BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
शुक्रवार, 04 अप्रैल, 2008 को 10:13 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
आईपीएल के साइड इफ़ेक्ट
 

 
 
सहवाग और अक्षय कुमार
दूसरे टेस्ट से पहले सहवाग अपनी टीम को प्रोमोट कर रहे थे
अहमदाबाद में भारतीय टीम की हालत देखते हुए मुझे खिलाड़ी काफ़ी बेपरवाह नज़र आए.

जो आश्चर्यचकित करने वाला था. खिलाड़ी आलसी दिख रहे थे, कहीं खोए नज़र आ रहे थे और कई बार तो ऐसा लग रहा था कि उनमें उत्साह की भी कमी है.

मेरा नज़रिया ऐसा इसलिए भी हो सकता है क्योंकि भारतीय टीम इतनी जल्दी और इतने कम स्कोर पर आउट हो गई. क्या वे वाकई नींद में खेल रहे थे, ये तो आने वाला समय ही बताएगा.

वैसे तो भारतीय टीम लगातार अच्छा ना खेल पाने के कारण जानी जाती है, लेकिन उस समय जब हम सभी ऐसा सोच रहे थे कि इस टीम ने एक नई ऊँचाई हासिल की है और इस टीम को हराना आसान नहीं होगा, खिलाड़ियों ने हमें अचरज में डाल दिया है.

चेन्नई में भारतीय बल्लेबाज़ी ख़ासकर वीरेंदर सहवाग का प्रदर्शन देखने के बाद किसने उम्मीद की थी कि कमोबेश वही टीम सिर्फ़ 20 ओवर ही खेल पाएगी.

सच्चाई

ये भले ही आपको अविश्वसनीय लगे लेकिन सच्चाई भले ही कितनी भी कटु क्यों न हो, हम इससे मुँह नहीं मोड़ सकते.

दक्षिण अफ़्रीका ने भारत को सस्ते में आउट किया

भारतीय टीम मोटेरा की पिच पर घास के कारण निराश थे और उन्होंने अपनी नाराज़गी ज़ाहिर भी कर दी, लेकिन टीम की ख़राब बल्लेबाज़ी की सिर्फ़ यही वजह तो नहीं थी.

आप अनिल कुंबले और उनकी टीम से इस बात पर ज़रूर सहानुभूति प्रकट कर सकते हैं कि उन्हें ऐसी विकेट दी गई, जिस पर वे विदेश में खेलते हैं. भारतीय टीम की मज़बूती स्पिन आक्रमण है.

लेकिन इस टीम को घास वाली विकेट देना टीम से वो लाभ छीनना और विरोधी टीम को ज़्यादा लाभ पहुँचाना है. क्या दुनिया में कहीं भी भारतीय टीम को स्पिन विकेट देने की उम्मीद की जा सकती है? शायद नहीं.

इसलिए अनिल कुंबले की नाराज़गी जायज़ है. लेकिन इसके बावजूद भारतीय बल्लेबाज़ अपनी ज़िम्मेदारी से नहीं भाग सकते. जिस तरह वे सिर्फ़ 20 ओवर में पवेलियन लौट गए, वो काफ़ी शर्मनाक था.

उत्साह कम

ये मामला हमें कहाँ ले जा रहा है. मैं ये ज़रूर कहना चाहूँगा कि शुरू में इस टेस्ट सिरीज़ को लेकर इतना कम उत्साह था कि कई लोग तो ये भी नहीं जानते थे कि भारत और दक्षिण अफ़्रीका के बीच तीन टेस्ट मैचों की सिरीज़ हो रही है.

तिहरा शतक लगाने वाले सहवाग सस्ते में निपटे

अख़बार और न्यूज़ चैनल इंडियन प्रीमियर लीग की ख़बरों से पटे पड़े थे, जहाँ शाहरुख़ ख़ान, प्रीति ज़िंटा और अक्षय कुमार को क्रिकेटरों से ज़्यादा अहमियत दी जा रही थी.

जिस तरह आईपीएल का विज्ञापन चल रहा है, उससे तो यही लगता है कि 18 अप्रैल से भारत कोई 20-20 प्रतियोगिता नहीं बल्कि विश्व कप का आयोजन करने जा रहा है.

आईपीएल में इतना पैसा लगा है कि इसके निवेशक इसे इस धरती पर के सबसे बड़े आयोजन के रूप में पेश कर रहे हैं ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को आईपीएल की ओर आकर्षित किया जा सके.

इन सबके बीच सबसे ज़्यादा निराशा की बात ये है कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड इस पर ध्यान नहीं दे रहा कि खिलाड़ियों को इस समय आईपीएल की बजाए टेस्ट सिरीज़ पर ध्यान देना चाहिए.

आवश्यकता

मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूँ कि चेन्नई में हुए पहले टेस्ट के बाद खिलाड़ियों को आराम की ज़रूरत थी. क्योंकि चेन्नई में इतनी गर्मी थी कि खिलाड़ी काफ़ी परेशान रहे. साथ ही खिलाड़ियों को अपना ध्यान टेस्ट क्रिकेट पर केंद्रित रखना चाहिए था.

द्रविड़ जैसे खिलाड़ी भी आईपीएल को प्रोमोट करने में जुटे

लेकिन इसके उलट हुआ ये कि पहले और दूसरे टेस्ट के बीच जो अंतराल था, उस दौरान खिलाड़ी आईपीएल में अपनी-अपनी टीम के विज्ञापन में उलझे रहे.

चेन्नई में तिहरा शतक लगाने वाले वीरेंदर सहवाग चेन्नई से दिल्ली आए और दिल्ली टीम के लाँच पर मौजूद रहे. गांगुली अपनी कोलकाता नाइट राइडर्स टीम के लिए शूटिंग कर रहे थे तो महेंद्र सिंह धोनी अपनी चेन्नई टीम के लिए.

दूसरी ओर दक्षिण अफ़्रीका के खिलाड़ियों ने आईपीएल की शूटिंग में हिस्सा लेने से मना कर दिया क्योंकि उनके लिए टेस्ट सिरीज़ में जीत हासिल करना ज़्यादा अहम था.

हम पहले भी कई बार इस पर चर्चा कर चुके हैं कि टेस्ट क्रिकेट की मौत नज़दीक दिख रही है लेकिन अगर टेस्ट क्रिकेट के प्रति भारत का यही रुख़ रहा तो हमें समय से पहले ही टेस्ट क्रिकेट की मौत देखनी पड़ेगी और यह वाक़ई में काफ़ी दुख की बात होगी.

(लेखक हिंदुस्तान टाइम्स स्पोर्ट्स के सलाहकार हैं)

 
 
शोएब अख़्तर आईपीएल की लाल झंडी
पीसीबी के प्रतिबंध के बाद आईपीएल ने भी शोएब को दिखाई लाल झंडी.
 
 
बाल ठाकरे पवार के नाम पत्र
आईपीएल को लेकर बाल ठाकरे ने शरद पवार को खुली चिट्ठी लिखी है.
 
 
पोंटिंग रिकी पोंटिंग का डर
पोंटिंग को डर है कि आईपीएल विश्व क्रिकेट को नुक़सान पहुँचा सकता है.
 
 
कपिलदेव (फ़ाइल फ़ोटो) मुक़ाबले को तैयार
कपिलदेव चाहते हैं कि आईसीएल और आईपीएल आपस में मैच खेलें.
 
 
बीसीसीआई आईसीएल का जवाब
इंडियन क्रिकेट लीग की तर्ज़ पर बीसीसीआई ने प्रीमियर लीग की घोषणा की.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
शोएब को आईपीएल की लाल झंडी
03 अप्रैल, 2008 | खेल की दुनिया
शोएब पर मानहानि का बाउंसर
03 अप्रैल, 2008 | खेल की दुनिया
प्रतिबंध को चुनौती देंगे शोएब
02 अप्रैल, 2008 | खेल की दुनिया
शोएब पर पाँच साल का प्रतिबंध लगा
01 अप्रैल, 2008 | खेल की दुनिया
सचिन और द्रविड़ से आगे सहवाग
01 अप्रैल, 2008 | खेल की दुनिया
पटेल ने आईसीसी का प्रस्ताव ठुकराया
31 मार्च, 2008 | खेल की दुनिया
अक्षय का टशन दिल्ली के साथ
31 मार्च, 2008 | खेल की दुनिया
द्रविड़ के दस हज़ार टेस्ट रन पूरे
29 मार्च, 2008 | खेल की दुनिया
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>