विज्ञान

  1. Video content

    Video caption: तेज़ी से पिघलती अंटार्कटिका की बर्फ़

    एंटार्कटिका की बर्फ़ बहुत तेज़ी से पिघल रही है. शोधकर्ताओं ने हालात को गंभीर बताया.

  2. जोनाथन एमोस

    बीबीसी विज्ञान संवाददाता

    कोरोना वायरस - अंटार्कटिक

    इस महादेश में चलने वाले सबसे बड़े वैज्ञानिक शोधों को एक साल तक के लिए रोका गया है.

    और पढ़ें
    next
  3. टॉम एडिंगटन

    बीबीसी न्यूज़

    लेबनान

    लेबनान की राजधानी बेरूत के तट पर तक़रीबन तीन हज़ार टन अमोनियम नाइट्रेट रखा था जिसे छह साल पहले ज़ब्त किया गया था.

    और पढ़ें
    next
  4. Video content

    Video caption: सूरत की स्कूली छात्राओं ने खोजा क्षुद्रग्रह, नासा ने की तारीफ

    सूरत की दो लड़कियों ने अंतरिक्ष की दुनिया में एक खोज की है. 10वीं में पढ़ने वाली इन लड़कियों ने एक क्षुद्रग्रह खोजा है.

  5. Video content

    Video caption: कोरोना वैक्सीन बनाने का काम किस देश में कहां तक पहुंचा?

    इस समय कोरोना महामारी के ख़िलाफ़ दुनिया भर में वैक्सीन विकसित की लगभग 23 परियोजनाओं पर काम चल रहा है.

  6. जेम्स गैलहर

    स्वास्थ्य और विज्ञान संवाददाता

    कोरोना वायरस

    कोरोना वायरस तेज़ी से पूरी दुनिया में फैल रहा है. जानिए इसके लक्षण और बचाव के तरीके.

    और पढ़ें
    next
  7. Video content

    Video caption: कोरोना वायरस में आ रहा म्यूटेशन क्या इसे और ख़तरनाक बना रहा है?

    वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस में हज़ारों म्यूटेशन देखे हैं. क्या ये म्यूटेशन वायरस को और ज़्यादा ख़तरनाक और जानलेवा बना सकता है?

  8. Video content

    Video caption: एपीजे अब्दुल कलाम : एक इंसान और कई सारी विशेषताएं

    कलाम न तो वैज्ञानिक के खाँचे में फिट होते थे, न ही राजनेता के साँचे में, वो जो थे उसे ही विलक्षण कहा जाता है.

  9. जैक गुडमैन और फ़्लोरा कार्मिकेल

    बीबीसी रिएलिटी चेक

    कोरोना वैक्सीन

    सोशल मीडिया पर इन दिनों कोरोना वायरस की वैक्सीन से जुड़े कई ग़लत दावे किए जा रहे हैं.

    और पढ़ें
    next
  10. ब्रेकिंग न्यूज़लॉकडाउन की वजह से धरती पर शोर आधा हुआ: रिसर्च

    एक नई रिसर्च से पता चला है कि लॉकडाउन की वजह से धरती पर होने वाले शोर में 50 फ़ीसदी की कमी आई है.

    शोध के मुताबिक़ इंसानों के चलने-दौड़ने और ट्रैफ़िक जैसी गतिविधियों से धरती पर जो शोर पैदा होता है, वो साल के मध्य में दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में लागू लॉकडाउन के कारण लगभग आधा हो गया.

    ये शोध बेल्जियम की रॉयल ऑब्ज़र्वेटरी की अगुवाई में हुआ जिसमें 70 से ज़्यादा वैज्ञानिकों ने हिस्सा लिया था. उन्होंने दुनिया की अलग-अलग 300 जगहों से मिले डेटा का अध्ययन करके यह निष्कर्ष निकाला है.

    वैज्ञानिकों का कहना है कि पर्यटन और लोगों की आवाजाही की कमी के कारण धरती के शोर में कमी आई है.

    इस शोध से जुड़ी एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि वैज्ञानिकों को चीन और इटली से लेकर बाकी दुनिया में भी लॉकडाउन का असर देखने को मिला.

    सांकेतिक तस्वीर
    Image caption: सांकेतिक तस्वीर