ऑस्ट्रेलिया

  1. लिंडसे गैलोवे

    बीबीसी ट्रैवल

    कोरोना वायरस के बारे में जानकारी

    स्वास्थ्य सेवा की रैंकिंग में ऊपर के देश कोविड-19 वायरस को किस तरह से नियंत्रित कर रहे हैं?

    और पढ़ें
    next
  2. डेविड वॉर्नर

    ऑस्ट्रेलिया के धाकड़ बल्लेबाज़ डेविड वॉर्नर भी दूसरे क्रिकेटरों की तरह इन दिनों खेल से दूर हैं.

    और पढ़ें
    next
  3. चीन ने ऑस्ट्रेलिया के सामने रखा बातचीत का प्रस्ताव

    ट्विटर

    चीन में अंग्रेज़ी भाषा के राष्ट्रीय अख़बार ‘ग्लोबल टाइम्स’ की रिपोर्ट के अनुसार, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिज़ियन ने आज ऑस्ट्रेलियाई सरकार के प्रतिनिधियों के सामने मुलाक़ात का प्रस्ताव रखा है और कहा है कि दोनों देशों को व्यावहारिक सहयोग और अनुकूल परिस्थितियाँ बनाने के लिए अधिक से अधिक उपाय करने की ज़रूरत है.

    चीन ऑस्ट्रेलिया का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार मुल्क है और फ़िलहाल दोनों के बीच आपसी व्यापार को लेकर तनाव चल रहा है.

    कुछ लोग इसकी वजह ऑस्ट्रेलिया द्वारा की गई कोरोना वायरस के स्रोत की स्वतंत्र जाँच की माँग को मान रहे हैं, जबकि चीन इस बात से साफ़ इनकार कर चुका है.

    फ़िलहाल चीन ने ऑस्ट्रेलिया की चार सबसे बड़े निर्यातक कंपनियों से आने वाले बीफ़ पर रोक लगा दी है.

    माना ये भी जा रहा है कि आने वाले दिनों में चीन ऑस्ट्रेलिया से आने वाले डेरी उत्पादों, सी-फ़ूड, जौं और अन्य उत्पादों पर भी कुछ प्रतिबंध लगा सकता है या उनके निर्यात में कुछ नई शर्तें लागू कर सकता है.

  4. ब्रेकिंग न्यूज़ऑस्ट्रेलिया और चीन का तनाव किसके लिए घातक?

    चीन के सरकारी मीडिया ने ऑस्ट्रेलिया का जमकर मज़ाक उड़ाया है. ग्लोबल टाइम्स ने ऑस्ट्रेलिया को लेकर लिखा है कि कंगारू अमरीका की कठपुतली बन गया है.

    ग्लोबल टाइम्स ने अपनी संपादकीय में लिखा है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन में यूरोपीय यूनियन के प्रस्ताव के साथ ऑस्ट्रेलिया का होना बताता है वो पूरे मामले में नाकाम रहा है.

    संपादकीय में लिखा है, ''ऑस्ट्रेलिया कोरोना वायरस की उत्पति को लेकर स्वतंत्र जांच की मांग कर रहा है और उसका लक्ष्य चीन है. ऑस्ट्रेलिया के इस रुख़ के बारे में स्पष्ट है कि वो अमरीका के कहे पर चल रहा है. वहां के नेता चीन की आलोचना कर रहे हैं लेकिन इससे नुक़सान उन्हीं का हो रहा है.''

    View more on twitter

    दूसरी तरफ़ ऑस्ट्रेलिया के वाणिज्य मंत्री ने चीनी दूतावास की टिप्पणी पर कड़ा एतराज जताया है. ऑस्ट्रेलिया स्थित चीनी दूतावास ने कहा था कि कोरोना वायरस को लेकर स्वतंत्र जांच की मांग एक मज़ाक से ज़्यादा कुछ नहीं है.

    ऑस्ट्रेलिया के वाणिज्य मंत्री सिमोन बर्मिंगम ने स्काई न्यूज़ से कहा है, ''हम कोविड 19 जैसे गंभीर मसले पर सस्ती बहस में नहीं पड़ना चाहते हैं. हम चीनी दूतावास के साथ सस्ती बहस में नहीं करेंगे.

    चीन और ऑस्ट्रेलिया में तनाव लगातार बढ़ता जा रहा है. चीन ने ऑस्ट्रेलिया से जौ आयात पर 80 फ़ीसदी टैरिफ लगाने का फ़ैसला किया है. चीन और ऑस्ट्रेलिया के बीच कारोबारी रिश्ता काफ़ी अहम है.

    अगर दोनों देशों के बीच कारोबारी संबंध में तनाव आता है तो ऑस्ट्रेलिया के लिए इसकी भरपाई आसान नहीं होगा. 2018 में बीफ़, वाइन, पर्यटन और चीनी स्टूडेंट से ऑस्ट्रेलिया को चीन से 18 अरब डॉलर का कारोबार मिला.

  5. गुरप्रीत सैनी

    बीबीसी संवाददाता

    WHO

    भारत ने भी इस प्रस्ताव का समर्थन किया है. क्या इससे भारत-चीन के रिश्ते बिगड़ेंगे?

    और पढ़ें
    next
  6. चीन के ख़िलाफ़ समर्थन को लेकर ऑस्ट्रेलिया ने किया ये दावा

    विश्व स्वास्थ्य संगठन

    ऑस्ट्रेलिया का दावा है कि चीन में कोरोना वायरस के स्रोत की एक स्वतंत्र जाँच की उनकी माँग को अब कई देशों का समर्थन मिल रहा है.

    ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने बीते दिनों माँग की थी कि कोविड-19 बीमारी फैलने की स्वतंत्र और निष्पक्ष जाँच की जाये. वायरस फैलने में चीन की भूमिका की जाँच करने की माँग भी ऑस्ट्रेलिया ने की थी.

    ‘द सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड’ की एक रिपोर्ट के अनुसार, सौ से ज़्यादा देश सोमवार को होने वाली वर्ल्ड हेल्थ असेंबली की चर्चा में ऑस्ट्रेलिया की इस माँग के सह प्रायोजक बनने वाले हैं.

    हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के समक्ष ऑस्ट्रेलिया ने जो प्रस्ताव रखा है उसमें कहीं भी किसी देश या जगह का ज़िक्र नहीं है, लेकिन WHO से अपील की गई है कि ‘वो ज़ूनॉटिक कोरोना वायरस के स्रोत की निष्पक्ष जाँच करे और पता लगाये कि मनुष्यों तक यह वायरस कैसे पहुँचा.’

    चीन के हूबे प्रांत में स्थित वुहान शहर में सबसे पहले कोरोना वायरस संक्रमण के मामले सामने आये थे. दिसंबर के अंत में वहाँ कुछ लोगों की इस संक्रमण से मौत हो गई थी.

    माना जा रहा है कि ऑस्ट्रेलिया को यह अंतरराष्ट्रीय समर्थन चीन को अलग-थलग करने के लिए मिल रहा है, क्योंकि जब ऑस्ट्रेलिया ने निष्पक्ष जाँच की माँग उठाई थी तो चीन ने इसे राजनीति से प्रेरित बताया था और ऑस्ट्रेलिया के साथ व्यापार पर कुछ प्रतिबंधों की घोषणा की थी.

  7. कोरोना वायरस पर जाँच को लेकर भिड़े चीन और ऑस्ट्रेलिया

    GETTY

    ऑस्ट्रेलिया का ये कहना कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति में चीन की भूमिका की जाँच होनी चाहिए, अब ऑस्ट्रेलिया और चीन के बीच व्यापारिक झगड़े की वजह बन गया है जिसका नुक़सान दोनों देशों को हो सकता है.

