कैसा है ये भांग का अर्क़: दवा या दारू?

  • 28 नवंबर 2018
गांजे का अर्क इमेज कॉपीरइट Alamy

वेप ऑयल, दर्द-निवारक क्रीम, पैच, मिठाइयां, कैप्सूल और दूसरे कई यौगिक- अमरीका में आप इनके नाम लीजिए और ये हाज़िर हो जाएंगे.

भांग की पत्तियों के रस से निकाले जाने वाले कैनबिडियॉल, जिसे सीबीडी (CBD) के नाम से जाना जाता है, से बनाए गए उत्पाद हर जगह मिलते हैं. इनसे सभी तरह की बीमारियों के इलाज का दावा किया जाता है.

मांसपेशियों के दर्द और घबराहट से लेकर जोड़ों के दर्द, मिरगी और तनाव से पैदा होने वाली बीमारियों में इनका इस्तेमाल हो रहा है.

सीबीडी मार्केट रिसर्च कंपनी ब्राइटफ़ील्ड का अनुमान है कि अगले साल तक इसका बाज़ार 5.7 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा. 2022 तक यह 22 अरब डॉलर हो जाएगा.

ब्राइटफ़ील्ड की रिसर्च डायरेक्टर बेथनी गोमेज़ कहती हैं कि इस क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनी चार्लोट्स वेब होल्डिंग्स 2016-17 में 172 फ़ीसद की दर से बढ़ी. 2018 में यह 8.9 करोड़ डॉलर मुनाफ़ा कमाने की राह पर है.

यह एक विवादित कारोबार है जो निवेश आकर्षित कर रहा है. इसमें अप्रत्याशित रूप से नये खिलाड़ी भी आ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Alamy

सॉफ्ट ड्रिंक्स बनाने वाली कंपनी कोका-कोला ने कहा है कि वह वेलनेस पेय की एक सामग्री के रूप में ग़ैर-साइकोएक्टिव सीबीडी पर बारीकी से नज़र रख रही है.

इस पर और टिप्पणी करने के बीबीसी कैपिटल के अनुरोध का उत्तर नहीं दिया गया.

गोमेज़ कहती हैं कि ब्राइटफ़ील्ड ने इस साल की शुरुआत में इस इंडस्ट्री के बारे में अनुमान ज़ाहिर किए तो कई लोग हैरान हुए थे. लेकिन तीन दिन बाद मीडिया ने बताया कि कोका-कोला भी इस इंडस्ट्री में आने की तैयारी कर रही है तो लोगों को हमारी बात गंभीर लगी.

"यदि आप सीबीआडी उत्पादों की मौजूदा बिक्री और बड़े रिटेलर्स के आंकड़ों को मिला दें और बड़ी दवा कंपनियों के इस क्षेत्र में प्रवेश की कोशिशों को देखें तो हमें लगता है कि बदलाव बड़ी तेज़ी से होने वाला है."

भांग वाली चटनी

सीबीडी के क़द्रदानों में एक ज़ॉल्ट सोंका हैं. वह न्यूयॉर्क के एस्टोरिया में एड्रियन ब्लॉक के संस्थापक हैं. यह शहर का पहला सीबीडी रेस्त्रां और बार है.

सोंका एक ऐसा कॉकटेल तैयार करना चाहते थे जिसमें अल्कोहल कम हो और 16वीं-17वीं सदी में इस्तेमाल होने वाली झाड़ियों, फलियों और जड़ी-बूटियों के साथ सीबीडी ऑयल का भी इस्तेमाल हो. वह इसे "नई और पुरानी पीढ़ी का मिलन" कहते हैं.

"यदि आप ड्रिंक में सीबीडी मिला देते हैं तो व्हिस्की के चार या पांच पेग की जगह इसके एक या दो पेग से आपके दिमाग़ को आराम मिल जाता है और तनाव घट जाता है."

इमेज कॉपीरइट Alamy

सोंका ने सीबीडी को मिलाकर चटनी भी बनाई है जिसे वे ग्राहकों को परोसते हैं.

लेकिन विज्ञान का क्या? आराम मिलने की अस्पष्ट धारणा के साथ सीबीडी का सेवन करने वाले व्यक्ति का इससे कुछ भला होता है, इसके पुख़्ता सबूत नहीं हैं.

सोंका कहते हैं, "मैं रात में सो नहीं पाता था. मेरे दिमाग़ में हमेशा हलचल मची रहती थी. जब मैंने दो सीबीडी ड्रिंक लिए या दवा की कुछ बूंदें कॉफ़ी में मिला ली तो मैं अच्छे से सोने लगा. दिमाग़ को आराम मिल गया. मैं ऐसा कुछ भी नहीं बेचूंगा जिस पर मुझे विश्वास न हो."

सोंका के मुताबिक़ वह एक अनुभव मुहैया कराते हैं. "मैं किसी को जादू से ठीक नहीं करता, न ऐसी सलाह देता हूं. हम सिर्फ़ उनके अनुभव को बढ़ा रहे हैं, उनके तनाव को कम करने के लिए माहौल बनाते हैं."

सीबीडी के ग्राहक क्या खोजते हैं?

इस साल गर्मियों में ब्राइटफ़ील्ड ने 5000 ख़रीदारों का सर्वे किया. इससे पता चला कि कई राज्यों ने जब सीबीडी उत्पादों को वैध कर दिया तब इसे ख़रीदने वालों में मिलेनियल्स सबसे आगे रहे.

इमेज कॉपीरइट Alamy

30-35 साल की उम्र के ख़रीदारों की संख्या भी तेज़ी से बढ़ी है, लेकिन 40 साल के दशक वाले ग्राहकों की संख्या घटी है.

बेबी बूमर्स (1946 से 1964 के बीच पैदा हुए लोग) टिंचर, क्रीम और कैप्सूल के रूप में इसे ख़रीदते हैं और जोड़ों के दर्द या पुराने दर्द में इस्तेमाल करते हैं.

सीबीडी उत्पादों के ग्राहक पुरुषों और महिलाओं में बराबर-बराबर बंटे हुए हैं, हालांकि गोमेज़ कहती हैं कि महिलाएं इसे ज़्यादा ख़रीदती हैं.

इसे ख़रीदने वाले सावधान रहें. अमरीका में सीबीडी के उत्पाद भले ही हर जगह मिलते हैं, लेकिन इसे किसी भी रूप में ख़रीदना क़ानून तोड़ने जैसा है (सिर्फ़ एक विशेष अपवाद को छोड़कर).

सवाल है कि जब नौ राज्यों ने मारिजुआना (गांजा) की ख़रीद-बिक्री को वैध कर दिया है तो भांग से बना सीबीडी अवैध कैसे?

इमेज कॉपीरइट GARETH FULLER/PA WIRE

यहां संघीय क़ानून और राज्यों के क़ानून में अंतर होने से दिक़्क़त है. कैनबिस के पौधों को दो भागों- गांजा और भांग- में बांटने से भी परेशानी है.

कैनबिस के रस से बनने वाले दो तरह के उत्पाद ख़रीदे जाते हैं- टीएचसी (THC) और सीबीडी (CBD). इनमें से टीएचसी साइको-एक्टिव पदार्थ है जिससे नशा होता है. सीबीडी ऐसा नहीं है.

औद्योगिक भांग में 0.3 फीसद से कम टीएचसी होना चाहिए. सीबीडी का स्तर ज़्यादा भी हो सकता है.

भांग और गांजे में अंतर

दूसरी तरफ़ गांजे की खेती होती ही इसलिए है क्योंकि इसमें टीएचसी की मात्रा ज़्यादा होती है. संक्षेप में कहें तो भांग गांजा से अलग है.

1970 के संघीय क़ानून में दोनों तरह के कैनबिस (गांजा और भांग) को हिरोइन और कोकीन के साथ शेड्यूल-1 ड्रग में रखा गया था. आज तक यह कैटेगरी बरक़रार है.

जिन राज्यों में इसे वैध किया गया है, वहां सिर्फ़ लाइसेंस होने पर टीएचसी वाले पौधों की खेती की जा सकती है, उनको प्रॉसेस किया जा सकता है और बेचा जा सकता है.

दूसरी तरफ़, सीबीडी के उत्पाद सुपर मार्केट से लेकर पेट्रोल पंप तक हर जगह उपलब्ध है.

सीबीडी को लेकर क़ानून साफ़ नहीं है. कई खुदरा व्यापारी मानते हैं कि जब तक वे राज्य के क़ानून मान रहे हैं और इसे एक राज्य से दूसरे राज्य नहीं ले जा रहे तब तक उन पर ड्रग इन्फोर्समेंट एडमिनिस्ट्रेशन (DEA) जैसे संघीय क़ानून लागू नहीं होते.

इमेज कॉपीरइट PA

DEA के एक प्रवक्ता ने बीबीसी कैपिटल को बताया कि सीबीडी किसी भी रूप में- चाहे वह भांग के पौधे से ही निकाला गया हो- शेड्यूल-1 ड्रग में है और अवैध है.

इसका सिर्फ़ एक अपवाद है. फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने एपिडियोलेक्स नाम की दवा को बच्चों की मिरगी के इलाज के लिए मान्यता दी है. इसमें 98 फ़ीसदी सीबीडी होता है.

एपिडियोलेक्स को ब्रिटिश कंपनी जी.डब्लू. फार्मास्यूटिकल्स बनाती है. अमरीका में इसे कफ सिरप के साथ शेड्यूल 5 ड्रग्स की कैटेगरी में रखा गया है. ब्रिटेन में अभी तक इस दवा को लाइसेंस नहीं मिला है.

