इस सबसे कामयाब गर्भनिरोधक से महिलाएं अनजान क्यों

  • 16 सितंबर 2018
गर्भ निरोध इमेज कॉपीरइट Thinkstock

गर्भ निरोध के लिए भारत में सबसे ज़्यादा लोकप्रिय तरीक़ा नसबंदी रहा है. बल्कि ये विकल्प पूरी दुनिया में सब से ज़्यादा इस्तेमाल होता है. इसके बाद नंबर आता है गर्भ निरोधक दवाओं का. हालांकि, गर्भ निरोध के कई विकल्प हैं, लेकिन ये चलन में बहुत कम हैं.

ऐसा ही एक विकल्प है आईयूडी यानी इंट्रा यूटेराइन डिवाइस. आकार में छोटे पेपर क्लिप के बराबर दिखने वाली आईयूडी कई आकार में आती है.

गोल और झालरदार से लेकर चार पैर वाली मकड़ी की शक्ल तक में ये गर्भ निरोधक उपलब्ध है.

भारत में सबसे ज़्यादा चलन में है, अंग्रेज़ी के अक्षर T के आकार वाली डिवाइस, यानी कॉपर-टी. ये प्लास्टिक की होती है और इसमें धागा निकला रहता है.

पश्चिमी देशों में इसकी मांग ज़्यादा है. इसे महिला की कोख में फिट किया जाता है. कंपनी और क्वालिटी के आधार पर ये डिवाइस गर्भाशय में क़रीब 12 साल तक रह सकती है.

इसे सबसे कामयाब गर्भनिरोधक माना जाता है. लेकिन इसका मतलब ये हरगिज़ नहीं कि सारी दुनिया की औरतें इसके बारे में जानती हैं.

मिसाल के लिए एशिया में 27 फ़ीसद औरतें ही आईयूडी गर्भ निरोधक डिवाइस का इस्तेमाल करती हैं. जबकि उत्तरी अमरीका में महज़ 6.1 फ़ीसदी, ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड में महज़ दो प्रतिशत महिलाएं ही इसके बारे में जानती हैं.

आखिर इतनी कारगर चीज़ के बारे में महिलाएं अनजान क्यों हैं?

मार्केटिंग पर बहुत ध्यान नहीं दिया गया

अमरीका में इसकी मार्केटिंग पर बहुत ज़्यादा ध्यान नहीं दिया गया. दवा कंपनियों ने गर्भनिरोधक गोलियों का प्रचार ख़ूब किया और मोटा पैसा कमाया. इसीलिए महिलाएं उनके बारे में ज़्यादा जानती हैं. उनका इस्तेमाल भी करती हैं.

नॉन-प्रॉफ़िट ह्यूमन डेवेलपमेंट संस्था एफ़एचआई 360 में काम करने वाले महामारियों के जानकार डेविड ह्यूबचर का कहना है कि बहुत सी कंपनियां कई तरह की गोलियां बाज़ार में उतार चुकी हैं. सभी गोलियों का फॉर्मूला कमोबेश एक जैसा ही है. पर हर कंपनी अपनी दवा को बेहतरीन गर्भनिरोधक बताकर बाज़ार में बेचती है. आईयूडी 1988 से बाज़ार में उपलब्ध है, लेकिन इसके प्रचार और मार्केटिंग पर बहुत ध्यान नहीं दिया गया.

आईयूडी को लेकर ग़लतफ़हमी

आईयूडी के बारे में जानकारी की कमी की और भी कई वजहें हैं. इसके बारे में कई तरह की अफ़वाहें लोगों के बीच फैलाई गई हैं. जैसे आईयूडी से सेक्शुअल लाइफ़ ख़राब हो जाती है. इससे बहुत दर्द होता है. सबसे ज़्यादा ग़लतफ़हमी तो ये है कि आईयूडी से बांझपन हो जाता है.

