रऊफ़ को लील गया स्पॉट फ़िक्सिंग का जिन्न

  • 12 फरवरी 2016
इमेज कॉपीरइट Getty

पाकिस्तान के विवादास्पद अंपायर असद रऊफ़ पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने पाँच साल के लिए पाबंदी लगा दी है.

एक समय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट अंपायरिंग में पाकिस्तान का चेहरा रहे असद रऊफ़ एकाएक ग़लत वजहों से सुर्ख़ियों में आए और फिर उनके अंतरराष्ट्रीय करियर पर ग्रहण लग गया.

असद रऊफ़ के अंपायरिंग करियर में सब कुछ अच्छा लग रहा था, लेकिन चर्चित इंडियन प्रीमियर लीग यानी आईपीएल में स्पॉट फ़िक्सिंग के जिन्न ने कुछ खिलाड़ियों और अधिकारियों के अलावा जिन लोगों को लील लिया, उनमें रऊफ़ भी शामिल थे.

इमेज कॉपीरइट Getty

वर्ष 2013 में स्पॉट फ़िक्सिंग के आरोप में राजस्थान रॉयल्स के तीन खिलाड़ियों श्रीसंत, अजित चंडीला और अंकित चव्हाण गिरफ़्तार हुए. इसी मामले में अभिनेता बिंदू दारा सिंह और चेन्नई सुपर किंग्स से जुड़े गुरुनाथ मयपन्न भी गिरफ़्तार हुए.

जाँच के क्रम में मुंबई पुलिस ने अंपायर असर रऊफ़ का भी नाम लिया और कहा कि स्पॉट फ़िक्सिंग मामले में उनकी भी भूमिका की जाँच की जा रही है. इसके बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट समिति ने असद रऊफ़ को उसी साल मई में होने वाली चैम्पियंस ट्रॉफ़ी में अंपायरों के पैनल से हटा दिया.

बाद में उन्हें अंपायरों के एलीट पैनल से भी निकाल दिया गया. हालाँकि आईसीसी ने इससे इनकार किया कि इसके पीछे स्पॉट फ़िक्सिंग में उनकी भूमिका से कोई लेना-देना था.

वर्ष 2013 में ही मुंबई पुलिस ने अदालत में असद रऊफ़ के ख़िलाफ़ सट्टेबाज़ी और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया. असद रऊफ़ ने इन सब आरोपों से इनकार किया.

इस बीच बीसीसीआई की अनुशासनात्मक समिति ने भी असद रऊफ़ को बुलाया. असद रऊफ़ ने आने से इनकार कर दिया, लेकिन उन्होंने लिखित जवाब दिया. जिसके बाद बीसीसीआई ने उन पर पाबंगी लगाने का फ़ैसला किया है.

12 मई 1956 को पाकिस्तान के लाहौर में जन्मे असद रऊफ़ ने 1977 से लेकर 1991 तक पाकिस्तान में घरेलू क्रिकेट खेली थी. 1998 में उन्होंने पहली बार घरेलू क्रिकेट में अंपायरिंग की. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उन्हें अंपायरिंग करने का मौक़ा वर्ष 2000 में मिला, जब पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच हुए एक दिवसीय मैच में उन्होंने अंपायरिंग की.

वर्ष 2006 में आईसीसी ने उन्हें अंपायरों के एलीट पैनल में शामिल किया. उन्होंने 49 टेस्ट मैच, 98 एक दिवसीय मैच और 23 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में अंपायरिंग की.

इमेज कॉपीरइट Getty

स्पॉट फ़िक्सिंग में नाम आने के बाद मैदान के बाहर असद रऊफ़ की ज़िंदगी को लेकर भी विवाद हुए, जब एक भारतीय मॉडल ने रऊफ़ के साथ अपने रिश्तों को लेकर तस्वीरें जारी की और दावा किया कि रऊफ़ के साथ उनका अफ़ेयर था.

हालाँकि असद रऊफ़ ने इससे इनकार किया और कहा कि क्रिकेट अंपायर होने के कारण कई लोग उनके साथ तस्वीरें खिंचवाते थे.

रऊफ़ ने ये तो माना था कि तस्वीरें सही हैं, लेकिन ये मानने से इनकार कर दिया था कि उनका कोई अफ़ेयर था. हालाँकि भारतीय मॉडल ने असद रऊफ़ के ख़िलाफ़ पुलिस में शिकायत भी की थी.

इसी दौरान आईपीएल मैचों के बाद होने वाली और देर रात तक चलने वाली पार्टियों पर भी सवाल उठे और बाद में उसे बंद कर दिया गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार