BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
मंगलवार, 08 मई, 2007 को 12:16 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
फ़ाइनल पर श्रीलंका का एतराज़
 
एडम गिलक्रिस्ट
गिलक्रिस्ट ने विश्व कप फ़ाइनल में सभी श्रीलंकाई गेंदबाज़ों को बेअसर साबित कर दिया
विश्व कप क्रिकेट के फ़ाइनल को अपने दम पर एकतरफा बनाने वाले एडम गिलक्रिस्ट का दस्तानों में स्कवैश की गेंद रखकर बल्लेबाज़ी करना श्रीलंका को हज़म नहीं हो रहा है.

यही वजह है कि श्रीलंका इस मामले की शिकायत अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) से करने का मन बना रहा है.

ऑस्ट्रेलिया के इस धाकड़ बल्लेबाज़ ने बारबाडोस में फ़ाइनल में तूफ़ानी अंदाज में खेलते हुए सिर्फ़ 104 गेंदों में ही 149 रन धुन डाले थे.

बल्ले पर अपनी पकड़ मज़बूत करने के लिए गिलक्रिस्ट ने नया नुस्ख़ा आज़माया था और दस्तानों में स्कवैश की गेंद रखी थी.

श्रीलंका के क्रिकेट अधिकारी अगले महीने होने वाली आईसीसी की बैठक में यह मसला उठाने का मन बना रहे हैं.

श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड के सचिव गंगाधरन माथीवानन ने कहा, "खेल की परंपरा और भावना के मद्देनजर ऐसा नहीं किया जाना चाहिए था. मैं नहीं मानता कि इससे उनके स्ट्रोकों में ज़्यादा ताक़त आई होगी, लेकिन निश्चित तौर पर बल्ले पर उनकी पकड़ तो मज़बूत हुई होगी."

 मैं ये नहीं कह रहा हूँ कि ये अवैध है. मेरे कहने का मतलब है कि खेल को अच्छी भावना से खेला जाना चाहिए. हम आईसीसी के सदस्यों को बताना चाहते हैं कि हम ऐसे कामों को मंजूरी नहीं देते
 
माथीवानन, सचिव, श्रीलंका क्रिकेट

उन्होंने कहा, ''मैं ये नहीं कह रहा हूँ कि ये अवैध है. मेरे कहने का मतलब है कि खेल को अच्छी भावना से खेला जाना चाहिए. हम आईसीसी के सदस्यों को बताना चाहते हैं कि हम ऐसे कामों को मंजूरी नहीं देते."

तरक़ीब रंग लाई

फ़ाइनल से पहले गिलक्रिस्ट का विश्व कप में प्रदर्शन ठीक-ठाक ही रहा था और इससे पहले के दस मैचों में वह सिर्फ़ दो अर्धशतक ही लगा सके थे.

लेकिन अहम मुक़ाबले यानी फ़ाइनल में उनका बल्ला चमका और उनकी इस पारी की बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने 53 रन से श्रीलंका को मात दी.

हालाँकि गिलक्रिस्ट ने स्कवैश की गेंद के इस्तेमाल को छिपाने की कोशिश भी नहीं की और शतक पूरा करने के बाद उन्होंने इशारा कर अपने साथी खिलाड़ियों को दस्तानों में रखी गेंद की अहमियत बताई.

दरअसल, विश्व कप के लिए रवाना होने से पहले पर्थ में गिलक्रिस्ट के बल्लेबाज़ी कोच बॉब मेयुलमैन ने उन्हें दस्तानों में स्कवैश की गेंद रखने की सलाह दी थी.

 जब वो स्कवैश की गेंद के बिना खेल रहे थे तो अच्छी तरह नहीं खेल पा रहे थे, लेकिन गेंद रखने के बाद उनके शॉट्स गज़ब के थे
 
मेयुलमैन, कोच

फ़ाइनल के बाद एक ऑस्ट्रेलियाई अखबार को दिए इंटरव्यू में मेयुलमैन ने कहा कि दस्ताने में रखी गेंद ने बल्ले को हाथ में घूमने से रोका.

उन्होंने कहा, "मैं पिछले 10 साल से गिलक्रिस्ट के साथ हूँ. टीम के वेस्टइंडीज़ रवाना होने से पहले मैं स्कवैश सेंटर गया और हल्की सी टूटी स्कवैश की छह गेंद ले आया."

मेयुलमैन ने कहा, "विश्व कप के लिए रवाना होने से पहले गिलक्रिस्ट के दस्तानों के बीच स्कवैश की गेंद रखकर बल्लेबाज़ी का अभ्यास किया था. यकीन कीजिए कि जब वो स्कवैश की गेंद के बिना खेल रहे थे तो अच्छी तरह नहीं खेल पा रहे थे, लेकिन गेंद रखने के बाद उनके शॉट्स गज़ब के थे."

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>