लोगों के बीच इस ग़लतफ़हमी का पहला सबूत उन्नीसवीं सदी में मिला था. दरअसल आईयूडी बनाने से पहले रिसर्चर और भी कई तरह की तरकीबों पर काम कर रहे थे. तजुर्बे के तहत ही महिलाओं की कोख में कई तरह की डिवाइस लगाई गई थीं. इन्हें स्टेम पेसरीज़ कहा जाता था. ये रबर, कांच या धातु से बने होते थे. लेकिन आईयूडी का सबसे कामयाब वर्जन 1920 में जर्मनी के डॉक्टर अर्न्स्ट ग्रेफ़ेनबर्ग ने बनाया था. जी-स्पॉट का नाम इन्हीं के नाम पर पड़ा है.

ग्रेफ़ेनबर्ग का डिज़ाइन किया हुआ आईयूडी एक सादे छल्ले जैसा था जिसे गर्भाशय में लगा दिया जाता था. डॉक्टर ग्रेफ़ेनबर्ग अपने प्रोजेक्ट पर अभी काम कर ही रहे थे कि जर्मनी के नाज़ियों ने इन्हें पकड़ कर जेल में डाल दिया.

लेकिन बाद में इन्हें डॉक्टर मार्गरेट सेंगर ने किसी तरह आज़ाद कराया और उन्हें लेकर अमरीका आ गईं. यहां आकर उन्होंने फिर से अपने प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया. चीन की वन-चाइल्ड पॉलिसी कामयाब बनाने में आईयूडी का अहम रोल है.

अब तो चीन ने भी अपने यहां कई तरह के डिवाइस बना लिए हैं. लेकिन उन्हें शरीर से वापस निकालने के लिए ऑपरेशन कराना पड़ता है.

1960 में अमरीका में डलकोन शील्ड नाम की आईयूडी बाज़ार में उतारी गई. ये डॉक्टर ग्रेफ़ेनबर्ग की बनाई आईयूडी की तरह ही थी. लेकिन ये साइज़ में बड़ी थी और इसमें घोड़े की नाल की तरह तार निकला होता था.

इमेज कॉपीरइट BC/Science Museum, London

गर्भनिरोधक गोलियों के नुक़सान भी

हालांकि मक़सद बेहतर आईयूडी बनाने का था, लेकिन इसके नुक़सान ज़्यादा हुए. इससे इनफ़ेक्शन भी बहुत जल्दी होता था. ये डिवाइस इतनी बुरी तरह नाकाम हुई कि अमरीका में 50 हज़ार महिलाओं ने इसे बनाने वाली कंपनी के ख़िलाफ़ केस कर दिया.

डेविड ह्यूबचर का कहना है कि आईयूडी के मॉडर्न वर्जन काफ़ी बेहतर और असरदार हैं. लेकिन लोगों को इसके फ़ायदे से वाक़िफ़ कराना ज़रूरी है. मुंबई से लेकर मेलबर्न तक करोड़ों महिलाएं सुबह बिस्तर से उठते ही गोली खाती हैं. ये आसान काम नहीं है. जबकि आईयूडी लगने के बाद इतनी गोलियां खाने की ज़रूरत नहीं रहती और महिलाएं दिमाग़ी तौर पर आज़ाद रहती हैं.

कहने को तो गर्भनिरोधक गोलियां खाने से गर्भधारण करने की गुंजाइश लगभग एक फ़ीसदी रह जाती है. लेकिन व्यवहारिक तौर पर हर महीने महिलाएं क़रीब पांच दिन गोली खाना भूल जाती हैं, जिससे गर्भधारण करने की संभावना 9 फ़ीसदी तक बढ़ जाती है.

यानी अगर कोई महिला दस साल तक गर्भनिरोधक गोली खाती है तो उसके गर्भवती होने की गुंजाइश 61 फ़ीसदी बढ़ जाता है. यानी इतनी गोलियां खाने का मक़सद ही बेकार हो जाता है.

एक अंदाज़े के मुताबिक़ गर्भनिरोधक गोलियां खाने के बाद भी हर साल 9 लाख 60 हज़ार महिलाएं गर्भवती हो जाती हैं. दूसरे लंबे वक़्त तक गर्भनिरोधक गोलियां खाने के नुक़सान भी हैं.

गर्भ निरोध के जितने भी उपाय हैं, चाहे कॉन्डम का इस्तेमाल हो या फिर कोई और तरीक़ा व्यवहारिक जीवन में उनका इस्तेमाल बिल्कुल वैसा नहीं हो पाता जैसा कि होना चाहिए. लेकिन आईयूडी इन सब उपायों से अलग है. कॉपर आईयूडी एक साल में गर्भधारण करने का एक फ़ीसद ही चांस देती है और दस साल में क़रीब आठ फ़ीसद.

आईयूडी दो वजहों से कारगर है. पहला तो यही कि आईयूडी लगने से कोख में ख़ून के व्हाइट सेल तेज़ी से उस जगह पहुंचते हैं जहां स्पर्म जमा होते हैं. ये व्हाइट सेल तेज़ी से स्पर्म को ख़त्म कर देते हैं. एक स्टडी के मुताबिक़ आईयूडी ऐसे सेल की संख्या एक हज़ार गुना बढ़ा देता है.

इमेज कॉपीरइट BBC/Science Museum, London

आईयूडी का दूसरा फ़ायदा उसकी क्वालिटी और क़िस्म पर निर्भर करता है. आईयूडी का हॉर्मोनल वर्जन महिला की कोख में पैदा होने वाले अंडे के पास स्पर्म को जाने ही नहीं देता. इसके अलावा कॉपर आईयूडी पूरी तरह से स्पर्म किलर है. हालांकि कॉपर के इयॉन्स स्पर्म को कैसे नकारा बनाते हैं ये आज भी रहस्य है.

आईयूडी के फ़ायदे अपनी जगह, इसके कुछ नुक़सान भी हैं. लेकिन फ़ायदों के मुक़ाबले नुक़सान ना के बराबर हैं. पहला तो यही कि आईयूडी डिवाइस को जब लगाया जाता है तो ये गर्भाशय की झिल्ली के सहारे ऊपर किया जाता है. इसमें किसी भी तरह की मेडिकल दिक़्क़त आ सकती है. लेकिन ऐसा बहुत ही कम होता है. शायद एक हज़ार में कोई एक केस ही ऐसा होता होगा.

इमेज कॉपीरइट BBC/Science Museum, London

दूसरे इसके लगने से कभी-कभी इनफ़ेक्शन होने का ख़तरा भी हो जाता है. या आईयूडी अगर ठीक से ना लगे तो प्रेग्नेंसी का चांस होने पर वो गर्भ में ना होकर फ़ैलोपिन ट्यूब में भी हो सकती है. बहरहाल किसी भी तरह की दिक़्क़त होने पर आईयूडी को निकाला भी जा सकता है.

इसके अलावा महिलाओं को डर रहता है कि आईयूडी लगने से दर्द बहुत ज़्यादा होगा. लेकिन ऐसा नहीं है. थोड़ा बहुत दर्द तो होता है, लेकिन वो कुछ वक़्त के लिए होता है.

बहुत समय तक तो डॉक्टर भी यही मानते रहे कि आईयूडी लगने का दर्द वही महिला झेल सकती है, जो कम से कम एक बार मां बनी हो क्योंकि बच्चे की पैदाइश के बाद बर्थ कनाल थोड़ी फैल जाती है. लेकिन ऐसा नहीं है. हालांकि अब तो डॉक्टर आईयूडी लगाने से पहले बेहोशी की दवा देने के विकल्प भी आज़मा रहे हैं ताकि महिलाओं को हल्का-सा भी दर्द न महसूस हो.

आईयूडी के इस्तेमाल पर अब काफ़ी ज़ोर दिया जाने लगा है. हालांकि ये थोड़ा मंहगा पड़ता है. शायद इसलिए भी बहुत सी महिलाएं इससे दूर रहती हैं. लेकिन दस साल तक गर्भनिरोधक गोलियां खाने की क़ीमत इससे ज़्यादा ही पड़ती है.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

(इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी हैं. इसमें शामिल तथ्य और विचार बीबीसी के नहीं हैं और बीबीसी इसकी कोई ज़िम्मेदारी या जवाबदेही नहीं लेती है)

(मूल लेख अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें, जो बीबीसी फ्यूचर पर उपलब्ध है.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए