पाकिस्तान की प्रतिष्ठा का ख़्याल रखेंगे: आमिर

  • 19 दिसंबर 2015
इमेज कॉपीरइट AP

पाकिस्तान के तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद आमिर ने वादा किया है कि वे पाकिस्तान टीम की प्रतिष्ठा का ख़्याल रखेंगे.

आमिर को नेशनल कैंप में शामिल किया गया है, जो प्रतिबंध के बाद टीम में उनकी वापसी का अगला क़दम है.

23 वर्षीय मोहम्मद आमिर को वर्ष 2010 में इंग्लैंड दौरे में स्पॉट फ़िक्सिंग का दोषी पाया गया था. उन्हें जेल भेजा गया था और पाँच साल की पाबंदी भी लगाई गई थी.

बाद में उन पर लगी पाबंदी को एक साल कम कर दिया गया था. उसके बाद मार्च से उन्होंने क्रिकेट खेलना शुरू किया है.

नेशनल कैंप के लिए चुने जाने के बाद मोहम्मद आमिर ने कहा, "मैं वादा करता हूँ कि मैं पाकिस्तान की शर्ट और ग्रीन कैप के सम्मान के लिए हरसंभव कोशिश करूँगा."

इमेज कॉपीरइट Getty

मोहम्मद आमिर ने 17 साल की उम्र में अपना टेस्ट करियर शुरू किया था. उन्होंने 14 मैचों में 51 विकेट लिए थे. लेकिन स्पॉट फ़िक्सिंग में दोषी ठहराए जाने के बाद उन पर पाबंदी लगा दी गई.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनकी वापसी का उनके कई साथी खिलाड़ियों ने विरोध किया था. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान मोहम्मद हफ़ीज़ ने कहा था कि वे उस टीम में नहीं खेलेंगे, जिसमें आमिर रहेंगे.

लेकिन मोहम्मद आमिर ने उम्मीद जताई है कि वे अपने प्रदर्शन से अपने साथी खिलाड़ियों का भरोसा जीत पाएँगे.

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने 26 खिलाड़ियों को फ़िटनेस कैंप में चुना है. इनमें से ही अगले महीने शुरू हो रही न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ सिरीज़ के लिए टीम चुनी जाएगी.

पाकिस्तान को न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ तीन एक दिवसीय मैच और ट्वेन्टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)