जिसने फ़्रांस और पुर्तगाल को रुला दिया

  • 11 जुलाई 2016
एडर इमेज कॉपीरइट AP

यूरो कप के फ़ाइनल में मेज़बान फ़्रांस का सपना टूटा, तो वर्षों से किसी बड़ी प्रतियोगिता का ख़िताब जीतने की पुर्तगाल की आस भी पूरी हुई.

एक समय ऐसा लग रहा था कि पुर्तगाल की टीम ये मौक़ा भी गँवा देगी क्योंकि टीम के स्टार खिलाड़ी और कप्तान क्रिस्टियानो रोनाल्डो 25वें मिनट में ही घुटने की चोट के कारण मैदान से बाहर हो गए.

फ़्रांस को भी कई मौक़े मिले, लेकिन जीत उनसे दूर ही रही. अतिरिक्त समय में सब्सिट्यूट खिलाड़ी एडर का लंबा शॉट फ़्रांस के गोलकीपर को छकाते हुए जब नेट में घुसा, तो जैसे स्टेडियम लाल रंग से रंग गया.

खिलाड़ी एडर के पीछे-पीछे दौड़ रहे थे, रोनाल्डो की आँखों से आंसू गिर रहे थे और एक देश का अधूरा सपना पूरा हो रहा था.

रातों-रात एक अनजान खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय सुर्ख़ियाँ बटोर रहा था. बीबीसी संवाददाता स्टीव क्रॉसमैन ने मैच के बाद एडर का इंटरव्यू किया. एडर का कहना था कि उन्हें पता था कि गोल होकर रहेगा.

इमेज कॉपीरइट Getty

एडर की कहानी अदभुत है. गिनी बिसाऊ में पैदा हुए एडर अफ़्रीकी हैं. दुर्भाग्य से उनके माता-पिता उन्हें पाल नहीं सके. इसलिए एडर पुर्तगाल आ गए. यहाँ उन्हें एक परिवार ने अपना लिया.

उस समय एडर ने शायद ही सोचा होगा कि वे प्रोफेशनल फुटबॉल खेलेंगे, इतना ही नहीं वे यूरो कप के फ़ाइनल में गोल करेंगे और पुर्तगाल के स्टार साबित हो जाएँगे.

बीबीसी संवाददाता स्टीव क्रॉसमैन से बातचीत में एडर ने कहा, "मुझे गर्व है कि आज मैं यहाँ हूँ, मुझे गर्व है कि मैं गिनी बिसाऊ में पैदा हुआ. मुझे गर्व है कि मैं पुर्तगाल में हूँ. मैंने अपनी ज़िंदगी यहीं बिताई है. ये बेहतरीन अनुभव है."

विजयी गोल करने के अपने अनुभव के बारे में एडर ने कहा कि इस प्रतियोगिता में पुर्तगाल ने शुरू से ही बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है और वे इससे काफ़ी ख़ुश हैं.

एडर ने बताया कि गेंद उनके पास आई, तो उन्होंने गेंद को गोल में मारने की कोशिश की. एडर ने कहा- मैं जानता था कि गेंद गोल में जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार