उत्तर कोरिया

  1. उत्तर कोरिया लोगों को सिगरेट पीने से रोकने के लिए क्या कर रहा है

    उत्तर कोरिया

    उत्तर कोरिया दुनिया के उन मुल्कों में से हैं जहां धूम्रपान करने वाले लोगों की बड़ी आबादी रहती है.

    यहां तक कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन भी सार्वजनिक तौर पर सिगरेट हाथ में लिए दिखते रहते हैं. ऐसे में ये सवाल किसी के मन में आ सकता है कि उत्तर कोरिया अपने लोगों को सिगरेट पीने से कैसे हतोत्साहित करता होगा?

    देश में धूम्रपान के ख़िलाफ़ कई अभियान चलाए जा चुके हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक उत्तर कोरिया में लगभग आधे पुरुष धूम्रपान करते हैं. हालांकि यहां महिलाओं में सिगरेट पीने का चलन न के बराबर ही है.

    इसी महीने पारित एक क़ानून के तहत सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान प्रतिबंधित कर दिया गया है. लेकिन सरकारी मीडिया में सर्वोच्च नेता किम जोंग उन को हाथ में सिगरेट लिए दिखाया जाता है जिससे गलत उदाहरण पेश होता है.

    पढ़ें पूरी स्टोरी.

  2. किम जोंग उन

    विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक उत्तर कोरिया में लगभग आधे पुरुष धूम्रपान करते हैं. हालांकि यहां महिलाओं में सिगरेट पीने का चलन न के बराबर ही है.

    और पढ़ें
    next
  3. उत्तर कोरिया और किम जोंग-उन के मामले में जो बाइडन का क्या रुख़ होगा?

    प्रतीक जाखड़

    बीबीसी मॉनिटरिंग

    Reuters

    जब से डेमोक्रैटिक पार्टी ने जो बाइडन का नाम उनके राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के तौर पर फ़ाइनल किया, तभी से राजनीतिक विशेषज्ञ इस बात पर चर्चा कर रहे हैं कि ‘अगर बाइडन अमेरिका के राष्ट्रपति बने तो डेमोक्रैट सरकार की विदेश नीति डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन से कितनी अलग होगी.’

    अमेरिका में विदेश नीति एक ऐसा विषय है जिसके बारे में बात होती है, तो उत्तर कोरिया से अमेरिका के रिश्तों का ज़िक्र ज़रूर होता है.

    ट्रंप के कार्यकाल में अमेरिका के उत्तर कोरिया से रिश्ते बनते-बिगड़ते रहे. एक समय वो भी आया जब ट्रंप ने उत्तर कोरिया को धमकाया कि ‘अगर सुधार नहीं किया, तो नतीजे भुगतने के लिए तैयार रहें.’

    लेकिन कुछ ही सप्ताह में नाटकीय बदलाव हुआ और ट्रंप उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग-उन से मिले. इससे दुनिया में यह संदेश गया कि उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच फ़िलहाल सब सामान्य है.

    ट्रंप प्रशासन ने भी इसे अपनी कूटनीतिक जीत बताया और कहा कि उत्तर कोरिया से संबंधों में ऐसा सुधार उनके कार्यकाल की बड़ी उपलब्धि है.

    Getty Images
    Image caption: डोनाल्ड ट्रंप ने अपने कार्यकाल में उत्तर कोरिया से अमेरिका के संबंधों में सुधार को एक बड़ी उपलब्धि बताया था

    लेकिन बाइडन किम जोंग-उन को ‘ठग’ कहते हैं. राष्ट्रपति चुनाव की बहसों में भी उन्होंने इसी संबोधन से किम का ज़िक्र किया.

    इससे ऐसा लगता है कि जो बाइडन उत्तर कोरिया और किम जोंग-उन को लेकर थोड़ा सतर्क रहेंगे.

    राष्ट्रपति चुनाव की बहस में डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था, “बराक ओबामा से जब मेरी बातचीत हुई थी, जो एक लंबी बातचीत थी, तब उन्होंने कहा था कि उत्तर कोरिया हमारे लिए चिंता का सबसे बड़ा विषय है और ऐसा हो सकता है कि हमें उनसे युद्ध करना पड़े और अगर यह युद्ध हुआ, तो वो एक परमाणु युद्ध होगा. मेरे राष्ट्रपति बनने के बाद उत्तर कोरिया से हमारे संबंध बेहतर हुए हैं और युद्ध की कोई संभावना नहीं रह गई है.”

    ट्रंप ने यह भी कहा था कि “किम जोंग-उन के साथ मेरे संबंध अच्छे हैं. वो थोड़े अलग किस्म के इंसान हैं, पर अच्छे हैं और शायद वो भी मेरे बारे में यही सोचते होंगे.”

    इसके जवाब में जो बाइडन ने कहा था, “जिन संबंधों का हवाला ट्रंप दे रहे हैं, वो एक ऐसे इंसान के साथ हैं, जो एक ठग है. इनका यह कहना इस बात को दिखाता है कि ट्रंप को किम जोंग-उन और उत्तर कोरिया की परमाणु मिसाइलों से ख़तरा महसूस होता है. उन्हें लगता है कि उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार अमेरिका की धरती को छू सकते हैं.”

    Reuters

    इस बारे में एक दक्षिण कोरियाई रिसर्चर पार्क वॉन-गोन ने समाचार एजेंसी योनहाप से बातचीत में कहा, “बाइडन उत्तर कोरिया के मामले में फिर से एक पारंपरिक दृष्टिकोण लाने की कोशिश करेंगे, ऐसी संभावना बहुत ज़्यादा है. वो बातचीत को आगे बढ़ाने के लिए कुछ शर्तें भी रख सकते हैं, जिनमें परमाणु कार्यक्रमों को पूरी तरह बंद करके दिखाना एक ज़रूरी शर्त हो सकती है.”

    पर कुछ विश्लेषकों का यह भी मानना है कि बाइडन अमेरिका की ओर से बराक ओबामा की ‘रणनीतिक धैर्य’ वाली नीति को भी लागू कर सकते हैं जिसे कुछ लोग ‘रणनीतिक अज्ञानता’ या ‘रणनीतिक कोमा’ के रूप में समझते हैं.

    उनके एक सलाहकार ने कहा है कि ‘जो बाइडन किम जोंग-उन से मिलने के इच्छुक तभी होंगे, अगर वे डेमोक्रैटिक पार्टी के परमाणु कार्यक्रम बंद करवा देने के उद्देश्यों का पालन करेंगे. लेकिन जो बाइडन उत्तर कोरिया और किम जोंग-उन से अपने रिश्तों को उस तरह आगे नहीं बढ़ाएंगे, जैसे डोनाल्ड ट्रंप ने किया.’

    सेंटर फ़ॉर नेशनल इंटरेस्ट में कोरियन स्टडीज़ के डायरेक्टर हैरी जे काज़ियानिस ने एक समाचार नेटवर्क से बातचीत में कहा कि “डोनाल्ड ट्रंप के जाने से, हम सुप्रीम लीडर किम जोंग-उन और उनके रिश्तों की ‘कैमिस्ट्री’ को खो देंगे. हालांकि, यह बात ज़्यादातर लोगों को पसंद नहीं है, पर ट्रंप और किम जोंग-उन के दोस्ताना रिश्तों के कुछ फ़ायदे भी थे.”

    साल 2019 में, उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया ने जो बाइडन के किम जोंग-उन पर आरोप लगाने की निंदा की थी और उन्हें अपशब्द भी कहे थे.

    हालांकि, अब उनके लिए इस तरह की भाषा का प्रयोग किये जाने की संभावना बहुत कम है.

    अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडन की जीत पर उत्तर कोरिया ने अब तक कोई टिप्पणी नहीं की है.

  4. Video content

    Video caption: उत्तर कोरिया का पर्दाफाश करने वाली फ़िल्म

    उत्तर कोरिया में एक नई डॉक्यूमेंट्री में दावा किया गया है कि अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों से बचने के लिए उत्तर कोरिया क्या-क्या तरीक़ीबें अपना रहा है.

  5. जर्मनी में हुई केएफ़ए की एक बैठक में हाथ मिलाते बेनोस और लार्सन

    इस डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म के निर्माता उत्तर कोरिया के सैन्य अधिकारियों के साथ फ़र्ज़ी रक्षा सौदा करने में कामयाब रहे.

    और पढ़ें
    next
  6. Video content

    Video caption: उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन जब दुनिया के सामने रो पड़े

    आमतौर पर हथियारों से जुड़े अपने फ़ैसलों और कठोरता के लिए पहचाने जाने वाले उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन शनिवार को हुई सैन्य परेड के दौरान भाषण देते-देते भावुक हो गए.

  7. Video content

    Video caption: उत्तर कोरिया की नई बैलिस्टिक मिसाइल से अमरीका की चिंता बढ़ी?

    उत्तर कोरिया की नई बैलिस्टिक मिसाइल के विशाल आकार ने देश के हथियारों के जाने-माने विशेषज्ञों को भी चकित कर दिया है.

  8. किम जोंग उन

    ये शायद पहला मौक़ा था जब दुनिया ने उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन को सार्वजनिक तौर पर भावुक होते देखा.

    और पढ़ें
    next
  9. उत्तर कोरिया मिसाइल

    उत्तर कोरिया की सत्ताधारी पार्टी की 75वीं सालगिरह पर एक बड़ा कार्यक्रम हुआ. लेकिन दुनिया के रक्षा विशेषज्ञों की नज़रें उसकी नई बैलिस्टिक मिसाइल पर जा टिकी.

    और पढ़ें
    next
  10. उत्तर कोरिया की परेड में हथियार

    परेड में सैनिकों के हाथों में नए असॉल्ट वीपन्स दिखे. साथ ही पुकगुकसॉन्ग 4ए मिसाइल और विशाल इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल भी देखी.

    और पढ़ें
    next