सोनिया गांधी

  1. रिया चक्रवर्ती

    सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने रिया चक्रवर्ती पर उनके बेटे के पैसों के हेरफेर का आरोप लगाया है. अख़बारों की समीक्षा.

    और पढ़ें
    next
  2. अनिल जैन

    वरिष्ठ पत्रकार, बीबीसी हिंदी के लिए

    पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव

    वंशवाद और परिवार से बाहर के लोगों की उपेक्षा के आरोपों को धोने की कोशिश बहुत देर से हो रही है.

    और पढ़ें
    next
  3. अपर्णा द्विवेदी

    वरिष्ठ पत्रकार

    जगनमोहन रेड्डी, ममता बनर्जी, शरद पवार

    शरद पवार, ममता बनर्जी, जगनमोहन रेड्डी - सब ने कांग्रेस से अलग हो कर अपनी नई पार्टी बनाई और राज्य की राजनीति में अपनी नई जगह बनाई.

    और पढ़ें
    next
  4. सोनिया और राहुल गांधी

    मोदी सरकार ने गांधी परिवार से जुड़े तीन ट्रस्टों की जाँच कराने का आदेश दिया है. इस जाँच के लिए एक इंटर-मिनिस्टेरियल कमेटी बनाई गई है.

    और पढ़ें
    next
  5. सलमान रावी

    बीबीसी संवाददाता

    प्रियंका गांधी

    कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी को बंगला ख़ाली करने के आदेश के बाद एक बार फिर ये मुद्दा सुर्ख़ियों में है.

    और पढ़ें
    next
  6. राहुल गांधी

    प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को देश के नाम संबोधन में कहा कि 80 करोड़ से ज़्यादा लोगों को नवंबर तक मुफ़्त अनाज दिया जाएगा, लेकिन चीन की कोई बात नहीं की.

    और पढ़ें
    next
  7. फ़ैसल मोहम्मद अली

    बीबीसी संवाददाता

    पीवी नरसिम्हा राव

    देश के पूर्व प्रधानमंत्री की जन्मशती के मौके पर उनकी विरासत और गांधी परिवार से उनके रिश्तों को लेकर चर्चा तेज़.

    और पढ़ें
    next
  8. सोनिया गांधी

    पेट्रोल और डीजल के दाम लॉकडाउन के बीच लगातार बढ़ने को लेकर कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर हमला बोला है.

    और पढ़ें
    next
  9. भूमिका राय

    बीबीसी संवाददाता

    मोदी-राहुल

    यह कोई पहला मौका नहीं है जब किसी महामारी से भारतीय राजनीति प्रभावित हुई है लेकिन मौजूदा समय में क्या कुछ बदलाव आए हैं.

    और पढ़ें
    next
  10. ब्रेकिंग न्यूज़विपक्षी दलों की मांग, ग़रीब परिवारों को छह महीने तक प्रतिमाह 7,500 रुपए दे सरकार

    देश के 22 विपक्षी दलों ने आपस में चर्चा के बाद केंद्र सरकार के सामने 11 मांगें रखी हैं जिनमें सबसे पहले ग़़रीब परिवारों को छह महीने के लिए नकद पैसा दिए जाने की मांग की गई है.

    इसमें कहा गया है कि आयकर दायरे से बाहर आने वाले सभी परिवारों को छह महीने के लिए 7,500 रुपए दिए जाएँ.

    पार्टियों ने सुझाया है कि सबसे पहले 10,000 रुपए दिए जाएँ और इसके बाद पाँच महीनों में समान किस्तों में ये राशि मज़दूरों के परिवारों तक पहुँचाई जाए.

    शुक्रवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के निमंत्रण पर वीडियो माध्यम से हुई इस बैठक में केंद्र सरकार के आर्थिक पैकेज को नाकाफ़ी बताया गया और इसकी समीक्षा किए जाने की भी मांग की गई.

    बैठक में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी हिस्सा लिया.

    हालाँकि उत्तर प्रदेश के दो बड़े दल समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी इसमें शरीक नहीं हुए.

    View more on twitter
    View more on twitter