दलितों पर अत्याचार

  1. सिन्धुवासिनी

    बीबीसी संवाददाता

    कोरोना से मौतें

    कोरोना से लाखों लोगों की असमय मौत के बाद उनके क़रीबी पीछे छूट गए हैं. अपनों को अचानक खोने का ग़म और बेबसी किसी को भी अंदर से खोखला कर सकती है. ऐसे में किसी सहारे की ज़रूरत होती है.

    और पढ़ें
    next
  2. इमरान क़ुरैशी

    बेंगलुरु से, बीबीसी हिंदी के लिए

    हनुमंता

    कर्नाटक के कई गांवों में दलितों के बाल कटाने का मुद्दा विवाद की वजह क्यों बन जाता है?

    और पढ़ें
    next
  3. सिन्धुवासिनी

    बीबीसी संवाददाता

    मायावती

    यह पहला और अकेला मौका नहीं है जब मायावती पर कोई आपत्तिजनक, महिला-विरोधी या जातिवादी टिप्पणी की गई हो या इसी तरह का कोई भद्दा चुटकुला सुनाया गया हो

    और पढ़ें
    next
  4. अनंत झणाणें और उत्पल पाठक

    वाराणसी से, बीबीसी हिंदी के लिए

    रविदास जयंती पर पीएम मोदी के वाराणसी में बढ़ा सियासी पारा

    रविदास जयंती से जुड़ी राजनीति को शायद चुनावी ललकार का दर्जा नहीं दिया जा सकता है लेकिन यह संकेत ज़रूर है कि विपक्ष 2022 विधानसभा चुनाव के लिए मुद्दे तलाशना शुरू कर रहा है.

    और पढ़ें
    next
  5. Video content

    Video caption: मारीचामी: ‘अपने हिस्से के भगवान’ के लिए संघर्ष, पिछड़ी जाति का पुजारी

    ये कहानी है उस भारतीय की, जिसने ईश्वर और पूजा के लिए अपने अधिकार की लड़ाई लड़ी.

  6. दिलनवाज़ पाशा

    बीबीसी संवाददाता, खुर्जा से लौटकर

    बुलंदशहर

    ऑनर किलिंग, हिरासत में हत्या या आत्महत्या और हाथरस कांड की तरह परिवार की मर्ज़ी के बग़ैर बिना पोस्टमॉर्टम के लाश जलाने का मामला.

    और पढ़ें
    next
  7. भार्गव पारिख

    बीबीसी गुजराती, अहमदाबाद

    गुजरात: दलित युवक को कथित ऊंची जाति जैसा सरनेम रखने की वजह से पीटा गया

    21 साल के भरत जाधव को कथित ऊंची जाति के आदमियों ने सिर्फ़ इसलिए पीटा क्योंकि उनका सरनेम कथित ऊंची जाति वाले सरनेम जैसा था.

    और पढ़ें
    next
  8. चिंकी सिन्हा

    फूलन देवी के गांव से लौट कर, बीबीसी हिंदी के लिए

    फूलन देवी

    फूलन देवी के साथ जो कुछ हुआ उसे क़रीब 40 बरस बीत गए. लेकिन उनके गांव से हाथरस के बीच पांच घंटे और चालीस बरस लंबा यह फ़ासला आज भी कायम है. यह फ़ासला है न्याय और नाइंसाफी के बीच का, लोगों के बीच का और दो समुदायों के बीच का.

    और पढ़ें
    next
  9. नीरज प्रियदर्शी

    बक्सर से, बीबीसी हिंदी के लिए

    बिहार चुनाव

    महादलितों की बहुलता वाला नंदन टोला 12 जनवरी 2018 को तब चर्चा में आया था जब सात निश्चय योजना की समीक्षा यात्रा के क्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफ़िले पर पत्थरबाजी की घटना घटी थी.

    और पढ़ें
    next
  10. समीरात्मज मिश्र

    बीबीसी हिंदी के लिए

    हाथरस

    मृतक युवती के परिजन जहां न्यायिक जांच की मांग पर अड़े हैं वहीं पुलिस अब इस घटना को 'इतना तूल' देने के पीछे अंतरराष्ट्रीय साज़िश की बात कह रही है.

    और पढ़ें
    next