही.

टीम इंडिया ने तीन टेस्ट मैचों की सिरीज़ 2-1 से अपने नाम की.

एक तरफ जहां भारतीय क्रिकेट टीम दबाव के दौर से निकलकर एक परिपक्कव टीम के रूप में उभरी वही श्रीलंकाई टीम बदलाव के दौर का शिकार हो गई.

विराट कोहली जो बेहद आक्रामक खिलाड़ी और कप्तान माने जाते हैं, उनके बदले हुए तेवर को लेकर उनके कोच और पूर्व खिलाड़ी राजकुमार शर्मा ने बीबीसी से बात की.

कामयाब रही रणनीति

राजकुमार शर्मा ने विराट की कामयाबी पर कहा, "एकदिवसीय क्रिकेट में भारत के कई खिलाड़ी पिछले काफी समय से एक साथ खेल रहे हैं जिसका फायदा उन्हें मिला."

वो आगे कहते हैं, "इसके बावजूद टेस्ट क्रिकेट के लिहाज़ से यह एक अनुभवहीन टीम थी. यहां तक कि शिखर धवन और मुरली विजय के चोटिल होने से टीम की समस्या बढ़ गई थी इसके बावजूद खिलाड़ियों ने शानदार बल्लेबाज़ी की."

राजकुमार शर्मा कहते हैं कि विराट कोहली ने बेहद सकारात्मक कप्तानी की और मैच में 20 विकेट लेने की कोशिश में पांच गेंदबाज़ खिलाने की उनकी रणनीति कामयाब रही.

राजकुमार शर्मा कहते है कि ख़ुद उन्होंने विराट से मैदान पर संयमित रहने को कहा था.

कामयाबी मिलने पर आक्रामकता आती है

इमेज कॉपीरइट Reuters

वहीं तेज़ गेंदबाज़ ईशांत शर्मा के आक्रामक व्यवहार की इन दिनों बेहद चर्चा है. उन पर एक मैच का प्रतिबंध भी लगाया गया है.

इसे लेकर उनके कोच श्रवण कुमार ने बीबीसी से ख़ास बातचीत में कहा कि जब कामयाबी मिले तो थोड़ी आक्रामकता भी आ जाती है.

हालांकि उन्होंने कहा, "इतनी भी आक्रामकता ईशांत को नहीं दिखानी चाहिए थी कि उन पर एक मैच का प्रतिबंध ही लग गया."

इसके बावजूद श्रवण कुमार ख़ुश हैं कि ईशांत शर्मा ने टेस्ट क्रिकेट में 200 विकेट लेने का उनका आग्रह इसी सिरीज़ में 13 विकेट लेकर पूरा कर दिखाया.

हर नंबर पर सफल हैं रहाणे

इमेज कॉपीरइट Getty

दूसरी तरफ अजिंक्य रहाणे के कोच और भारत के पूर्व बल्लेबाज़ लालचंद राजपूत कहते हैं कि रहाणे की तकनीकी मज़बूती उन्हें किसी भी नंबर पर कामयाब बनाती है.

अब जबकि दक्षिण अफ्रीका से टेस्ट सिरीज़ में थोड़ा समय है तब तक शिखर धवन और मुरली विजय फिट हो जाएंगे और सबका बैटिंग ऑर्डर भी तय हो जाएगा.

अमित मिश्रा के कोच संजय भारद्वाज भी ख़ुश हैं कि अमित मिश्रा ने 15 विकेट लेकर अपना काम बख़ूबी किया.

संजय भारद्वाज इसका श्रेय विराट कोहली को देते हुए कहते हैं कि कप्तान के भरोसे पर इस बार मिश्रा ने खुलकर गेंदबाज़ी की.

उन्होंने कहा, "अमित मिश्रा कई बार टीम से अंदर-बाहर हुए लेकिन उन्होंने अपना हौसला नहीं खोया और घरेलू तथा आईपीएल हर जगह दिल लगाकर खेले. यही उनकी कामयाब वापसी का राज़ है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार