हम ऑफ़िस से ज़रूरी छुट्टियां क्यों नहीं ले पाते हैं?

  • 9 फरवरी 2020
छुट्टियां

साल 2014 में सोशल मीडिया मैनेजमेंट कंपनी बफ़र के टॉप मैनेजमेंट ने कुछ अजीब महसूस किया.

कंपनी ने 2012 में असीमित छुट्टियों की नीति लागू की थी, लेकिन कर्मचारी शायद ही कोई छुट्टी ले रहे थे.

बफ़र के कर्मचारी दुनिया भर में फैले हुए हैं, मुख्य रूप से अमरीका और यूरोप में. उनको छुट्टी लेने के लिए प्रेरित करने की ख़ातिर कंपनी ने एक नई नीति बनाई.

हर कर्मचारी के लिए एक हज़ार डॉलर का सालाना छुट्टी बोनस और पार्टनर या परिवार के हर सदस्य के लिए 500 डॉलर का अतिरिक्त बोनस शुरू किया गया.

ये योजना बहुत सफल रही. वास्तव में ये इतनी कामयाब रही कि कंपनी को बहुत अधिक पैसे ख़र्च करने पड़े. बफ़र ने जून 2016 में इसे बंद कर दिया.

उसी साल बफ़र ने दूसरी नीति बनाई. असीमित छुट्टियों के बदले इसने कर्मचारियों को साल में कम से कम 15 छुट्टियां लेने के लिए प्रोत्साहित करने का फ़ैसला किया.

इमेज कॉपीरइट STEVE STUART

कम से कम 15 दिन की छुट्टी

ऑनलाइन प्लानर का इस्तेमाल करके कर्मचारी अपनी छुट्टी के लिए आवेदन कर सकते हैं और एचआर के लोग एक सामूहिक कैलेंडर के ज़रिए देखते हैं कि लोग कितने दिनों की छुट्टियां ले रहे हैं.

बफ़र की न्यूनतम अवकाश नीति तकनीकी कंपनियों में आम नहीं है.

स्टार्ट-अप्स और आईटी कंपनियों में असीमित छुट्टियों की नीति चलती हैं, लेकिन ये छुट्टियां कुछ भी हों, असीमित नहीं होतीं.

कर्मचारी अक्सर काम, मैनेजर और कंपनी संस्कृति के बोझ तले दबे रहते हैं और उचित मात्रा में छुट्टी नहीं ले पाते.

क्या कम से कम एक निश्चित संख्या में छुट्टियां लेने के लिए उन पर ज़ोर देना उनको बर्नआउट से बचाने का बेहतर तरीक़ा हो सकता है?

इमेज कॉपीरइट Stacy Allen

कितना काम करना सही?

अमरीका एकमात्र ऐसा विकसित देश है जहां कर्मचारियों को वेतन के साथ छुट्टियों पर भेजने के बारे में कोई संघीय क़ानून नहीं है.

क़रीब 77 फ़ीसदी अमरीकी नियोक्ता कर्मचारियों को भुगतान के साथ छुट्टियों पर भेजने की पेशकश करते हैं, लेकिन इसके बदले दी जाने वाली राशि अलग-अलग होती है.

कुल मिलाकर अमरीकी कर्मचारी कई अन्य विकसित देशों के मुक़ाबले कम छुट्टियां लेते हैं.

2014 में आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (OECD) ने पाया कि अमरीकी श्रमिक साल में लगभग 1,789 घंटे काम करते हैं. अमरीका इस मामले में 16वें स्थान पर है.

मेक्सिको 2,228 घंटे के साथ पहले स्थान पर और जर्मनी 1,366 घंटे के साथ आख़िरी स्थान पर हैं.

अमरीका के उलट, यूरोपीय संघ के हर सदस्य देश के लिए अनिवार्य है कि वे कर्मचारियों को वेतन के साथ सालाना कम से कम चार हफ़्ते की छुट्टी का क़ानून बनाएं.

ऑस्ट्रिया इस मामले में सबसे आगे है. उसने अपने यहां 35 दिनों की सवैतनिक छुट्टी का क़ानून बनाया है.

इसी तरह, न्यूज़ीलैंड में नियोक्ताओं के लिए कर्मचारियों को कम से कम 4 हफ़्ते वेतन के साथ छुट्टी देना ज़रूरी है. इनमें सार्वजनिक अवकाश या बीमारी के लिए छुट्टी शामिल नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भ्रम से बचना ज़रूरी

बफ़र में, न्यूनतम अवकाश नीति को लागू करने के पीछे एक भ्रम था. कर्मचारियों की समझ में नहीं आ रहा था कि वे कितनी छुट्टियां ले सकते हैं. इसकी वजह शायद यह थी कि इसका कोई सामान्य पैमाना नहीं था.

बफ़र की जनसंपर्क प्रमुख हेली ग्रिफ़िस कहती हैं, "लोगों को पता नहीं होता कि अन्य लोग कितनी छुट्टियां ले रहे हैं."

"हम नहीं चाहते कि लोग बर्नआउट के शिकार हो जाएं. हम चाहते हैं कि कर्मचारियों की जीवनशैली संतुलित रहे."

इस भ्रम से बचाव का प्रयास उन सभी कंपनियों ने किया है जिन्होंने असीमित अवकाश छोड़कर न्यूनतम अवकाश की नीति अपनाई है.

सैन फ्रांसिस्को की रिमोट एनालिटिक्स एंड फोरकास्ट कंपनी बेयरमेट्रिक्स के सीईओ जोश पिगफ़ोर्ड ने असीमित अवकाश की नीति ख़त्म कर दी क्योंकि लोग उसकी सीमाएं नहीं जानते थे.

पिगफ़ोर्ड कहते हैं, "हक़ीक़त यह है कि उसकी सीमाएं हैं, जैसे आप पूरे साल छुट्टी नहीं ले सकते."

पिगफ़ोर्ड ने यह भी देखा कि लोग छुट्टी नहीं लेते या छुट्टी लेने वाले अन्य लोगों के प्रति कुछ दुश्मनी पाल लेते हैं.

अब उन्होंने हर कर्मचारी के लिए साल में कम से कम चार हफ़्ते की छुट्टी लेनी ज़रूरी कर दी है, जिसमें कम से कम एक छुट्टी एक हफ़्ते या उससे लंबी होगी.

बेयरमेट्रिक्स एक सार्वजनिक स्प्रेडशीट के ज़रिये छुट्टी को ट्रैक करता है, जिससे पता चलता रहता है कि कौन-सा कर्मचारी ज़रूरी छुट्टियां ले रहा है.

फ़्लोरिडा की जॉब-सर्च कंपनी ऑथेंटिक जॉब्स में कर्मचारियों को चिंता रहती थी कि बहुत ज्यादा छुट्टियां लेने से उनके सहकर्मियों को समस्या होने लगेगी.

कंपनी के संस्थापक और पूर्व सीईओ कैमरन मोल कहते हैं, "आप हमेशा संदेह करते हैं. क्या मुझे यह छुट्टी लेनी चाहिए क्योंकि मेरे सहकर्मी ने इतनी छुट्टियां नहीं ली हैं."

जब इस कंपनी ने न्यूनतम छुट्टियां तय कर दीं तो नई नीति का असर तुरंत ही दिखने लगा.

मोल का कहना है कि कर्मचारियों को "तुरंत ज़हनी सुकून" मिला और वे छुट्टी के समय के बारे में अलग तरह से सोचने लगे.

इमेज कॉपीरइट Buffer Inc

मैनेजर का कौशल

जितनी मर्ज़ी उतनी छुट्टियां लो वाले मॉडल के समर्थकों का कहना है कि यह मॉडल स्टाफ़ का भरोसा बढ़ाता है और काम और ज़िंदगी के बीच संतुलन को महत्व देता है.

सैन फ्रांसिस्को की कंपनी इक्विविटी के एचआर मैनेजर जेन बर्टन ने 2018 के एक लेख में लिखा था, "वेतन के साथ असीमित छुट्टियों की पेशकश करने वाले नियोक्ता निश्चित तौर पर अपने कर्मचारियों को कहते हैं कि विश्वास उनके संगठन की बुनियाद में है."

लेकिन सभी कंपनियां असीमित छुट्टियों की नीति लागू करके सफल नहीं हो सकतीं.

पेन्सिल्वेनिया यूनिवर्सिटी के व्हार्टन स्कूल ऑफ़ बिज़नेस में पीएचडी कर रही जियाई बाओ का कहना है कि असीमित छुट्टियां वहीं कारगर होती हैं जहां टीम में बेहतर सामंजस्य होता है और कंपनियां इसकी संस्कृति और सिस्टम तैयार करती हैं.

मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी में संगठनात्मक मनोविज्ञान के प्रोफ़ेसर सर कैरी कूपर का कहना है कि छुट्टी लेने में कर्मचारी झिझक महसूस न करें, ऐसी संस्कृति विकसित करना मैनेजमेंट पर निर्भर करता है.

कई बॉस में अपने कर्मचारियों के बर्नआउट का पता लगाने का सामाजिक और अनुभव कौशल नहीं होता. वे महत्वाकांक्षी कर्मचारियों को छुट्टी लेने की अहमियत याद दिलाने में नाकाम रहते हैं.

कूपर कहते हैं, "ऐसा क्यों नहीं हो पाता? दुर्भाग्य से, अमरीका, ब्रिटेन और कई अन्य विकसित देशों में, मैनेजर तकनीकी कौशल के आधार पर नियुक्त किए जाते हैं, मानवीय कौशल के आधार पर नहीं."

"हमारे पास लाइन प्रबंधक नहीं हैं, नीचे से ऊपर तक ऐसे बॉस नहीं हैं जिनके पास भावनात्मक बुद्धिमानी (EQ) हो."

न्यूयॉर्क में रहने वाली सलाहकार मेलिस गुरोल ने फ़रवरी 2017 में नई कंपनी में काम शुरू किया तो पहले साल सिर्फ़ एक दिन की छुट्टी ली, क्योंकि वहां छुट्टियां कितने दिन की हैं यह तय नहीं था.

29 साल की गुरोल कहती हैं, "मुझ पर ख़ुद को साबित करने का दबाव था और इसी मानसिकता में मैंने कई छुट्टियां नहीं लीं."

ऑथेंटिंक जॉब्स के संस्थापक कैमरन मोल इस तरह के माहौल से बचने की कोशिश करते हैं.

वह पूछते हैं, "यदि मैं एक कंपनी चला रहा हूं और कोई कहता है कि उसे केवल पाँच दिन की छुट्टी चाहिए और अगर उसे केवल पाँच दिन की छुट्टी मिलती है तो कंपनी में क्या माहौल होगा?"

इमेज कॉपीरइट Getty Images

विकल्प तैयार करना

न्यूनतम अवकाश की नीति सिर्फ़ कर्मचारियों पर जताए गए भरोसे पर नहीं चलती. यह मॉडल सभी कंपनियों के लिए मुमकिन नहीं है.

जिन कंपनियों में दसियों हज़ार कर्मचारी हों वहां सभी कर्मचारियों की निजी और सामूहिक छुट्टियों पर नज़र रखना, उनका शेड्यूल बनाना और उनको इसकी याद दिलाना बहुत मुश्किल काम होगा.

मोल के मुताबिक़ बदलाव पूरी तरह नामुमकिन नहीं है. "मेरे लिए यह व्यक्तियों का सशक्तिकरण है और हम अवकाश नीति के ज़रिये जितना मुमकिन हो उतना योगदान दे सकते हैं."

"इसीलिए हम उनको यह तय करने का हक़ देते हैं कि वे अपने समय के साथ क्या करना चाहते हैं और क्या नहीं करना चाहते."

ये भी पढ़ें

चीन में सिंगल महिलाओं को क्यों मिल रही है 'लव लीव'

ऑस्ट्रेलिया की इस कंपनी में बुधवार को छुट्टी क्यों?

वो देश जहाँ स्टार्टअप के लिए मिलती है छुट्टी

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार