BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
गुरुवार, 03 मई, 2007 को 09:35 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
मैकग्रॉ को संन्यास लेने का दुख नहीं
 
ग्लेन मैकग्रॉ
ग्लेन मैकग्रॉ को संन्यास लेने का खेद नहीं
विश्व कप क्रिकेट में मैन ऑफ़ द टूर्नामेंट रहे ऑस्ट्रेलिया के ग्लेन मैकग्रॉ ने कहा है कि उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का कोई खेद नहीं हैं और वे इस फ़ैसले पर विचार नहीं करने वाले.

ऑस्ट्रेलिया के लगातार तीन बार विश्व कप ख़िताब जीतने के अभियान में ग्लेन मैकग्रॉ की अहम भूमिका रही और उन्होंने विश्व कप में कुल 22 विकेट चटकाए.

तो क्या करियर के इस अहम मोड़ पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के फ़ैसले पर मैकग्रॉ फिर से विचार कर सकते हैं, मैकग्रॉ कहते हैं- बिल्कुल नहीं. उन्हें इस फ़ैसले पर कोई खेद नहीं.

गुरुवार को जब विश्व विजेता टीम सिडनी पहुँची, तो हज़ारों क्रिकेट प्रेमियों ने अपनी टीम का स्वागत किया.

ग्लेन मैकग्रॉ ने इस टीम का हिस्सा होने पर ख़ुशी जताई और कहा, "मैं भाग्यशाली हूँ कि मैं ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के उस युग में हूँ, जो इतनी मज़बूत है."

तारीफ़

मैकग्रॉ ने अपने साथी खिलाड़ियों की भी जम कर तारीफ़ की और कहा कि टीम का हर सदस्य काफ़ी अहम है और बड़े मौक़े पर वो योगदान देता है.

ग्लेन मैकग्रॉ ने विश्व कप से पहले ही इसकी घोषणा कर रखी थी कि वे विश्व कप के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे.

मैकग्रॉ ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में कुल 563 टेस्ट विकेट लिए, 381 वनडे विकेट लिए और तीन बार विश्व कप जीतने वाली टीम का हिस्सा भी रहे.

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री जॉन हॉवर्ड ने सुबह के नाश्ते पर टीम का स्वागत किया और ग्लेन मैकग्रॉ की ख़ास तौर पर तारीफ़ की.

उन्होंने डेनिस लिली और रे लिंडवाल के साथ मैकग्रॉ की तुलना की और कहा कि इन दोनों के साथ मैकग्रॉ को रखा जा सकता है.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>