सिरीज़ तो गई, साख कैसे बचाएगी टीम धोनी?

दक्षिण अफ़्रीका खिलाड़ी इमेज कॉपीरइट AP

दक्षिण अफ़्रीका और भारत के बीच तीन ट्वेंटी-ट्वेंटी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों की सिरीज़ का तीसरा और आख़िरी मैच गुरुवार को कोलकाता के ईडन गार्डन्स में खेला जाएगा.

भारतीय टीम शुरुआती दो मैच हारने के साथ पहले ही सिरीज़ गंवा चुकी है.

अब कोलकाता में उसके सामने तीसरा मैच जीतकर एकदिवसीय सिरीज़ शुरू होने से पहले अपने मनोबल को बढ़ाने की चुनौती होगी.

भारत धर्मशाला में खेले गए पहले टी-20 मुक़ाबले में 7 विकेट से हारा.

उसके बाद कटक में भी 6 विकेट से बेहद करारी मात खाई. कटक में दक्षिण अफ़्रीकी टीम की जीत के हीरो उसके गेंदबाज़ एलबी मर्केल, इमरान ताहिर और क्रिस मौरिस रहे.

निराशाजनक प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट AP

भारतीय टीम कटक में पूरे 20 ओवर भी नहीं खेल सकी और 17.2 ओवर में केवल 92 रनों पर ढह गई.

खेल में हार-जीत तो होनी ही है लेकिन मैच के दौरान जो कुछ मैदान में हुआ वह बेहद शर्मनाक था.

जीत के लिए बल्लेबाज़ी कर रही दक्षिण अफ़्रीका का स्कोर जब तीन विकेट खोकर 70 रन था, तभी दर्शकों ने मैदान में बोतलें फेंकनी शुरू कर दी.

इस घटना ने साल 1996 में कोलकाता के ईडन गार्डन्स में हुए विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट के पहले सेमीफ़ाइनल की याद ताज़ा कर दी.

तब श्रीलंका के ख़िलाफ़ भारत के सामने जीत के लिए 252 रनों का लक्ष्य था. जब भारत के 8 विकेट 120 रन पर गिर गए तो दर्शकों के सब्र का बांध टूट गया और उन्होंने हुड़दंग मचाना शुरू कर दिया.

अंततः श्रीलंका को विजेता घोषित कर दिया गया.

इमेज कॉपीरइट AFP

भारतीय टीम ने जैसी बल्लेबाज़ी धर्मशाला में की थी उसे देखते हुए किसी को भी भारत से इतने ख़राब प्रदर्शन की आशंका नहीं थी.

वैसे कटक में दक्षिण अफ़्रीकी फ़िल्डिंग और शानदार गेंदबाज़ी से श्रेय छीना नहीं जा सकता.

रोहित शर्मा और विराट कोहली का रन आउट होना मैच में बड़ा बदलाव साबित हुआ तो एलबी मोर्कल ने तो भारतीय बल्लेबाज़ी की रीढ़ ही तोड़ कर रख दी. उन्होंने केवल 12 रन देकर 3 विकेट लिए.

रहाणे, मिश्रा को मिलेगा मौका?

अब कोलकाता में यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या भारत के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी अभी भी अजिंक्य रहाणे को टीम से बाहर रखते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

अबांती रायडू तो दोनों मैचों में खाता भी नहीं खोल सके हैं. रहाणे बेहतरीन बल्लेबाज़ तो हैं ही साथ ही नज़दीकी फ़ील्डर भी अच्छे हैं.

इसके अलावा लेग स्पिनर अमित मिश्रा भी अंतिम 11 में होंगे या नहीं, कहा नहीं जा सकता.

तीसरे मैच के परिणाम से सिरीज़ पर तो असर नहीं पड़ेगा लेकिन अगर भारतीय टीम जीत जाती है तो फिर 11 तारीख़ से शुरू होने वाली एकदिवसीय सिरीज़ के लिए हौसले ज़रूर बढ़ेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार