BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
गुरुवार, 17 अप्रैल, 2008 को 13:26 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
आईपीएल और क्रिकेट बोर्डों का टकराव
 
बीसीसीआई
बीसीसीआई को मुश्किल का भी सामना करना पड़ा है
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने जब ज़ी समूह के इंडियन क्रिकेट लीग (आईसीएल) को चुनौती देने के लिए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की घोषणा की थी, तो इसका अंदाज़ा नहीं था कि कई देशों के क्रिकेट बोर्ड इसे किस रूप में लेंगे.

सबसे बड़ी चिंता ये थी कि जिन खिलाड़ियों को आईपीएल के लिए साइन किया गया है, वे अपने देश के लिए अंतरराष्ट्रीय मैचों में कैसे खेल पाएँगे या फिर ये कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) आईपीएल के लिए कार्यक्रमों में कोई फेरबदल करेगा या नहीं.

इस बार तो आईसीसी ने ऐसा नहीं किया है लेकिन इस प्रतियोगिता की सफलता पर शायद ये निर्भर करे कि अगले साल आईसीसी इसमें कोई छूट देने को राज़ी हो जाए.

इंग्लैंड में काउंटी चैम्पियनशिप से सीधे टकराव के कारण इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने अपने खिलाड़ियों को आईपीएल में जाने से मना कर दिया. क्योंकि काउंटी के साथ-साथ उसी समय इंग्लैंड और न्यूज़ीलैंड का भी मुक़ाबला होना है.

डिमित्री मैस्करान्हैस को छोड़कर इंग्लैंड का कोई भी खिलाड़ी आईपीएल में नहीं गया है. हालाँकि ईसीबी पर इसके लिए दबाव बन रहा है. लेकिन अभी तक ईसीबी ने अपने रुख़ में कोई नरमी नहीं दिखाई है.

बातचीत

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड से भी बीसीसीआई ने आईपीएल को लेकर कई बार बातचीत की. ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड को भी अपने अंतरराष्ट्रीय मैचों की चिंता थी. साथ ही उसे प्रायोजकों को लेकर भी चिंता थी कि कहीं उसके प्रायोजक और आईपीएल के प्रायोजकों के बीच टकराव ना हों.

ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड को ये भी चिंता थी कि आईपीएल के कारण कहीं उसके खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय मैचों से ना दूर भागें. लेकिन आख़िरकार बीसीसीआई और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड में समझौता हो गया और आईपीएल के लिए ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी उपलब्ध हो सके.

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड में दूसरी तरह की स्थिति थी. बोर्ड ने जिन खिलाड़ियों को अनुबंध नहीं दिए थे, उन्होंने पहले ही ज़ी समूह के इंडियन क्रिकेट लीग (आईसीएल) से नाता जोड़ लिया था.

चूँकि ये पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अनुबंध से नहीं जुड़े थे, बोर्ड ने उन खिलाड़ियों पर कोई आपत्ति नहीं की. बाद में आईपीएल में उसने खिलाड़ियों को जाने को मंज़ूरी दे दी.

इसी तरह वेस्टइंडीज़ क्रिकेट बोर्ड और न्यूज़ीलैंड क्रिकेट बोर्ड ने भी खिलाड़ियों के आईपीएल में जाने को लेकर आपत्ति तो जताई लेकिन उनकी आपत्ति आईपीएल के असर को लेकर थी ना कि किसी टकराव के कारण.

 
 
कपिल देव दोनों लीग के बीच मैच
कपिल आईसीएल और भारतीय बोर्ड के आईपीएल के बीच मैच चाहते हैं.
 
 
सौरभ गांगुली आईपीएल: साइड इफ़ेक्ट
भारतीय क्रिकेटरों का लचर प्रदर्शन कहीं आईपीएल का साइड इफ़ेक्ट तो नहीं.
 
 
शोएब अख़्तर आईपीएल की लाल झंडी
पीसीबी के प्रतिबंध के बाद आईपीएल ने भी शोएब को दिखाई लाल झंडी.
 
 
बाल ठाकरे पवार के नाम पत्र
आईपीएल को लेकर बाल ठाकरे ने शरद पवार को खुली चिट्ठी लिखी है.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
ट्वेन्टी-20 की अपनी जगह हैः पॉलक
15 अप्रैल, 2008 | खेल की दुनिया
'आईपीएल और आईसीएल के बीच हों मैच'
11 अप्रैल, 2008 | खेल की दुनिया
प्रतिबंध के ख़िलाफ़ शोएब की अपील
04 अप्रैल, 2008 | खेल की दुनिया
आईपीएल के साइड इफ़ेक्ट
04 अप्रैल, 2008 | खेल की दुनिया
शोएब को आईपीएल की लाल झंडी
03 अप्रैल, 2008 | खेल की दुनिया
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>