कोरोना: गर्म चाय या पानी पीने से वायरस मर सकता है?

  • रिचर्ड ग्रे
  • बीबीसी फ़्यूचर
कोरोना वायरस, महिला

इमेज स्रोत, Getty Images

भारत में कोरोनावायरस के मामले

17656

कुल मामले

2842

जो स्वस्थ हुए

559

मौतें

स्रोतः स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय

11: 30 IST को अपडेट किया गया

बस एक चाय की प्याली…और थकान छू मंतर…

दफ़्तर में काम के बीच गर्मा-गर्म कॉफ़ी का मग मिल जाए, तो ताज़गी आ जाती है.

ये जुमले तो आपने बहुत सुने होंगे.

अब ये लीजिए…

एक कप गर्म चाय और कॉफ़ी आपको कोरोना वायरस से बचा सकती है.

कोरोना वायरस के इस संक्रमण काल में ऐसे तमाम नुस्खे आज़माए और सुझाए जा रहे हैं. जबकि इनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है.

एक मैसेज तो यूनिसेफ़ (UNICEF) के नाम पर फैलाया जा रहा है कि आप गर्म पानी की मदद से कोरोना वायरस को अपने से दूर रख सकते हैं.

यूनिसेफ़ ने इस दावे को सरासर ग़लत बताया है. जानकार कहते हैं कि ये सारे घरेलू नुस्खे आपको कोरोना वायरस से बचाने में काम नहीं आएंगे.

इमेज स्रोत, Getty Images

ब्रिटेन की कार्डिफ़ यूनिवर्सिटी के रॉन एकक्लेस का कहना है कि गर्म पेय आपको वायरस से बचा सकते हैं इसका कोई सबूत फ़िलहाल नहीं है.

रॉन एक्क्लेस ने गर्म पेय से फ़्लू की बीमारी में राहत पर काफ़ी रिसर्च की है. वो बताते हैं कि इससे आपकी मुश्किल थोड़ी तो कम हो सकती है. लेकिन, वायरस पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ता.

और जहां तक कोरोना वायरस की बात है, तो अब तक हुए किसी भी रिसर्च में इस बात की पुष्टि नहीं हुई कि गर्म पानी, चाय या कॉफ़ी का इस वायरस पर कोई असर पड़ता है.

जब वायरस शरीर के भीतर पहुंच जाता है, तो वो जल्द से जल्द शरीर की कोशिकाओं के भीतर जाने की कोशिश करता है. वायरस के किसी पहली कोशिका के भीतर जाने में 30 घंटे तक का समय लग जाता है.

इंसान के शरीर की कोशिकाओं के भीतर जाने के बाद वायरस तेज़ी से अपने जीन को कॉपी करना शुरू करता है.

इमेज स्रोत, Getty Images

इंसान के शरीर का तापमान 37 डिग्री सेल्सियस होता है, जो वायरस के लिए बहुत मुफ़ीद होता है.

कुछ रिसर्च ये बताते हैं कि 60 से 65 डिग्री सेल्सियस तापमान में कोरोना वायरस नष्ट हो जाता है.

लेकिन, ये रिसर्च सार्स वायरस पर की गई है, जो कोरोना वायरस परिवार का ही एक सदस्य है.

यानी आप 70 डिग्री सेल्सियस तापमान पर वायरस को तो मार सकते हैं.

लेकिन, आपके शरीर के भीतर का तापमान इतना होगा, तो आपके अंगों को बहुत नुक़सान होगा.

इतने गर्म पानी में नहाने भर से आपकी चमड़ी जल जाएगी. और वायरस पर इसका कोई प्रभाव भी नहीं पड़ेगा. क्योंकि वो तो फेफड़ों में छुपा बैठा होता है.

और शरीर के ऊपर गर्म पानी डालने से शरीर के भीतर का तापमान नहीं बढ़ता है.

और शरीर के भीतर का तापमान इतना अधिक बढ़ जाने का मतलब होगा जान चली जाना.

कई नुस्खे ये दावे भी कर रहे हैं कि चाय में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो वायरस से लड़ने में मदद करते हैं. लेकिन, इस बात के कोई वैज्ञानिक सबूत नहीं हैं.

कुल मिलाकर, बुख़ार हो या थकान हो, चाय या कॉफ़ी इससे आपको मामूली राहत तो दे सकते हैं.

लेकिन, अगर आप ये सोच रहे हैं कि इससे कोरोना वायरस ख़त्म हो जाएगा, तो आपकी ये सोच बिल्कुल ग़लत है.

इमेज स्रोत, MohFW, GoI

(बीबीसी फ़्यूचर पर मूल लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. आप बीबीसी फ़्यूचर कोफ़ेसबुक, ट्विटर औरइंस्टाग्राम पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)