क्या ख़ुदकुशी रोकने में मददगार है नीली रोशनी

  • 26 जनवरी 2019
नीली रोशनी, आत्महत्या, रेलवे स्टेशन, वैज्ञानिक शोध, scientific research इमेज कॉपीरइट Getty Images

2013 में एक ऐसा रिसर्च पेपर छपा, जिसने ऑनलाइन दुनिया में तहलका मचा दिया था. सोशल मीडिया पर उस रिसर्च की बुनियाद पर लाखों पोस्ट की गईं. उस रिसर्च के आधार पर हज़ारों की तादाद में स्टोरी भी वायरल हुई थीं.

इस रिसर्च पेपर में ये इशारा किया गया था कि रेलवे स्टेशन पर नीले बल्ब या लैंप लगाने से वहां ख़ुदकुशी की तादाद में भारी कमी आई थी.

वैज्ञानिकों का दावा था कि नीले रंग से स्टेशनों को रोशन करने से आत्महत्या करने के मामलों में 84 प्रतिशत तक की गिरावट देखी गई.

तब से ही दुनिया भर में ये नुस्खा ख़ूब चर्चित हुआ. ये रिसर्च पेपर जापान में छपा था. इसके चर्चित होने पर ख़ुदकुशी की घटनाओं से परेशान कई और देशों ने भी ये प्रयोग किए.

लेकिन, जैसा कि हर पेचीदा वैज्ञानिक क़िस्सों के साथ होता है, नीली रोशनी से ख़ुदकुशी रोकने की बात कहने वाले रिसर्च पेपर को भी हर शेयरिंग के साथ तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया और समझा गया.

इसकी शुरुआत इक्कीसवीं सदी के पहले दशक में हुई थी. तब जापान की कई रेलवे कंपनियों ने रेलवे स्टेशनों पर नीली रोशनी लगानी शुरू की.

इस कोशिश का मक़सद रेलवे स्टेशनों पर ख़ुदकुशी को रोकना था. कई बार ऐसी छोटी-छोटी बातों से लोगों के बर्ताव में बड़े बदलाव देखने को मिलते हैं.

इमेज कॉपीरइट Damon Coulter

क्या होता है नीली रोशनी का असर?

रेलवे स्टेशनों पर नीली रोशनी करने के पीछे विचार ये था कि ये लोगों की ज़हनी कैफ़ियत पर असर डालती है. 2017 में हुई एक रिसर्च ने इस ख्याल पर मुहर लगाई थी. इस रिसर्च में पाया गया था कि दिमाग़ी तनाव के शिकार लोग अगर कुछ वक़्त नीली रोशनी से भरे कमरे में बिताते हैं, तो उनका ज़हन शांत हो जाता है.

जापान की वासेडा यूनिवर्सिटी की वैज्ञानिक मिचिको यूएडा ने रेलवे कंपनियों के इस प्रयोग के बारे में सुना था. उन्होंने रेलवे के प्रबंधकों से बात की, तो मैनेजरों ने दावा किया कि प्लेटफॉर्म पर नीली रोशनी करने के अच्छे नतीजे आए हैं. ख़ुदकुशी रोकने में ये नुस्खा काफ़ी असरदार साबित हुआ है.

मिचिको यूएडा ने जापान में ख़ुदकुशी के बढ़ते मामलों के पीछे के तमाम कारणों के बारे में रिसर्च की थी. इसके पीछे आर्थिक वजह से लेकर क़ुदरती आपदा और सेलेब्रिटी सुसाइड तक कारण पाए गए थे.

हालांकि, मिचिको ने जब रेलवे कंपनियों के नीली रोशनी से जुड़े दावे को सुना, तो उन्हें शक हुआ. उन्होंने रेलवे कंपनियों से इस बारे में आंकड़े मांगे.

मिचिको ने 71 जापानी रेलवे स्टेशनों पर पिछले दस सालों में हुए ख़ुदकुशी के आंकड़ों को खंगाला, तो उन्होंने पाया कि नीली रोशनी लगाने का कुछ फ़ायदा तो हुआ है. उन्होंने देखा कि ख़ुदकुशी के मामलों में 84 प्रतिशत तक की कमी आई है. इस दावे ने जल्द ही पूरी दुनिया का ध्यान अपनी तरफ़ खींचा.

लेकिन, अफ़सोस की बात ये है कि ये पूरी कहानी नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Damon Coulter

आत्महत्या कम होने का दावा कितना सही?

जब इस रिसर्च के नतीजे मीडिया में चर्चित होने लगे, तो त्सुकुबा यूनिवर्सिटी के मसाओ इचिकावा का ध्यान भी इस दावे पर गया. उन्होंने ख़ुदकुशी के आंकड़ों की फिर से पड़ताल की.

इचिकावा का कहना था कि इस आंकड़े को दिन और रात में बांटकर देखना ज़रूरी है. क्योंकि दिन में अक्सर प्लेटफॉर्म की लाइट बुझा दी जाती हैं. ऐसे में 24 घंटे के आंकड़े के आधार पर किया गया ये दावा आत्महत्या कम होने की सही तस्वीर नहीं पेश करता.

इचिकावा का कहना है कि असल में नीली रोशनी से ख़ुदकुशी करने की तादाद में केवल 14 फ़ीसद की कमी आई थी. हालांकि ये कमी भी काफ़ी अच्छा बदलाव मानी जाएगी. लेकिन, 84 प्रतिशत के दावे से तो ये बहुत ही कम है.

इचिकावा ने कोशिश की कि वो अपने रिसर्च पेपर के ज़रिए मिचिको यूएडा के दावे का दूसरा पहलू दुनिया के सामने रखेंगे. उनका मक़सद था कि लोग ये न सोचें कि नीली रोशनी जादुई होती है. इसका लोगों पर इतना गहरा असर होता है.

इचिकावा ही नहीं, दूसरे रिसर्चर का भी यही मानना रहा है कि अगर प्लेटफॉर्म पर बैरियर और केवल गाड़ी आने पर खुलने वाले दरवाज़े लगाए जाएं, तो ये ख़ुदकुशी रोकने में ज़्यादा कारगर होंगे. लेकिन, इन्हें लगाने का ख़र्च इतना ज़्यादा है कि रेलवे कंपनियां इन पर अमल नहीं ही करेगीं. हां, प्लेटफॉर्म पर नीली रोशनी करना सस्ता सौदा है.

इमेज कॉपीरइट Alamy

ब्रिटेन से शुरू हुआ पायलट प्रोजेक्ट

मिचिको यूएडा ने जब से अपना रिसर्च प्रकाशित किया है, तब से दुनिया भर से उनके पास फ़ोन आते हैं. ब्रिटेन में दो स्टेशनों पर नीली रोशनी लगाकर पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया गया है.

पर मिचिको यूएडा कहती हैं कि, 'जब भी मुझसे कोई ये पूछता है कि नीली रोशनी करने या प्लेटफॉर्म पर दरवाज़े लगाने में से कौन सा विकल्प बेहतर होगा, तो मैं बिना झिझक दरवाज़े लगाने की सलाह देती हूं.'

मिचिको का मानना है कि नीली रोशनी का हमारे ज़हन पर हल्का असर होता है. वो अभी इस बारे में और रिसर्च किए जाने की सलाह देती हैं. उनके मुताबिक़, स्टेशनों पर चटख रोशनी का इंतज़ाम करने से लोगों के बर्ताव में बदलाव आ सकता है. उनका ये भी मानना है कि कुछ दिनों बाद जब लोग नीली रोशनी के आदी हो जाएंगे, तो उनका असर ख़त्म हो जाएगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

नीली रोशनी के मनोवैज्ञानिक असर

अब मिचिको यूएडा, नीली रोशनी के मनोवैज्ञानिक असर पर रिसर्च कर रही हैं. 2017 के रिसर्च पेपर में दावा किया गया था कि नीली रोशनी से ज़हन शांत होता है.

लेकिन, ब्रिटेन की लीड्स यूनिवर्सिटी के स्टीफ़न वेस्टलैंड कहते हैं कि किसी का मिज़ाज अगर अचानक कुछ करने वाला है, तो रोशनी उस पर कोई असर नहीं डाल सकेगी.

स्टीफ़न के पुराने छात्र निकोलस चिकोन ने एक प्रयोग में पाया कि रोशनी का असर लोगों के बर्ताव पर बहुत कम ही होता है. स्टीफ़न कहते हैं कि रोशनी का हमारे बर्ताव में बदलाव से कोई ताल्लुक़ नहीं होता.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अमरीका में दक्षिण एशियाई समुदाय में बढ़ता डिप्रेशन का ख़तरा

जापान और खुदकुशी

लेकिन, इन रिसर्च को करने वालों का साफ़ कहना है कि अगर जापान में नीली रोशनी लगाने से ख़ुदकुशी के मामले कम हुए हैं, तो वो कोशिश जारी रहनी चाहिए. जापान दुनिया के उन 20 टॉप देशों में है, जहां के लोगों के ख़ुदकुशी करने का औसत बहुत अधिक है.

पिछले 15 साल में जापान में ख़ुदकुशी के मामलों में कमी आती देखी गई है. 2003 में 34,500 लोगों ने आत्महत्या की थी. 2017 में ये तादाद 21 हज़ार तक गिर गई थी. हालांकि, जापान के युवाओं में ख़ुदकुशी की तादाद बढ़ रही है.

इचिकावा कहते हैं कि इसके पीछे की ठोस वजह बता पाना मुश्किल है.

हो सकता है कि ख़ुदकुशी की सोच रहे किसी इंसान पर नीली रोशनी असर करती हो. पर, अब तक किसी वैज्ञानिक रिसर्च में इस असर के ठोस सबूत नहीं मिले हैं.

मिचिको यूएडा कहती हैं कि, 'मैं ख़ुद नहीं चाहती कि लोग नीली रोशनी को ख़ुदकुशी रोकने का उपाय मान लें. मैं फिर कहूंगी कि लोगों को ख़ुदकुशी रोकने के लिए तमाम तरीक़ों पर अमल करना चाहिए. रेलवे स्टेशनों पर आत्महत्या रोकने का सबसे अच्छा तरीक़ा प्लेटफॉर्म पर दरवाज़े लगाना है.'

(बीबीसी फ़्यूचर पर इस स्टोरी को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. आप बीबीसी फ़्यूचर की बाकी ख़बरें यहां पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार