फेसबुक

  1. अमरीका

    6 जनवरी को हुए दंगे जैसी स्थिति दोबारा पैदा न हो, इसलिए देशभर से नेशनल गार्ड की टुकड़ियां वॉशिंगटन भेजी गई हैं.

    Catch up
    next
  2. ज़ुबैर अहमद

    बीबीसी संवाददाता

    फ़ेसबुक, ट्वीटर का वैकल्पिक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म बनाना कितना मुमकिन?

    अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप सोशल मीडिया के ऐसे विकल्प खोजने की कोशिश कर रहे हैं जहाँ उनकी बातों पर कोई रोक-टोक न हो मगर यह इतना आसान नहीं है

    और पढ़ें
    next
  3. बीजेपी विधायक संगीत सोम बोले, पाकिस्तान चले जाएं वैक्सीन का विरोध करने वाले

    संगीत सोम ने कोरोना वैक्सीन का विरोध करने वालों को पाकिस्तानी मानसिकता का बताते हुए सलाह दे डाली. प्रेस रिव्यू.

    और पढ़ें
    next
  4. Video content

    Video caption: प्राइवेसी पर ख़तरा, वॉट्सऐप अपनी सफ़ाई में क्या बोला?

    मैसेजिंग ऐप वॉट्सऐप बीते कई दिनों से सवालों के घेरे में है. वॉट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी के चलते लोग इसे अपनी निजता पर हमला बता रहे हैं.

  5. सिन्धुवासिनी

    बीबीसी संवाददाता

    वॉट्सऐप

    अगर पिछले एक-दो दिनों में आपके पास भी वॉट्सऐप पर प्राइवेसी पॉलिसी से जुड़ा नोटिफ़िकेशन आया और आप ‘आई एग्री’ पर क्लिक करके आगे बढ़ गए तो इस लेख को ध्यान से पढ़िए.

    और पढ़ें
    next
  6. ट्विटर की तरह फ़ेसबुक ने भी ट्रंप को ब्लॉक किया

    View more on twitter

    फ़ेसबुक ने भी ट्विटर की तरह राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अकाउंट को अगले 24 घंटे के लिए बैन करने का निर्णय लिया है.

    कंपनी ने इस निर्णय के लिए अपनी नीतियों का हवाला दिया है.

    फ़ेसबुक ने लिखा है, “राष्ट्रपति ट्रंप ने फ़ेसबुक की दो नीतियों का उल्लंघन किया है जिसकी वजह से 24 घंटे के लिए उनके अकाउंट के फ़ीचर बंद किये जाते हैं यानी वे इस अंतराल में कुछ पोस्ट नहीं कर सकेंगे.”

  7. फ़ेसबुक ने किसान एकता मोर्चा का एकाउंट किया सस्पेंड

    किसान एकता मोर्चा

    किसान आंदोलन की लड़ाई को सोशल मीडिया के मैदान में ले जाने के मक़सद से बनाए गए 'किसान एकता मोर्चा' पेज को फ़ेसबुक ने सस्पेंड कर दिया है.

    फ़ेसबुक का कहना है कि किसान एकता मोर्चा का एकाउंट उनके कम्यूनिटी स्टैंडर्ड का पालन नहीं कर रहा था.

    किसान आंदोलनः क्यों हैं नाराज़ किसान?

  8. मार्क ज़करबर्ग ने बताया, फ़ेसबुक के लिए क्यों ख़ास है भारत

    View more on twitter

    भारतीय बाज़ार की अहमियत का जिक्र करते हुए फ़ेसबुक के सीईओ मार्क ज़करबर्ग ने मंगलवार को कहा कि उनकी कंपनी के लिए भारत 'बेहद ख़ास और महत्वपूर्ण' है क्योंकि यहां लाखों लोग उनके प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हैं.

    उन्होंने कहा कि फ़ेसबुक पर कुछ नए फ़ीचर दुनिया भर में शुरू किए जाने से सबसे पहले भारत में लॉन्च किए जा रहे हैं.

    'फ़ेसबुक फ़्यूल फ़ॉर इंडिया 2020' इवेंट के दौरान फ़ेसबुक के सीईओ मार्क ज़करबर्ग ने कहा, "भारत हमारे लिए बेहद ख़ास और महत्वपूर्ण है. यहां लाखों लोग अपने दोस्तों और परिवार के लोगों से संपर्क में रहने के लिए हमारे प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हैं. चाहे वो व्हॉट्सऐप मैसेज हो, या फ़ेसबुक पोस्ट हो या फिर इंस्ट्राग्राम पर तस्वीरें हों."

    "देश भर के लाखों छोटे कारोबारी अपने ग्राहकों तक पहुंचने के लिए, ऑर्डर मैनेज करने के लिए और अपना कारोबार बढ़ाने के लिए व्हॉट्सऐप बिज़नेस और मैसेंजर सर्विस का इस्तेमाल करते हैं. और सच तो ये है कि हमारे कुछ नए फ़ीचर्स को दुनिया भर में लॉन्च किए जाने से पहले उसकी टेस्टिंग हम भारत में करते हैं."

  9. बजरंग दल

    बजरंग दल को ख़तरनाक संगठन में शामिल करने की मांग जून में दिल्ली के बाहर एक चर्च पर हमले के बाद से उठी थी. अख़बारों की समीक्षा.

    और पढ़ें
    next