भारत

  1. बुराड़ी में किसानों से मिले आम आदमी पार्टी के अमानतुल्लाह ख़ान

    आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह ख़ान ने बुराड़ी के निरंकारी समागम मैदान में इकट्ठे किसानों से देर रात मुलाकात की.

    उन्होंने कहा, “हम यहाँ सुनिश्चित करने आए हैं कि किसानों को खाने-पीने या रहने की कोई दिक्कत न हो. किसान जब तक यहाँ हैं, हम उनका ध्यान रखेंगे.”

    इससे पहले दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने स्टेडियमों को अस्थायी जेल में तब्दील किए जाने की केंद्र सरकार की गुज़ारिश ठुकरा दी थी.

    दिल्ली सरकार ने कहा था, “किसानों की माँगें जायज़ हैं और उनका प्रदर्शन शांतिपूर्ण है. उन्हें जेल में डालना समस्या का समाधान नहीं है.”

    किसानों से मिलते अमानतुल्लाह ख़ान
    Image caption: किसानों से मिलते अमानतुल्लाह ख़ान
  2. ब्रेकिंग न्यूज़किसानों से बात करने को तैयार अमित शाह, रखी ये शर्त

    अमित शाह

    केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने नए कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे किसानों से कहा है कि केंद्र सरकार उनसे बात करने के लिए तैयार है. हालाँकि शाह ने इस बातचीत के लिए एक शर्त भी रखी है.

    उन्होंने विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों से बुराड़ी मैदान में शिफ़्ट होने की अपील की है.

    गृहमंत्री ने कहा,“जैसे ही किसान तय जगह पर विरोध प्रदर्शन के लिए जाएंगे, केंद्र उनसे चर्चा के लिए तैयार होगा.”

    समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, अमित शाह की अपील गृह मंत्रालय के आधिकारिक वॉट्सऐप ग्रुप में फ़ॉरवर्ड की गई थी.

    इस अपील में उन्होंने कहा, “पिछले कुछ दिनों में पंजाब-हरियाणा और देश के कुछ अन्य हिस्सों से किसान दिल्ली सीमा पर आए हुए हैं. पंजाब से आने वाले किसानों ने दिल्ली सीमा के पास दो प्रमुख हाइवे पर डेरा डाल रखा है.''

    ''कम तापमान और सर्दियों के कारण किसानों को परेशानी हो रही है. इसलिए मेरी अपनी किसान भाइयों से एक विनम्र अपील है. सरकार ने आपके लिए दिल्ली के बुराड़ी मैदान में व्यवस्था की है, जहाँ आप विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं.”

    अमित शाह ने यह भी दुहराया कि केंद्र सरकार ने तीन दिसंबर को किसानों के एक प्रतिनिधमंडल को उनकी समस्याओं के बारे में बातचीत करने के लिए आमंत्रित किया है.

    उन्होंने कहा, “कुछ किसान संगठनों और नेताओं ने तीन दिसंबर के बजाय तुरंत बातचीत की माँग की है. इसलिए मैं सबको भरोसा दिलाना चाहता हूँ कि जैसे ही आप प्रदर्शन के लिए बुराड़ी मैदान में जाएंगे, सरकार आपसे चर्चा के लिए तैयार होगी.”

    गृहमंत्री ने यह भी बताया कि पिछले 13 नवंबर को सरकार ने किसानों के मुद्दों के बारे में विस्तार से विचार-विमर्श किया था. उन्होंने बताया कि इस बैठक में केंद्र सरकार की ओर से कृषि मंत्री और रेल मंत्री मौजूद थे.

    हालाँकि विरोध प्रदर्शन कर रहे किसा फ़िलहाल बुराड़ी मैदान में जाने के लिए तैयार नज़र नहीं आ रहे हैं.

    View more on twitter
  3. किसानों का प्रदर्शन

    दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन को आठ विपक्षी पार्टियों और कई किसान संगठनों का समर्थन भी मिला है. साथ ही कई यहां बड़ी संख्या में यूनिवर्सिटी छात्र भी पहुँचे हैं.

    और पढ़ें
    next
  4. कृषि क़ानून: प्रदर्शनकारी किसान बोले, हम हाइवे पर ही डटे रहेंगे

    Video content

    Video caption: प्रदर्शनकारी किसान बोले, 'हम हाइवे पर ही डटे रहेंगे'

    सिंघु बॉर्डर पर जमा हज़ारों किसानों ने भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शनिवार सुबह एक बैठक की और फ़ैसला किया कि वो सिंघु बॉर्डर पर ही अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे.

    जबकि उन्हें प्रदर्शन करने के लिए उत्तरी दिल्ली में जगह देने की पेशकश की गई है. टिकरी बॉर्डर पर इकट्ठा किसान भी फिलहाल वहीं जमे हुए हैं.

    उम्मीद की जा रही है कि वो निर्धारित विरोध स्थल जाने को लेकर जल्द ही कोई फ़ैसला ले सकते हैं.

    पंजाब से दिल्ली आने वाले एक प्रमुख रास्ते, सिंघु बॉर्डर पर बैठक के बाद एक किसान नेता ने कहा कि वो वहां से हिलेंगे नहीं और वहीं प्रदर्शन जारी रखेंगे.

    उन्होंने कहा, "हम यहां (सिंघु बॉर्डर) से नहीं हिलेंगे और अपनी लड़ाई जारी रखेंगे. हम घर वापस नहीं लौटेंगे. प्रदर्शन में हिस्सा लेने के लिए पंजाब और हरियाणा से हज़ारों किसान आए हैं."

  5. चीनी वैज्ञानिकों का दावा, भारत से दुनिया भर में फैला कोरोना वायरस

    कोरोना संक्रमण
    Image caption: सांकेतिक तस्वीर

    चीनी वैज्ञानिकों के एक दल ने दावा किया है कि कोरोना वायरस पहली बार भारत से होकर दुनिया भर में फैला.

    नवभारत टाइम्सने यहख़बरब्रितानी अख़बारडेली मेलके हवाले से छापी है. ख़बर के मुताबिक़ चीनी ऐकेडमी ऑफ़ साइंसेज़ के वैज्ञानिकों की एक टीम का कहना है कि कोरोना वायरस संभवत: साल 2019 की गर्मियों में भारत में पैदा हुआ था.

    चीनी वैज्ञानिकों का दावा है कि कोरोना वायरस जानवरों से होकर गंदे पानी के ज़रिए इंसानों में पहुँच गया. इसके बाद यह भारत से चीन के वुहान पहुँचा, जहाँ इसकी पहचान हुई.

    चीनी वैज्ञानिकों का यह भी कहना है कि भारत की "लचर स्वास्थ्य व्यवस्था और युवा आबादी के कारण कोरोना वायरस कई महीनों तक बिना पकड़ में आए लोगों को संक्रमित करता रहा."

    हालाँकि दूसरे देशों के वैज्ञानिकों ने चीनी वैज्ञानिकों के इस दावे को ग़लत बताया है. ब्रिटेन की ग्लास्गो यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञ डेविड रॉबर्ट्सन ने कहा है कि चीनी वैज्ञानिकों का शोध त्रुटिपूर्ण है और यह कोरोना वायरस के बारे में जानकारी में कोई इज़ाफ़ा नहीं करता.

    पढ़ें पूरा प्रेस रिव्यू

    चीनी वैज्ञानिकों का दावा, भारत से दुनिया भर में फैला कोरोना वायरस

    कोरोना संक्रमण

    चीनी वैज्ञानिकों का दावा है कि कोरोना वायरस जानवरों से होकर गंदे पानी के ज़रिए इंसानों में पहुँचा. आज के अख़बारों की सुर्खियाँ.

    और पढ़ें
    next
  6. कर्नाटक के मुख्यमंत्री के सचिव ने की खुदकुशी की कोशिश

    कर्नाटक
    Image caption: बीएस येदियुरप्पा के राजनीतिक सचिव एनआर संतोष को बेंगलुरु के एमएस रमैया अस्पताल में भर्ती कराया गया है

    कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के राजनीतिक सचिव एनआर संतोष के कथित तौर पर खुदकुशी की कोशिश करने के बाद राज्य में राजनीतिक प्रतिक्रियाओं का आना शुरू हो गया है.

    कर्नाटक कांग्रेस ने शनिवार को इस मामले में जांच की मांग की.

    पार्टी का कहना है कि जांच से ही सच सामने आएगा और साथ ही कांग्रेस की तरफ़ से ये दावा भी किया गया कि कुछ गोपनीय मामले इस घटना से जुड़े हो सकते हैं.

    कांग्रेस की राज्य इकाई के अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने ये आरोप लगाया है कि प्राइवेट किस्म के कुछ वीडियो के कारण एनआर संतोष ने खुदकुशी करने की कोशिश की होगी.

    हालांकि येदियुरप्पा सरकार के मंत्री आर अशोक और केएस ईश्वरप्पा ने डीके शिवकुमार के दावों को बेबुनियाद बताया है.

  7. जीडीपी माइनस 7.5 फ़ीसदी - ये अच्छी ख़बर या बुरी?

    जीडीपी साढ़े सात फ़ीसदी, अच्छी या बुरी ख़बर?

    इतिहास में पहली बार भारत में आर्थिक मंदी आ गई है. जुलाई से सितंबर के बीच भारत की अर्थव्यवस्था साढ़े सात फीसदी घटी है.

    इससे पहले की तिमाही में यह गिरावट 24.9 फीसदी थी. उसके मुक़ाबले आज हालत अच्छी है, चिंताजनक है या फिर चिंताजनक होते हुए भी उम्मीद से भरी है? इसका जवाब इस बात पर निर्भर है कि आप इसे किस नज़रिए से देखना चाहते हैं.

    24.9 फीसदी की ऐतिहासिक गिरावट के बाद यह गिरावट थमकर साढ़े सात फीसदी ही रह गई ये - तो इस नज़रिए से ये अच्छी ख़बर हुई न!

    सरकार की तरफ से इस दलील को रखने वाले यही समझा रहे हैं. उनका कहना है कि कोरोना के भयानक झटके के बाद अब जो आंकड़ा आया है वो आशंका से कम है और इस बात का संकेत है कि आगे हालात बेहतर होंगे.

    जीडीपी माइनस 7.5 फ़ीसदी - ये अच्छी ख़बर या बुरी?

    जीडीपी साढ़े सात फ़ीसदी, अच्छी या बुरी ख़बर?

    इससे पहले की तिमाही में यह गिरावट 24.9 फीसदी थी. उसके मुक़ाबले आज हालत अच्छी है, चिंताजनक है या फिर चिंताजनक होते हुए भी उम्मीद से भरी है?

    और पढ़ें
    next
  8. अमित शाह

    किसानों के विरोध प्रदर्शन से लेकर कोरोना महामारी के हाल तक. देश-दुनिया की सभी ज़रूरी ख़बरें और ताज़ा अपडेट आपको यहाँ मिलेंगे. बीबीसी हिंदी का यह लाइव पन्ना 24 घंटे उपलब्ध है.

    Follow
    next
  9. भारत, मालदीव और श्रीलंका की छह सालों बाद अहम बैठक

    मालदीव के रक्षा मंत्री मारिया अहमद दीदी और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल
    Image caption: मालदीव की रक्षा मंत्री मारिया अहमद दीदी और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल

    भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने शनिवार को कोलंबो में एक उच्चस्तरीय त्रिपक्षीय मैरिटाइम डायलॉग में हिस्सा लिया. इस बैठक में भारत और श्रीलंका के अलावा मालदीव भी शामिल था.

    सामुद्रिक सुरक्षा के मसले पर सहयोग के लिए भारत, मालदीव और श्रीलंका की ये चौथी त्रिपक्षीय बैठक थी जिसकी मेजबानी श्रीलंका कर रहा था. ये बैठक छह साल बाद हो रही थी.

    इससे पिछली मीटिंग की मेजबानी साल 2014 में भारत ने की थी.

    श्रीलंका में भारत के उच्चायुक्त ने एक ट्वीट कर "भारत, श्रीलंका और मालदीव की सामुद्रिक मसलों और सुरक्षा सहयोग को लेकर त्रिपक्षीय वार्ता" के बारे में जानकारी दी.

    View more on twitter

    उन्होंने बताया कि श्रीलंका के विदेश मंत्री, संसद में सत्ता पक्ष के नेता दिनेश गुणावर्धने इस बैठक के प्रमुख मेहमान थे.

    समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ श्रीलंका की सेना ने गुरुवार को ये जानकारी दी थी कि इस मीटिंग में बांग्लादेश, मॉरीशस और सेशल्स के पर्यवेक्षक भी हिस्सा लेंगे.

    राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल इस मीटिंग के लिए शुक्रवार को ही कोलंबो पहुंच गए थे जहां उनकी मुलाकात मालदीव की रक्षा मंत्री मारिया अहमद दीदी के साथ हुई.

    इस मुलाकात में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय साझादारी से जुड़े मुद्दों पर बातचीत हुई.

  10. ज़ुबैर अहमद

    बीबीसी संवाददाता

    किसानों का प्रदर्शन

    पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान नए कृषि क़ानूनों का सबसे अधिक विरोध कर रहे हैं और लाखों की संख्या में दिल्ली आ गए हैं. केंद्र की मोदी सरकार ने किसानों के प्रतिनिधियों को तीन दिसंबर को बातचीत के लिए बुलाया है.

    और पढ़ें
    next