इमरान ख़ान

  1. सलमान रावी

    बीबीसी संवाददाता

    पाकिस्तान

    रूस और चीन की वैक्सीन के अलावा पाकिस्तान दूसरी वैक्सीनों को हासिल करने की भी कोशिश कर रहा है लेकिन पैसे के साथ-साथ वक़्त भी कम है.

    और पढ़ें
    next
  2. सुमैया अली

    एशिया स्पेशलिस्ट, बीबीसी मॉनिटरिंग

    हज़ारा

    पाकिस्तान के हज़ारा मुसलमानों को काफ़ी समय से निशाना बनाया जाता रहा है. कौन हैं यह हज़ारा, कहां से आए पाकिस्तान.

    और पढ़ें
    next
  3. भारत इस्लामिक स्टेट को बढ़ावा दे रहा है – इमरान खान

    इमरान खान

    पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा है कि भारत सांप्रदायिकता को हवा देकर पाकिस्तान में अराजकता पैदा करने के मकसद से आईएसआईएस को मदद पहुँचा रहा है.

    पाकिस्तान की सरकारी रेडियो सेवा के मुताबिक इमरान खान ने इस्लामाबाद में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पाकिस्तान की सुरक्षा एजेंसियों ने भारत के सांप्रदायिकता फैलाने के मंसूबे को सफलतापूर्वक नाकाम किया है.

    इमरान खान ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि चरमपंथी हज़ारा कार्यकर्ताओं को कम आबादी वाले क्षेत्र में निशाना बना रहे हैं.

    उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने बलूचिस्तान में जितना ध्यान देना चाहिए उतना नहीं दिया और हमेशा बलूच सरदारों के साथ गठजोड़ बनाने पर जोर देते रहे. यह ज़मीनी स्तर पर विकास के मद में निर्धारित फंड को पहुँचने में सबसे बड़ी बाधक बनी रही.

    प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार ने बलूचिस्तान की आम अवाम की जीवन के स्तर को उठान के लिए बलूचिस्तान की सामाजिक-आर्थिक विकास पर फोकस किया है.

  4. Video content

    Video caption: इमरान ख़ान ने क्वेटा जाकर पीड़ितों से मुलाक़ात की

    धरना ख़त्म करने और शवों को दफ़नाने के बाद इमरान ख़ान भी शनिवार को क्वेटा पहुँचे और परिजनों से मुलाक़ात की.

  5. Video content

    Video caption: पाकिस्तान: हज़ारा मामले में चूक गए इमरान ख़ान?

    इमरान ख़ान ने ब्लैकमेल करने वाली बात अपने ही मुल्क के लोगों के लिए कही. पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क़्वेटा में लोग धरने पर बैठे हैं.

  6. Video content

    Video caption: इमरान ख़ान ने अपने देशवासियों को ये क्या बोल दिया?

    पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क़्वेटा में लोग धरने पर बैठे हैं. यहां हज़ारा समुदाय से आने वाले कोयला खनिकों की हत्या के बाद लोग आक्रोशित हैं.

  7. पाकिस्तान में आटा-चीनी के बाद अब गैस संकट

    गैस

    आटे और चीनी के संकट के बाद अब पाकिस्तान में गैस संकट के बादल मंडराते नज़र आ रहे है.

    इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा रहा है क्योंकि पाकिस्तानी सरकार ने ग़ैर-निर्यात उद्योग के लिए गैस सप्लाई एक महीने के लिए रोक दी है.

    सुई साउदर्न गैस कंपनी (एसएसजीसी) ने 31 दिसंबर को अधिसूचना के ज़रिए उद्योगों को सूचित किया, “हमें दिसंबर 2020 के मध्य से जनवरी 2021 के आख़िर तक सामान्य उद्योगों (ग़ैर-निर्यात) के लिए तय पावर इकाइयों को सीमित करना है.”

    अधिसूचना में बताया गया है कि आपूर्ति में कटौती ऊर्जा पर कैबिनेट कमिटी की 26 नवंबर 2020 की बैठक में लिया गया था.

    पाकिस्तानी अख़बर द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार, यह पहली बार नहीं है जब उद्योगों को इस तरह के गैस संकट का सामना करना पड़ रहा है. सर्दियों के सीज़न में ठंड बढ़ने के बाद ईंधन की मांग भी बढ़ती है.

    बड़ी संख्या में घरों में सर्दियों में ठंड से बचने के लिए स्टोव, हीटर और गीज़र की ज़रूरत पड़ती है जिसके कारण गैस की खपत बढ़ जाती है.

    जियो टीवी के अनुसार, कराची में घरेलू और औद्योगिक दोनों उपभोक्ताओं को गैस की कमी का सामना करना पड़ रहा है. कई रिहाइशी इलाक़ों में गैस सप्लाई स्थगित कर दी गई है.

    सिलेंडर

    गुजरांवाला में लोगों को महंगे सिलिंडर ख़रीदने पड़ रहे हैं और मुल्तान में गैस की कमी के चलते सीएनजी स्टेशनों को बंद करना पड़ा है.

    उद्योगपतियों का कहना है कि गैस संकट जनवरी में बढ़ेगा जो फ़रवरी के मध्य तक जारी रहेगा.

    जियो टीवी के अनुसार, देश के राष्ट्रपति आरिफ़ अल्वी ने कराची के गवर्नर हाउस में उद्योगपतियों से मुलाक़ात की है और उन्होंने भरोसा दिलाया है कि वो गैस संकट पर संबंधित मंत्रियों से बात करेंगे.

    वहीं, कराची चैंबर ऑफ़ कॉमर्स के अध्यक्ष शर्क़ वोहरा ने कहा है कि निर्यात में बढ़ोतरी के बीच गैस संकट का उभरना चिंता का विषय है और इसकी जांच होनी चाहिए.

    कोरांगी एसोसिएशन ऑफ़ ट्रेड एंड इंडस्ट्री के पूर्व अध्यक्ष शेख़ उमर रेहान द एक्सप्रेस ट्रिब्यून से कहते हैं, “अगर सरकार ने बंदरगाहों पर नए गैस (री-गैसिफ़ाइड लिक्विफ़ाइड नैचुरल गैस /आरएलएनजी) आयात टर्मिनल स्थापित करने का काम किया होता तो स्थिति बेहतर होती.”

    इमरान ख़ान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ ने अगस्त 2018 में सरकार बनाई थी लेकिन अभी भी उसे देश के लिए सबसे ज़रूरी आरएलएनजी आयात टर्मिनल पर काम करना है.

    पिछली सरकारों के समय देश ने दो आयात टर्मिनल विकसित किए थे. इसके ज़रिए रोज़ाना 120 करोड़ क्यूबिक फ़ीट प्रतिदिन गैस का आयात होता है.

  8. पाकिस्तान: बलूचिस्तान में शिया समुदाय के 11 मज़दूरों की गोली मार कर हत्या

    Getty Images

    पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिमी बलूचिस्तान प्रांत में अज्ञात बंदूकधारियों ने कोयले के खदान में काम करने वाले कम से कम 11 लोगों का अपहरण कर, उन्हें गोली मार दी.

    पुलिस के अनुसार, खदान में काम करने वाले ये श्रमिक अपने काम पर जा रहे थे, जब कुछ अज्ञात बंदूकधारियों ने उनका अपहरण किया और पास की एक पहाड़ी पर ले जाकर उन्हें गोली मार दी.

    द एक्सप्रेस ट्रिब्यून अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार, यह घटना बलूचिस्तान के माछ इलाक़े में हुई.

    इस घटना के बाद इलाक़े में पुलिस बलों की भारी तैनाती कर दी गई है. पुलिस ने बताया है कि छह श्रमिकों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी. जबकि पाँच अन्य लोगों ने अस्पताल के रास्ते में दम तोड़ दिया.

    अधिकारियों ने बताया है कि मारे गये खनिक शिया हज़ारा जनजाति के थे.

    बलूचिस्तान के गृह सचिव ने कहा कि नौ मृतकों की पहचान कर ली गई है. उन्होंने कहा कि पहचाने गये लोगों का अफ़गानिस्तान से वास्ता है.

    AFP

    बलूचिस्तान के इस इलाक़े में कुछ चरमपंथी राष्ट्रवादी गुट सक्रिय हैं. लेकिन अभी तक किसी भी गुट ने इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है.

    बलूचिस्तान के मुख्यमंत्री जाम कमाल ख़ान ने इस घटना की निंदा की है. उन्होंने इस मामले की जाँच के आदेश भी दे दिये हैं.

    उन्होंने कहा है कि इस घटना को अंजाम देने वाले लोगों को बख़्शा नहीं जायेगा.

    पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने भी इस घटना को ‘आतंकी घटना’ बताया है और कहा है कि ‘इससे ज़्यादा क्रूर और अमानवीय घटना नहीं हो सकती.’

    पिछले महीने भी इसी प्रांत में एक बंदूकधारी ने सात सैनिकों की हत्या कर दी थी.

  9. इकबाल अहमद

    बीबीसी संवाददाता

    इमरान ख़ान

    पाकिस्तान से छपने वाले उर्दू अख़बारों में इस हफ़्ते भी सरकार और विपक्षी महागठबंधन का एक दूसरे के ख़िलाफ़ बयानबाज़ी से जुड़ी ख़बरें सुर्ख़ियों में रहीं.

    और पढ़ें
    next
  10. इक़बाल अहमद

    बीबीसी संवाददाता

    मरियम नवाज़

    जिन्ना की जयंती पर परवेज़ इलाही ने कहा, "क़ायद-ए-आज़म मोहम्मद अली जिन्ना ने टू-नेशन थ्योरी हिंदुओं की मानसिकता को भांपते हुए ही दिया था.''

    और पढ़ें
    next