BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
शनिवार, 23 अगस्त, 2008 को 12:36 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
क्या कोई सुन रहा है इनकी आवाज़?
 

 
 

कांस्य पदक जीतने के बाद पहलवान सुशील कुमार को ये समझ में नहीं आ रहा था कि भारतीय प्रेस उनके पीछे इतने पागलपन के साथ क्यों पड़ा हुआ है.

वो यह नहीं समझ पा रहे थे कि इतना हंगामा क्यों मचा हुआ है क्योंकि पहले भी वे कई एशियाई और अंतरराष्ट्रीय मुक़ाबलों में पदक जीत चुके हैं.

लेकिन पहले उन्हें कभी एक स्टार जैसा रुतबा नहीं दिया गया. अपने लोगों से दिल्ली में फ़ोन पर बातचीत करने के बाद सुशील कुमार को पता चला कि उन्होंने जितना सोचा नहीं था, उन्हें उतनी पहचान मिली है.

यह एक ऐसे व्यक्ति की प्रतिक्रिया थी, जो ग़रीबी से जूझता रहा है. कुश्ती की बात करें, तो सुशील कुमार के सामने इतने अवरोध थे कि उनके पास अपना कोच नहीं था और न ही मालिश करने वाला.

लेकिन इन सब मुश्किलों के बावजूद बीजिंग में उन्होंने डेढ़ घंटे के अंतराल पर तीन-तीन मुक़ाबले में जीत हासिल की, पदक जीता और देश का सिर गर्व से ऊँचा किया.

आवश्यकता

लेकिन इसका बतंगड़ बनाने की क्या आवश्यकता? दरअसल ये सारी बातें हमें सचेत करती हैं, सावधान करती हैं. अभिनव बिंद्रा ने भी तो स्वर्ण पदक जीतने के बाद ऐसा ही कुछ कहा था.

अभिनव ने भारत को ओलंपिक का पहला स्वर्ण दिलाया

अभिनव ने ओलंपिक में ऐसा प्रदर्शन कर दिखाया, जिससे हर देशवासी का सिर गर्व से ऊँचा हो गया. बिंद्रा ने वो कर दिखाया जो ज़्यादातर भारतीय सपने में भी नहीं सोचते थे.

लेकिन शानदार जीत के बाद भी बिंद्रा ने एक सवाल उठाया कि हमें ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने में इतने वर्ष क्यों लग गए. उन्होंने यह भी कह दिया कि अगर हम नियमित तौर पर ऐसा प्रदर्शन नहीं करेंगे तब तक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेल शक्ति के रूप में हमारी पहचान नहीं बन पाएगी.

सुशील से अलग बिंद्रा एक धनी परिवार से आते हैं. उनका ये भी मानना है कि माता-पिता की ओर से मिली वित्तीय सहायता के बिना वे ओलंपिक में स्वर्ण पदक नहीं जीत पाते.

सुशील और अभिनव- ना ही इन दोनों का खेल अलग है बल्कि दोनों की पृष्ठभूमि में भी ज़मीन-आसमान का अंतर है. लेकिन जिस दिन इन दोनों खिलाड़ियों ने एक सपना पूरा किया, दोनों की प्रतिक्रिया एक जैसी ही थी.

अभिनव धनी परिवार से आते हैं और सुशील एक ग़रीब परिवार से, लेकिन दोनों ने हम सभी तक यही बात पहुँचाई है कि कृपया हमारे पदक को अपना मत बनाइए.

ये बात उन सभी भारतीय लोगों के लिए है जो एक नए भारत की कसमें खाते हैं और दुनिया में भारत की बढ़ती साख की बात करते हैं.

पहचान

ऐसा नहीं कि सुशील और अभिनव बिंद्रा को भारतीय होने पर गर्व नहीं या ओलंपिक में अपने देश की पहचान बनाने को लेकर वे उत्साहित नहीं है. वे तो सिर्फ़ ये कह रहे हैं कि आज वे जो कुछ भी हैं, वे अपने बलबूते पर हैं.

विजेंदर कुमार ने मुक्केबाज़ी में कांस्य जीता

हमारे तीसरे पदक विजेता विजेंदर भी अभिनव की अपेक्षा सुशील के क़रीब हैं. दोनों ने ऐसे खेल में पदक जीता है जिसकी भारत में बेहतर परंपरा रही है. ख़ासकर कुश्ती की.

अब यह हमारे देश पर निर्भर है कि वह पहलवानों को कीचड़ के गड्ढ़ों से निकालकर मैट्स में कुश्ती कराए, भिवानी बॉक्सिंग क्लब जैसे क्लबों को आधुनिक सुविधाएँ उपलब्ध कराए ताकि आने वाले ओलंपिक खेलों में हम और पदक जीत पाएँ और अपनी उपलब्धियों पर गर्व कर सकें.

लेकिन ऐसा हो- इसके लिए हमें अपने टीवी चैनलों और खेल के पन्नों पर इन खेलों को जगह देनी पड़ेगी. हमेशा सिर्फ़ क्रिकेट और क्रिकेट की ही बात बंद करनी होगी.

अन्यथा 15 दिनों तक चीखने-चिल्लाने से क्या फ़ायदा. हम 15 दिनों तक यही चिल्लाते रहते हैं कि हम ज़्यादा पदक क्यों नहीं जीत सकते और उसके बाद चार साल तक ऊंघते रहते हैं.

भारत जैसे देश में बेहतरीन आर्थिक प्रगति के बावजूद जीवन दो हिस्सों में बँटा हुआ है. ऐसे खेल सरकार के लिए पहली प्राथमिकता तो नहीं होंगे.

एक राष्ट्र के रूप में हम तभी आगे निकल पाएँगे जब ये खाई पूरी तरह भरी जाए. लेकिन उस समय भी खेलों की प्राथमिकता तय करने में कोताही और सरकारी धन के दुरुपयोग को न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता.

क्योंकि इसी कारण हम कहीं नहीं है...ना इधर और ना ही उधर. अभिनव बिंद्रा, विजेंदर और सुशील ने हमें सचेत करने के लिए एक घंटी बजाई है. लेकिन क्या हम सुन रहे हैं?

(लेखक हिंदुस्तान टाइम्स के खेल सलाहकार हैं)

 
 
उसैन बोल्ट उसैन 'थंडर' बोल्ट
ऐसा धावक जिसमें बिजली की रफ़्तार है और जीत का जज़्बा कूट-कूटकर भरा है.
 
 
घमंडी नहीं हैं अभिनव
स्वर्ण पदक विजेता अभिनव बिंद्रा की चुप्पी का ग़लत अर्थ लगाया जा रहा है.
 
 
चीनी बाज़ार दो बीजिंग से परिचय
ओलंपिक खेलों के मेज़बान बीजिंग शहर से अलग भी एक बीजिंग है.
 
 
ओलंपिक ग़रीबी खेल की
भारत ओलंपिक खेलों में पदक जीतने के मामले में क्यों इतना ग़रीब है?
 
 
महेंद्र धोनी ट्वेन्टी-20 का जिन्न
ट्वेन्टी-20 क्रिकेट का जिन्न क्रिकेट खिलाड़ियों के मन-मस्तिष्क पर बैठा हुआ है.
 
 
महेंद्र धोनी आराम या राम राम
खिलाड़ियों को आराम देने के लिए बोर्ड ने पहल नहीं की तो नुक़सान होना तय.
 
 
फ़ुटबॉल बरक़रार है ख़ूबसूरती
क्रिकेट की तरह फ़ुटबॉल के नियम नहीं बदले हैं, इसकी ख़ूबसूरती बरक़रार हैं.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
ओलंपिक के प्रतीक चिन्हों की है माँग
22 अगस्त, 2008 | खेल की दुनिया
स्वर्ण पदक के ज़रिए पिता की तलाश
23 अगस्त, 2008 | खेल की दुनिया
स्वर्ण पदकों पर सवालिया निशान
22 अगस्त, 2008 | खेल की दुनिया
प्रवासी चीनियों की 'घर वापसी'
20 अगस्त, 2008 | खेल की दुनिया
ओलंपिक में भारत का ऐतिहासिक दिन
20 अगस्त, 2008 | खेल की दुनिया
मुक्केबाज़ जितेंदर कुमार भी हारे
20 अगस्त, 2008 | खेल की दुनिया
बोल्ट ने 200 मीटर दौड़ भी जीती
20 अगस्त, 2008 | खेल की दुनिया
भारतीय मुक्केबाज़ अखिल कुमार हारे
18 अगस्त, 2008 | खेल की दुनिया
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>