एड्रियन ब्लॉक के संस्थापक सोंका मानते हैं कि DEA उनके रेस्त्रां और बार पर छापा मार सकता है. लेकिन वह राज्य के क़ानून जानते हैं और वह जो सीबीडी उत्पाद इस्तेमाल कर रहे हैं उसमें टीएचसी की मात्रा शून्य है.

सावधानी ज़रूरी है

चूंकि अमरीका में क़ानूनी स्थिति स्पष्ट नहीं है, इसलिए सीबीडी इंडस्ट्री में पैसे लगाने के लिए तैयार निवेशक सतर्क हैं.

अमरीका में सीबीडी की कुल खुदरा बिक्री 36.7 करोड़ डॉलर की है और पिछले साल इसमें 39 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी.

इन तथ्यों के बावजूद हेंप बिजनेस जर्नल के मुताबिक़ यह इंडस्ट्री अस्थिर है. मेडिकल कैनबिस की उत्पादक कंपनी टिलरे के शेयर सितंबर के एक हफ्ते में 30 फीसद चढ़ गए थे. उसी हफ्ते के अंत में उसके दाम 30 फीसदी गिर गए.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस इंडस्ट्री का भविष्य संघीय क़ानून पर निर्भर करेगा. फोर्ब्स मैगज़ीन ने कैनबिस कंपनियों के शेयरों को लेकर बढ़ी उत्तेजना को हास्यास्पद क़रार दिया है और इनके मुक़ाबले एप्पल को बेहतर निवेश बताया है.

केंटुकी के रिपब्लिकन सीनेटर 76 साल के मिच मैककॉनेल सीबीडी का भविष्य तय कर सकते हैं. उन्होंने सीनेट के फार्म बिल में एक संशोधन सुझाया है.

मैककॉनेल का हेंप फार्मिंग एक्ट अगर पास हो गया तो वह औद्योगिक भांग को संघीय क़ानून की प्रतिबंधित सूची से बाहर कर देगा. सीबीडी और भांग के दूसरे उत्पाद पूरी तरह वैध हो जाएंगे.

विज्ञान क्या कहता है?

क्या पुराने दर्द और अवसाद जैसी कई बीमारियों में काम करने वाली जादुई दवा के असर को साबित किया जा सकता है?

ऐसा नहीं है. सीबीडी की बढ़ती लोकप्रियता का विज्ञान से मेल नहीं हुआ है. लेकिन यह कहना भी सही नहीं होगा कि ऐसा नहीं हो सकता.

सैन डियागो में कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के सेंटर फ़ॉर मेडिसिनल कैनबिस रिसर्च के डायरेक्टर और मनोचिकित्सा विभाग के प्रमुख इगोर ग्रांट ने बीबीसी कैपिटल से कहा कि भविष्य की दवाओं में इसके उपयोग के कुछ आशाजनक संकेत हैं.

कुछ रिपोर्ट के मुताबिक़ सीबीडी में बेचैनी और जलन दूर करने के गुण हो सकते हैं. इसमें एंटी-साइकॉटिक गुण भी हो सकते हैं.

ग्रांट कहते हैं कि सिज़ोफ्रेनिया के इलाज में इसके इस्तेमाल को लेकर कुछ छोटे प्रयोग हुए हैं, जिनके आशाजनक नतीजे मिले हैं. उन पर आगे काम किया जा सकता है. हालांकि उनके आंकड़े इस स्तर के नहीं हैं जिनसे पक्के तौर पर कहा जा सके कि सिज़ोफ्रेनिया के मरीज़ों को सीबीडी से लाभ होता है.

वह कहते हैं, "सीबीडी में जलन ख़त्म करने के गुण हो सकते हैं. पेट की जलन से जुड़ी बीमारियों या कुछ न्यूरोलॉजिकल स्थितियों में इसका इस्तेमाल हो सकता है."

ग्रांट इन संकेतों के आधार पर आगे रिसर्च की संभावना जताते हैं, लेकिन वे सावधान करते हैं कि अभी यह प्रमाणित नहीं हुआ है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जहां तक सीबीडी को फलों के रस में मिलाकर वेलनेस ड्रिंक बनाने की संभावना है, ग्रांट कहते हैं कि पौष्टिकता के आधार पर किए गए दूसरे दावों की तरह यह दावा भी वैज्ञानिक आंकड़ों से समर्थित नहीं है.

"इसका यह मतलब नहीं कि वे ग़लत हैं, लेकिन हम नहीं जानते. जैसे मैं कहूं कि वेलियम घबराहट दूर करने में मददगार तो क्या अगर हम कोका-कोला में उसे छुआ दें तो लोग आराम महसूस करेंगे?"

वह कहते हैं कि पहली चीज़ यह है कि राज्य और संघीय क़ानून एक जैसे हों. "विज्ञान के आगे आने का इंतज़ार कीजिए. तभी हम असलियत जानेंगे और लोगों को सलाह दे सकेंगे."

(बीबीसी कैपिटल पर इस स्टोरी को इंग्लिश में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. आप बीबीसी कैपिटल को फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार