राहुल का एक छक्का और दो नायाब रिकॉर्ड

लोकेश राहुल इमेज कॉपीरइट AP

ये भारतीय पारी के 43 वें ओवर की तीसरी गेंद थी.

भारतीय टीम जीत से सिर्फ दो रन दूर थी और उसे जीत की दहलीज तक लाने वाले ओपनर लोकेश राहुल को अपना शतक पूरा करने के लिए छह रन चाहिए थे.

उस वक्त तक सात चौके जमा चुके राहुल ने मैच में कोई छक्का नहीं जमाया था, लेकिन शनिवार को वो मानो हर मौका भुनाने के इरादे से हरारे स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर उतरे थे.

तीसरी गेंद को उन्होंने हवा के रास्ते लॉन्ग ऑन बाउंड्री पार कराई और जीत के साथ वो रिकॉर्ड बना दिया, जो अब तक किसी भारतीय के नाम नहीं था.

इमेज कॉपीरइट AP

लोकेश राहुल पहले वन डे में शतक जमाने वाले भारत के पहले बल्लेबाज़ बन गए.

दिलचस्प ये है कि खुद उन्हें भी इस रिकॉर्ड की जानकारी नहीं थी. लोकेश राहुल ने मैच के बाद कहा, "मुझे अभी मैनेजर ने बताया कि मैं पहले मैच में शतक बनाने वाला पहला भारतीय बल्लेबाज हूं."

लोकेश राहुल को वन डे करियर की शुरुआत के लिए लंबा इंतज़ार करना पड़ा. उन्होंने टेस्ट करियर की शुरुआत करीब डेढ साल पहले ऑस्ट्रेलिया में की थी.

इमेज कॉपीरइट AP

अपने पहले टेस्ट में राहुल नाकाम रहे थे, लेकिन दूसरे टेस्ट में उन्हें ओपनर के तौर पर आजमाया गया और उन्होंने शतक जमाकर अपनी काबिलियत साबित कर दी.

राहुल बतौर ओपनर पहले टेस्ट और पहले वन डे में शतक जमाने वाले इकलौते बल्लेबाज हैं.

वो अब तक पांच टेस्ट मैचों में दो शतकों की मदद से 256 रन बना चुके हैं.

बड़ी पारियां उन्हें लुभाती हैं और वो अपने विकेट की कीमत भी जानते हैं.

हरारे वन डे के बाद उन्होंने कहा, " मैंने जिस तरह अपनी पारी को आगे बढ़ाया और आखिर तक नाबाद रहा, मैं उससे संतुष्ट हूं."

जिम्बॉब्वे पर भारत को बढ़त दिलाने वाले राहुल का कहना है कि वो वन डे टीम के साथ अपने पहले दौरे का मज़ा ले रहे हैं.

ये जिम्बॉब्वे के लिए खतरे की घंटी और भारतीय टीम के लिए शुभ संकेत है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार