अंतरिक्ष

  1. नासा का स्पेसएक्स ड्रैगन कैप्सूल

    इस मिशन का कामयाब होना अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के लिए एक नए युग की शुरुआत होने जैसा है. 

    और पढ़ें
    next
  2. Video content

    Video caption: स्पेस एक्स के कैप्सूल में सवार नासा के अंतरिक्षयात्री समंदर में उतरे

    नासा के दो अंतरिक्षयात्री धरती पर सुरक्षित लौट आए. ये अंतरिक्षयात्री स्पेस एक्स कंपनी के कैप्सूल में सवार थे. बीते 45 सालों में पहली बार नासा का कोई अंतरिक्षयात्री समुद्र में उतरा.

  3. Video content

    Video caption: फ़रवरी में नासा का रोवर उतरेगा मंगल पर

    सालों से चल रही एक कोशिश ने कामयाबी की उड़ान भरी. एक कोशिश है मंगल ग्रह के रहस्य समझने की .

  4. शुभम किशोर

    बीबीसी संवाददाता

    अंतरिक्ष

    कभी किसी देश ने दुश्मन देश की सैटेलाइट गिराने के लिए इस तकनीक का इस्तेमाल नहीं किया है लेकिन भविष्य में इसकी संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता.

    और पढ़ें
    next
  5. सैटेलाइट

    अमरीका और ब्रिटेन ने आरोप लगाया था कि रूस ने अंतरिक्ष में एक सैटेलाइट से हथियार जैसी कोई चीज़ लॉन्च की है.

    और पढ़ें
    next
  6. जोनाथन एमस

    बीबीसी विज्ञान संवाददाता

    चीन का अंतरिक्ष यान

    मंगल के सेहत की पड़ताल करना इस मिशन का आधा मक़सद ही है. यान के साथ संलग्न क्रूज़ शिप सात रिमोट सेंसिंग उपकरणों के ज़रिए पूरे ग्रह का अध्ययन भी करेगा.

    और पढ़ें
    next
  7. 11 जुलाई को सूर्यास्त के बाद धूमकेतु नियोवाइस इटली के मोलोफेट बंदरगाह के आसमान में चमकता देखा गया. ये धूमकेतु 23 जुलाई को धरती के सबसे नज़दीक से गुज़रेगा.

    ये धूमकेतु 23 जुलाई को धरती के सबसे नज़दीक होगा. इसके बाद अगले 6,800 साल तक दोबारा धरती से नहीं गुज़रेगा.

    और पढ़ें
    next
  8. अभियान

    होप नामक उपग्रह जापान के एक अंतरिक्ष केंद्र से छोड़ा गया है जिसके फ़रवरी 2021 तक मंगल ग्रह की कक्षा में पहुंचने की उम्मीद है.

    और पढ़ें
    next
  9. जोनाथन एमोस

    बीबीसी विज्ञान संवाददाता

    सारा अली अमीरी

    संयुक्त अरब अमीरात का मिशन मंगलः यूएई वो करने की कोशिश कर रहा है जो अब तक केवल अमरीका, रूस, यूरोप और भारत करने में कामयाब रहे हैं.

    और पढ़ें
    next
  10. Video content

    Video caption: UAE बुधवार तड़के मंगल ग्रह के लिए अपना पहला मिशन धरती से रवाना करेगा.

    यूएई के इस प्रॉजेक्ट का नाम अल-अमाल यानी उम्मीद है.