http://www.bbcchindi.com

शुक्रवार, 30 मई, 2008 को 17:57 GMT तक के समाचार

पहले सेमीफ़ाइनल में दिल्ली धराशाई

मुंबई में खेला गया आईपीएल का पहला सेमीफ़ाइनल एकतरफ़ा सा रहा और दिल्ली डेयर डेविल्स की राजस्थान रॉयल्स के हाथों 105 रनों से बुरी तरह हार हुई है.

निर्धारित 20 ओवरों में राजस्थान रॉयल्स ने नौ विकेट गँवाकर 192 रन बनाए थे लेकिन दिल्ली की टीम 87 रन बनाकर 16.2 ओवरों में ही धराशाई हो गई.

शेन वाटसन 52 रनों के योगदान और 10 रन देकर तीन विकेट लेने के लिए मैन ऑफ़ द मैच चुने गए.

आईपीएल में अब तक कई दिलचस्प मुक़ाबले देखने को मिले थे लेकिन इसका पहला सेमीफ़ाइनल तो लगभग एकतरफ़ा दिखा और मुक़ाबले का रोमांच लगभग ग़ायब था.

दूसरा सेमीफ़ाइनल शनिवार को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में ही किंग्स इलेवन पंजाब और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच होगा.

इस दूसरे सेमीफ़ाइनल के विजेता को अब फ़ाइनल में राजस्थान रॉयल्स से भिड़ना होगा.

धराशाई दिल्ली

पहले पाँच ओवरों में वीरेंदर सहवाग गौतम गंभीर के आउट होने के बाद ही दिखने लगा था कि मैच दिल्ली डेयरडेविल्स के हाथों से फिसल गया है और वह फिर उनके हाथों में कभी नहीं आया.

सहवाग दूसरे ओवर में ही तीन रन बनाकर लौट गए तो गंभीर चौथे ओवर में 11 रन बनाकर. दोनों के विकेट वाटसन ने लिए.

शिखर धवन से उम्मीदें थीं लेकिन वाटसन ने उन्हें अपना तीसरा शिकार बनाया और वे जडेजा के हाथों कैच आउट हो गए. वे सिर्फ़ पाँच रनों का योगदान दे सके.

फिर तो एक के बाद एक विकेट गिरते रहे.

दिलशान ने ही कुछ देर पारी को संभालने की कोशिश की और टीम के लिए 33 रन जोड़े लेकिन उन्हें वार्न ने पेवेलियन भेज दिया.

सबसे दिलचस्प विकेट गिरा मोहम्मद आसिफ़ का. वे एक शॉट लगाने के बाद टहलते हुए क्रीज़ पर लौट रहे थे तभी पठान ने गेंद फेंकी और रावत ने उन्हें रन आउट कर दिया.

दिल्ली डेयर डेविल्स की बुरी स्थिति का अंदाज़ा इसी बात से लगता है कि सिर्फ़ तीन खिलाड़ियों ने दो अंकों में रन बनाए. दिलशान-33, सहवाग-11 और कार्तिक-10.

वाटसन के अलावा मोहम्मद कैफ़ भी सफल गेंदबाज़ रहे जिन्होंने 17 रन देकर तीन विकेट लिए.

रॉयल पारी

राजस्थान रॉयल्स ने अपने अब तक के प्रदर्शन और अपनी छवि के मुताबिक़ ही शानदार खेल का प्रदर्शन किया.

उनकी शुरुआत ही धमाकेदार रही और सलामी जोड़ी ने दस रनों के औसत से रन जोड़ने शुरु किए.

सातवें ओवर में जब स्मिथ को माहरूफ़ की गेंद पर धवन ने लपका तो टीम का स्कोर 65 रनों तक पहुँच चुका था और स्मिथ ख़ुद पाँच चौकों की मदद से 25 रन जोड़ चुके थे.

हालांकि राजस्थान का दूसरा विकेट भी इसी ओवर में गिर गया जब असनोदकर को मनोज तिवारी ने लपक लिया.

शेन वाटसन ने हालांकि कुछ धीमी शुरुआत की लेकिन जल्दी ही वे लय में आ गए और आउट होने से पहले 29 गेंदों में 52 रन बनाए. उन्होंने चार चौके लगाए और तीन छक्के.

हमेशा की तरह युनूस पठान ने अच्छे खेल का प्रदर्शन किया.

रन आउट होने से पहले उन्होंने चार छक्के और तीन चौकों की मदद से 21 गेंदों में 45 रनों की पारी खेली.

दिल्ली डेयर डेविल्स की ओर से माहरुफ़ सफल गेंदबाज़ रहे जिन्होंने तीन विकेट लिए. हालांकि वे महंगे भी काफ़ी साबित हुए और चार ओवरों में 38 रन दिए.