यूरो 2016: हिंसा के बाद रूस को आखिरी चेतावनी

रूसी फ़ुटबॉल प्रशंसक इमेज कॉपीरइट Getty

फ़्रांस के मार्सेइ में यूरो 2016 प्रतियोगिता के दौरान इंग्लैंड-रूस के फ़ुटबॉल मैच में दोनों टीमों के समर्थकों के बीच हिंसा के बाद रूस को चेतावनी दी गई है कि यदि बाक़ी के मैचों में उसके समर्थकों की ओर से हिंसा होती है तो रूस को डिसक्वालिफ़ाई कर दिया जाएगा.

मार्सेइ में इंग्लैंड के साथ खेले गए फ़ुटबॉल मैच में हिंसा के मामले में यूरोपीय फ़ुटबॉल प्रबंधन संस्था ने रूस पर 170,000 डॉलर का ज़ुर्माना भी लगाया है.

मार्सेइ में शनिवार को इंग्लैंड-रूस के मुक़ाबले में दर्शकों के बीच हुई झड़प में 35 लोग घायल हुए थे, जिनमें अधिकांश इंग्लैंड के नागरिक थे और इनमें चार लोगों की हालत नाज़ुक है.

रूस के समर्थकों पर नस्लवादी रवैए और मैच के दौरान पटाखे चलाने के आरोप भी लगे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

फ़्रांस की पुलिस ने आरोप लगाया है कि शनिवार के मैच के दौरान हुई झड़प के लिए 150 रूसी जिम्मेदार थे.

सोमवार को इंग्लैंड के छह समर्थकों को भी जेल भेजा गया है. जबकि रूसी समर्थकों को फ़्रांस से वापस भेजा जा रहा है.

यूरोपीय फ़ुटबॉल एसोसिएशन ने सुरक्षा बंदोबस्त को लेकर गंभीर चिंता जताई है.

गुरुवार को एक छोटे शहर लेन्स में इंग्लैंड और वेल्स के बीच मुक़ाबला होना है.

इसी शहर में रूस और स्लोवाकिया के बीच बुधवार को मुक़ाबला होना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार