BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
शुक्रवार, 11 अप्रैल, 2008 को 09:33 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
'आईपीएल और आईसीएल के बीच हों मैच'
 

 
 
कपिल देव
कपिल आईसीएल और आईपीएल की टीमों के बीच मैच चाहते हैं
पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान कपिल देव ने भारतीय क्रिकेट बोर्ड के इंडियन प्रीमियर लीग या आईपीएल और अपने इंडियन क्रिकेट लीग या आईसीएल की टीमों के बीच मैच कराने की हिमायत की है.

बीबीसी हिंदी से एक विशेष बातचीत में कपिल ने कहा कि इन मैचों में उन्हें कोई आपत्ति नहीं है मगर अंत में देश के लिए ऐसी टीम होनी चाहिए जो इन लीग में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वालों से मिलकर बनी हो.

ख़ुद एक बेहतरीन ऑलराउंडर कपिल ने कहा कि नामचीन खिलाड़ियों को तो सभी जानते हैं पर वो इंडियन क्रिकेट लीग के ज़रिए ऐसे लोगों को मौक़ा देने का प्रयास कर रहे हैं जो खेलना तो चाहते हैं मगर जिन्हें मौका नहीं मिलता.

कपिल देव ने कहा कि वो अगर उन खिलाड़ियों की उम्मीदें पूरी कर पाए तो उन्हें बहुत ख़ुशी हौगी

आईसीएल के इस सीज़न में हैदराबाद की टीम को मिली जीत के बाद अब कपिल ने नौ अप्रैल से इंडियन क्रिकेट लीग की ट्वेन्टी 20 सिरीज़ एक नए स्वरुप के साथ शुरू की है.

इसमें आईसीएल के भारतीय खिलाड़ियों को मिलाकर इंडिया एलेवन, पाकिस्तान के खिलाड़ियों को मिलाकर पाकिस्तान एलेवन और अन्य खिलाड़ियों को मिलाकर वर्ल्ड एलेवन टीम बनाई गई है.

ग्लैमर

पहले आईसीएल के दौरान बॉलीवुड सितारों के कार्यक्रम आयोजित होने और अब आईपीएल में बॉलीवुड सितारों के हिस्सा लेने पर कपिल का कहना था, "क्रिकेट अच्छी होनी चाहिए, ठीक है ये ग्लैमर की दुनिया है, उसमें ग्लैमर भी चलता है लेकिन हमें कभी ये नहीं भूलना चाहिए कि क्रिकेट हमारा लक्ष्य है और हमें उसके ऊपर ही ज्यादा ग़ौर करना है."

 ठीक है ये ग्लैमर की दुनिया है, उसमें ग्लैमर भी चलता है लेकिन हमें कभी ये नहीं भूलना चाहिए कि क्रिकेट हमारा लक्ष्य है और हमें उसके ऊपर ही ज्यादा ग़ौर करना है
 
कपिल देव

कानपुर में शुरु हुए तीसरे और निर्णायक टेस्ट मैच के बारे में कपिल ने कहा कि जिस तरह की पिच भारतीय खिलाड़ियों को चाहिए थी अब वो भी उन्हें मिल गयी है, इसके बावजूद अगर वो नहीं जीते तो फिर कुछ नहीं कहा जा सकता.

कपिल ने कहा, "सबसे ज्यादा ध्यान क्रिकेट पर देना चाहिए न कि हारने के बाद दूसरे बहानों का सहारा लेना चाहिए."

1983 में विश्व कप जीतने वाली टीम के कप्तान कपिल ने इन पच्चीस सालों में क्रिकेट में आए बदलाव के बारे में कहा, "देखिए दुनिया बदल रही है और दुनिया के साथ साथ क्रिकेट बदलेगी तो कौन सी बड़ी बात है, सोच बदल गयी है, कॉरपोरेट जगत आगे आ गया है, लोग पेशेवर हो गए हैं तो अगर क्रिकेट में बदलाव बेहतरी के लिये है तो अच्छा ही है."

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
मुझे मेरी पेंशन लौटाओ:कपिल
14 फ़रवरी, 2008 | खेल की दुनिया
कपिल देव ने रोटी माँगी, नहीं मिली
04 फ़रवरी, 2004 | खेल की दुनिया
नज़र कुंबले और इंज़माम पर:कपिल
06 मार्च, 2005 | खेल की दुनिया
'टीम से हटाए गए हैं सचिन और सौरभ'
30 अप्रैल, 2007 | खेल की दुनिया
कपिल मामले पर बोर्ड की विशेष बैठक
02 अगस्त, 2007 | खेल की दुनिया
'आईसीएल-आईपीएल में हो मुक़ाबला'
15 दिसंबर, 2007 | खेल की दुनिया
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>