यौन हिंसा

  1. शुरैह नियाज़ी

    भोपाल से, बीबीसी हिंदी के लिए

    प्रतीकात्मक तस्वीर

    पुलिस ने अभियुक्त के बजाए किसी और पकड़ा और पीड़िता के बजाए उसकी मां से कराई शिनाख़्त.

    और पढ़ें
    next
  2. सरोज सिंह

    बीबीसी संवाददाता, दिल्ली

    प्रिया रमानी

    प्रिया रमानी के बरी होने से अब महिलाएँ यौन उत्पीड़न की शिकायत तो कर पाएँगी, लेकिन क्या उन्हें इंसाफ़ मिल पाएगा? जानिए इस फ़ैसले के क़ानूनी मायने.

    और पढ़ें
    next
  3. सांकेतिक तस्वीर

    टिग्रे महिला अधिकार समूह यिकोनो से जुड़ी वेनी अब्राह कहती हैं कि युद्ध के दौरान बलात्कार को हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है.

    और पढ़ें
    next
  4. प्रिया रमानी

    एमजे अकबर की मानहानि के मुक़दमे से बरी होने के बाद प्रिया रमानी को सलाम कर रही हैं महिलाएं.

    और पढ़ें
    next
  5. अपर्णा अल्लूरी और शादाब नज़्मी

    बीबीसी न्यूज़, दिल्ली

    उत्तर प्रदेश में हाथरस ज़िले के बूल गढ़ी गाँव में रेप के विरोध में हाथों में तख्तियाँ लेकर प्रदर्शन करते लोग. तस्वीर- अक्तूबर 2020

    ऑक्सफैम इंडिया ने अपनी एक रिपोर्ट में पाया कि निर्भया फंड उन महिलाओं तक नहीं पहुँचा, जिनके लिए इसे बनाया गया था. बीबीसी की अपर्णा अल्लूरी और शादाब नज़्मी की रिपोर्ट.

    और पढ़ें
    next
  6. सीटू तिवारी

    पटना से, बीबीसी हिंदी के लिए

    बलात्कार पीड़ित

    प्राथमिक जांच और एक वायरल ऑडियो से ये संकेत मिलते हैं कि इस पूरी घटना को स्थानीय थाने के थानाध्यक्ष की मदद से अंजाम दिया गया.

    और पढ़ें
    next
  7. पूजा छाबड़िया

    बीबीसी वर्ल्ड सर्विस

    कार्टून

    यौन उत्पीड़न की शिकार क्यों होती हैं महिलाएं? पुरुष क्यों करते हैं रेप? इन सवालों की पड़ताल करती महिलाओं की कहानी.

    और पढ़ें
    next
  8. टिकटॉक

    स्किन टू स्किन टच वाले हाई कोर्ट के फ़ैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाया स्टे. पढ़िए दिल्ली से प्रकाशित होने वाले अख़बारों की सुर्खियां.

    और पढ़ें
    next
  9. दिव्या आर्य

    बीबीसी संवाददाता

    यौन उत्पीड़न

    कपड़े उतारे बगैर बिना सहमति के एक नाबालिग के शरीर को छूने को मुंबई हाई कोर्ट के फ़ैसले में यौन उत्पीड़न नहीं माना गया है. सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के इस फ़ैसले पर फिलहाल स्टे लगा दिया है.

    और पढ़ें
    next
  10. सांकेतिक तस्वीर

    बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बैंच की जज पुष्पा गनेडीवाला ने अपने फ़ैसले में यौन उत्पीड़न को परिभाषित किया है.

    और पढ़ें
    next