BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
सोमवार, 20 अगस्त, 2007 को 12:04 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
रज़्ज़ाक़ का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास
 
अब्दुर्रज़्ज़ाक़
अब्दुर्रज़्ज़ाक़ पीसीबी के रुख़ से नाराज़ हैं
पाकिस्तान के ऑल राउंडर अब्दुर्रज़्ज़ाक़ ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया है. उन्हें अगले महीने खेले जाने वाले 20-20 विश्व कप की टीम में शामिल नहीं किया गया था.

27 वर्षीय अब्दुर्रज़्ज़ाक़ ने 46 टेस्ट और 231 एक दिवसीय मैच खेले हैं. कहा जा रहा है कि रज़्ज़ाक़ को भारतीय क्रिकेट लीग में शामिल होने का प्रस्ताव मिला है.

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड से अलग ज़ी समूह ने भारतीय क्रिकेट लीग के आयोजन का फ़ैसला किया है. हालाँकि पहले रज़्ज़ाक़ ने इससे इनकार किया था कि उन्होंने भारतीय क्रिकेट लीग में शामिल होने का फ़ैसला कर लिया है.

लेकिन रज़्ज़ाक़ इससे काफ़ी निराश है कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया. रज़्ज़ाक़ ने एक निजी टीवी चैनल से बातचीत में कहा, "उन्होंने मुझे टीम से निकाल दिया लेकिन किसी ने इसकी ज़रूरत नहीं समझी कि मुझे बताते कि मेरे साथ ऐसा क्यों हुआ."

निराशा

रज़्ज़ाक़ ने कहा कि पीसीबी के रुख़ से उन्हें दुख पहुँचा है और वे निराश भी हैं और इसलिए उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का फ़ैसला किया है.

 उन्होंने मुझे टीम से निकाल दिया लेकिन किसी ने इसकी ज़रूरत नहीं समझी कि मुझे बताते कि मेरे साथ ऐसा क्यों हुआ. पीसीबी के रुख़ से मुझे दुख पहुँचा है और मैं निराश भी हूँ. इसलिए मैंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का फ़ैसला किया है
 
अब्दुर्रज़्ज़ाक़

रज़्ज़ाक़ ने 46 टेस्ट मैचों में 1946 रन बनाए और 100 विकेट भी लिए. जबकि 231 एक दिवसीय मैचों में उन्होंने 4465 रन बनाए और 246 विकेट भी लिए.

इस साल हुए विश्व कप में घुटने की चोट के कारण रज़्ज़ाक़ नहीं खेल पाए थे. रज़्ज़ाक़ के अलावा मोहम्मद यूसुफ़ और यूनिस ख़ान ने अभी तक पीसीबी के अनुबंध पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं.

हालाँकि रज़्ज़ाक़ का ये भी कहना है कि समझौता हो सकता है. उन्होंने कहा, "समझौता हो सकता है लेकिन पीसीबी को खिलाड़ियों की शिकायतें सुननी होगी."

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के मुख्य चयनकर्ता सलाहुद्दीन अहमद ने उम्मीद जताई है कि रज़्ज़ाक़ अपना फ़ैसला बदल लेंगे. उन्होंने कहा, "मेरा अभी भी मानना है कि रज़्ज़ाक़ में काफ़ी क्रिकेट बाक़ी है. उन्हें अपने फ़ैसले पर फिर से विचार करना चाहिए."

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
कई दिग्गजों ने लिया संन्यास
29 अप्रैल, 2007 | खेल की दुनिया
सचिन को रिटायर होना चाहिएः अमरनाथ
25 अप्रैल, 2007 | खेल की दुनिया
क्यों नहीं संन्यास लेते सचिन ?
21 अप्रैल, 2007 | खेल की दुनिया
सचिन के रिटायरमेंट पर तेज़ हुई बहस
01 अप्रैल, 2007 | खेल की दुनिया
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>