    ऑस्ट्रेलिया के वाणिज्य मंत्री साइमन बर्मिंगम चीन के वाणिज्य मंत्री ज़ॉन्ग शेन से बातचीत का प्रयास कर रहे हैं जिन्होंने इस सप्ताह की शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया से बार्ली यानी जौ और बीफ़ के आयात पर रोक लगाने का आदेश दिया था.

    बर्मिंगम ने 13 मई को कहा, “लाखों लोग इस महामारी से मर चुके हैं. लाखों लोगों की नौकरियाँ छिन गई हैं और करोड़ों लोगों की ज़िंदगी प्रभावित है. ऐसे में हम कम से कम एक निष्पक्ष जाँच की उम्मीद तो कर ही सकते हैं. और ऐसी माँग करने वाला ऑस्ट्रेलिया अकेला देश नहीं है.”

    EPA

    कितना हो सकता है चीन के ग़ुस्से का असर?

    चीन ने अपने व्यापार नियमों के उल्लंघन का हवाला देते हुए ऑस्ट्रेलिया से निर्यात हो रहे बीफ़ पर रोक लगा दी है.

    चीन ऑस्ट्रेलिया की चार निर्यातक कंपनियों से बीफ़ लेने से इनकार कर चुका है जिनमें से एक कंपनी का मालिक चीन का व्यापारी है.

    इससे पहले भी चीन ऑस्ट्रेलिया से आ रहे जौ के आयात पर भारी शुल्क लगाने की चेतावनी दे चुका है. अगर चीन ने इस चेतावनी पर अमल किया तो ऑस्ट्रेलिया के जौ के किसानों को 80 प्रतिशत तक मूल्य गिराना पड़ सकता है.

    चीन क़रीब एक अरब अमरीकी डॉलर की क़ीमत का जौ हर साल ऑस्ट्रेलिया से आयात करता है जिसमें से अधिकांश जौ का प्रयोग बियर बनाने में होता है.

    वहीं दूसरी ओर, चीन ऑस्ट्रेलिया के बीफ़ का एक तिहाई का ग्राहक है जिसकी सालाना क़ीमत 80 करोड़ अमरीकी डॉलर होती है. ऑस्ट्रेलिया की वाइन और डेयरी इंडस्ट्री को लग रहा है कि वो चीन का अगला निशाना बन सकते हैं.

    इसके साथ ही पर्यटन और एजुकेशन सेक्टर भी निशाने पर आ सकता है. चीन ऑस्ट्रेलिया का टॉप कारोबारी साझेदार है. 2018 में चीन ने कुल 88 अरब डॉलर का आयात किया था.

  8. ऑस्ट्रेलिया में सुरक्षाबलों की ताक़त बढ़ाने के लिए विधेयक

    ऑस्ट्रेलियाई पुलिस

    ऑस्ट्रेलिया सरकार ने संसद में एक बिल पेश किया है जिससे वहाँ सुरक्षा और ख़ुफ़िया एजेंसियाँ और ताक़तवर बन सकती हैं.

    इस विधेयक की कुछ ख़ास बातें:

    • 14 साल के बच्चों तक को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लेना संभव
    • और ज़्यादा निगरानी के अधिकार
    • ट्रैकिंग डिवाइस के इस्तेमाल के लिए वॉरंट की ज़रूरत नहीं, संस्था के भीतर से ही आदेश देना पर्याप्त
    • वॉरंट जारी करना आसान

    ऑस्ट्रेलिया के विपक्षी राजनेताओं और नागरिक अधिकार कार्यकर्ताओं ने इस बिल को लाए जाने के समय को लेकर चिंता जताई है.

    उनका कहना है कि सरकार कोरोना संकट से मची हलचल के बीच इसे पास करवाना चाहती है क्योंकि लोगों का ध्यान कहीं और है.

    ऑस्ट्रेलिया में कल मंगलवार से संसद की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई. बहुत कम सांसदों ने इसमें हिस्सा लिया है. संसद में हर व्यक्ति एक-दूसरे से डेढ़ मीटर की दूरी पर रख रहा है.

  9. मेलबोर्न में लॉकडाउन के विरोध में प्रदर्शन

    ऑस्ट्रेलिया में लॉकडाउन के विरोध में एक प्रदर्शन हुआ जिसके बाद पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ़्तार कर लिया.

    विक्टोरिया प्रदेश की राजधानी मेलबोर्न में लगभग 150 लोगों ने प्रदेश के संसद भवन के बाहर धरना दिया.

    पुलिस ने कहा कि प्रदर्शनकारियों पर लॉकडाउन नियम तोड़ने के लिए 1,600 ऑस्ट्रेलियन डॉलर यानी लगभग 80,000 रूपए तक का जुर्माना लग सकता है.

    मेलबोर्न में प्रदर्शन

    ऑस्ट्रेलिया में चरणबद्ध तरीक़े से लॉकडाउन में ढील दी जा रही है और योजना है कि जुलाई तक देश की अर्थव्यवस्था कोविड मुक्त कर लिया जाएगा.

    मगर मेलबोर्न में एक कसाईख़ाने से जुड़े मामले संक्रमण में तेज़ी आने के बाद विक्टोरिया सरकार ने ढील देने की प्रक्रिया को धीमा कर दिया है.

    रविवार को मेलबोर्न में हुए प्रदर्शन से पहले अमरीका, ब्राज़ील और कई अन्य देशों में लोगों ने पाबंदियों को नकारते हुए सड़कों पर आकर प्रदर्शन किए हैं.

    मेलबोर्न में प्रदर्शन
  10. ब्रेकिंग न्यूज़एशिया और ऑस्ट्रेलिया में क्या है ताज़ा हाल...

    स्वास्थ्यकर्मी

    कोरोना वायरस का प्रकोप एशिया और ऑस्ट्रेलिया में बढ़ता जा रहा है. आइये जानते हैं वहां क्या है हाल..

    • भारत सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमित मरीज़ों का पता लगाने के लिए सभी सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के कर्मचारियों को स्मार्टफ़ोन ऐप डाउनलोड करने के लिए कहा है. आरोग्य सेतु नामक ऐप संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने पर यूज़र को अलर्ट कर देगा. भारत में अब तक 37,000 से अधिक संक्रमित लोगों का पता चला है जबकि 1200 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.
    • वहीं, ब्रॉडकास्टर एबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, ऑस्ट्रेलिया में 40 लाख से अधिक लोगों ने कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग ऐप को डाउनलोड किया है लेकिन जो भी जानकारी इकट्ठा की गई है वो उपलब्ध नहीं है. स्वास्थ्य प्रमुख का कहना है कि निजता के नियम और अंतिम टेस्ट अभी भी किए जा रहे हैं. प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने कहा है कि कोविड सेफ़ नामक ऐप प्रतिबंधों को आसान करने के लिए ‘एक टिकट’ है.
    • सिंगापुर ने प्रतिबंधों में ढिलाई देने के लिए एक टाइमटेबल की घोषणा की है. पारंपरिक चीनी चिकित्सा पद्धति के चिकित्सक मंगलवार से कुछ गतिविधियां कर सकते हैं और हेयरड्रेसर और लॉन्डरी जैसी सेवाएं 12 मई से चल सकेंगी. शुक्रवार को शहर की सबसे उम्रदराज़ 102 वर्षीय महिला मैडप येप ले हॉन्ग को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. वहीं, सिंगापुर में 17,500 से अधिक मामले हैं और 16 लोगों की मौत हुई है.
    • थाईलैंड में कोविड-19 के छह अन्य मामलों का पता चला है जिसके बाद कुल संक्रमण की संख्या 2,966 हो गई है. वहीं, मौतों का आंकड़ा 54 ही है.