शाहिद अाफ़रीदी पर फ़िदा कश्मीरी लड़की

इमेज कॉपीरइट Sabaah Haji

सोशल मीडिया के बढ़ते असर का नतीजा यह हुआ है कि मेरे क़रीबी ही नहीं बल्कि कई लोग साहबज़ादा शाहिद ख़ान

अाफ़रीदी उर्फ़ शाहिद अफ़रीदी उर्फ़ लाला के लिए मेरा शर्मिंदगी की हद तक का जुनून जान गए हैं.

एक बार मुंबई में एक समारोह में (जिसका खेल से कोई ताल्लुक न था) शाहिद

अाफ़रीदी से मेरा परिचय मेज़बान ने शाहिद अफ़रीदी फ़ैन क्लब की अध्यक्ष बताकर किया.

वह ट्विटर पर लाला के लिए मेरी दीवानगी को जानते थे. मुझे लगा कि उनकी राय बहुत अलग न थी हालांकि और फ़ैंस भी

अाफ़रीदी के प्रशंसक होने का टाइटल लेने की दौड़ में होंगे.

(उनके लिए मैं कहूँगी और ज़ोर देकर कहती हूँ कि गेंद बचाने के लिए दाहिना पैर अंदर रखकर खड़े होने का अाफ़रीदी

का स्टाइल बेहद ख़ूबसूरत होता है, जो कभी अजीब सा लगता था. इससे बड़ी दलील है कोई!)

इमेज कॉपीरइट AP

मेरे जीवन में कई मुश्किल दौर आए, जब मैं बरसों से जमा किए

अाफ़रीदी के पुराने धुंधले वीडियो फिर-फिर देखती थी. अपने दुख और डर से निकलने में ये बहुत मददगार थे.

मेरे लिए 1996 में श्रीलंका के ख़िलाफ़ वनडे में 37 गेंदों पर

अाफ़रीदी का दुनिया का सबसे तेज़ शतक बहुत बड़ी बात थी. (अब ये रिकॉर्ड टूट चुका है, लेकिन मुझे देखिए, मैं परवाह नहीं करती)

फिर हाल में एशिया कप 2014 में भारत और फिर फ़ाइनल में बांग्लादेश के ख़िलाफ़ उनके चकाचौंध करने वाले विजयी छक्के बेहतरीन रहे हैं.

मुझे सबसे उम्दा चुनने में बेहद मुश्किल होती है क्योंकि सच में लाला और उनके क्रिकेट पर हज़ारों मोंटाज और गीत आधारित वीडियोज़ की भरमार है.

इमेज कॉपीरइट Sabbah Haji

एक बार जब

अाफ़रीदी शानदार ढंग से चमकने लगते हैं तो लगता है कि अंधेरे का वह बीच का वक़्त आपको या किसी पर कैसे असर डाल सकता है? कैसे कोई खेल में

अाफ़रीदी के जादू और पागलपन पर शक कर सकता है? और फिर वो अंधियारा समय आ जाता है.

देखिए, मैं अाफ़रीदी की बहुत बड़ी प्रशंसक हूँ, जैसे मेरी बहन, जैसे मेरा परिवार और क्रिकेट को चाहने वाले बहुत से कश्मीरी.

कहने की ज़रूरत नहीं कि उन्हें पागलपन की हद तक चाहने वाले पाकिस्तान में भी हैं, फिर चाहे उन्होंने हाल में यह बयान ही क्यों न दिया हो कि "मैं पाकिस्तान से ज़्यादा प्यार भारत में पाता हूँ."

हमें पता है. मुझे पता है.

इमेज कॉपीरइट AP

जब उन्होंने एक पत्रकार से कहा कि वह "घटिया" सवाल न पूछें तो इसका मतलब मैं समझती हूँ. (मैं कई दिन इसे लेकर हँसती रही, ज़्यादातर उनकी सहमति में)

मैंने इस सितारे को तबसे देखा है, जब वह 90 के दशक में क्रिकेट जगत में ज़बर्दस्त ढंग से उभरे थे. (तब एक बेहद उबाऊ मज़ाक चलता था-'अभी वो 17 साल का ही है! हा, हा!')

अब वह कभी-कभार ही विरोधियों पर इस तरह आक्रामक होते हैं और जब ऐसा होता है, तो सब कुछ भुला दिया जाता है.

अाफ़रीदी क्रिकेट से रिटायर हुए, वापस लौटे, फिर रिटायर हुए और फिर आ गए और ये सिलसिला जारी रहा. हमें तो उनकी वापसी ही याद रहती है.

लाला का एक हिम्मती बल्लेबाज़ से लेग स्पिनर और मैच विजेता ऑल राउंडर बनने का सफ़र मेरे बचपन से जवानी के सफ़र का अहम हिस्सा रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

"कितना बढ़िया फ़ील्डर!" "कितना मज़ेदार आदमी!" "कितना बातूनी शख़्स है ये!" "उसे देखा गौतम गंभीर को फ़ील्ड से विदा करते हुए! बहुत मज़ेदार रहा!"

पाकिस्तान में उनके विज्ञापन, उनके कपड़ों का ब्रांड, उनका परिवार और निजी ज़िंदगी, उनकी ग़लतियां या खुलेआम उनसे हुई चूक- सभी पर एक सच्चे प्रशंसक की तरह मेरी नज़र रहती है.

इंटरनेट और उन पाकिस्तानी दोस्तों के ज़रिए ख़ुद को अाफ़रीदी के नज़दीक पाने वाले उनके प्रशंसकों के मुक़ाबले मैं

अाफ़रीदी को व्हाटसएेप, फ़ेसबुक और ट्विटर से ही अपने पास पाती हूँ.

मुझे लाला से जुड़ी चीज़ें और फ़ैन गर्ल्स के लिए उनकी प्रचार सामग्री भी मिलती है, जिनका मैं बड़े फ़ख्र से इस्तेमाल करती हूँ.

अाफ़रीदी का फ़ॉर्म इतना अप्रत्याशित है कि जब भी वह बल्ला थामते हैं, तो मेरे और मुझ जैसे लाखों लोग रोमांच और उत्तेजना से भर जाते हैं.

ये उनके किसी भी मैच के लिए सच है. उन मैचों के लिए भी जिनमें वह कुछ करते कि उससे पहले ही आउट हो गए.

इमेज कॉपीरइट AFP

एक पल में वह अपने देश की उम्मीदें तोड़ते हैं, वहीं कभी वह कुछ ऐसा शानदार और यक़ीन से परे कर डालते हैं कि आप अगली बार का इंतज़ार करने लगते हैं.

असल में यही इसका रोमांच है.(फिर वह देखने में भी तो अच्छे हैं!)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार