यहां आधी रात में भी महिलाएं अंडरपास से गुज़रती हैं

  • 30 नवंबर 2017
एम्स्टर्डम इमेज कॉपीरइट Mark Dadswell/Getty
Image caption एम्स्टर्डम

क्या आप किसी ऐसे शहर का तसव्वुर कर सकते हैं जहां घर में ताला ना लगाना पड़े. घर में कभी चोरी ना हो. जब दिल चाहे आप घर से निकल आएं सड़कों पर घूमें-फिरें. जिस वक़्त जो दिल चाहे वो करें. दिल में ये ख़ौफ़ ना हो कि कोई आपके घर में चोरी कर सकता है, नुक़सान पहुंचा सकता है.

अब आप कहेंगे ऐसा तो हो ही नहीं सकता. लोग तो ताला तोड़कर चोरी कर लेते हैं. दिन-दहाड़े जेब काट लेते हैं. और बेवक़्त घर से निकलने की तो सोच ही नहीं सकते.

तो जनाब हम आपको बता दें आप ग़लत सोच रहे हैं. ऐसे बहुत से शहर हैं, जहां लोग बेख़ौफ़ जीते हैं. इन्हें दुनिया का सबसे सुरक्षित शहर कहा जाता है. यहां लोग शहर की सड़कों पर ख़ुद को उतना ही सुरक्षित महसूस करते हैं जितना कि अपने घर के अंदर.

'द इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट' के मुताबिक़ रहने के लिए सबसे बेहतर जगह वो है जहां लोग बिना किसी डर के जी सकें. बेहतर ज़िंदगी गुज़ारने के लिए तमाम बुनियादी सहूलतें हों. आस-पास का माहौल और हवा साफ़ हो. पड़ोसी मिलनसार हों.

इन्हीं मानकों की बुनियाद पर दुनिया के सबसे सुरक्षित शहरों की लिस्ट जारी की गई है.

मुंबई: शहर है या सपना?

वो शहर जिसने दुनिया को अपने पहाड़ बेच डाले

इमेज कॉपीरइट Remko De Waal/Getty

जापान का ओसाका शहर

इस फ़ेहरिस्त में सबसे ऊपर नाम है जापान के ओसाका शहर का. ये शहर जापान की राजधानी टोक्यो से सटा हुआ है.

वैसे तो पूरे जापान के माहौल में ग़ज़ब का सुकून है. लेकिन, ओसाका की बात ही कुछ और है. सुकून की बड़ी वजह शायद यहां के लोगों में सुरक्षा का गहरा एहसास है.

लोग कहीं खुले में बैठे होते हैं तो भी अपना लैपटॉप तक छोड़ कर जा सकते हैं. क्योंकि उन्हें पता है कि उसे कोई उठा कर नहीं ले जाएगा.

ब्रिटेन के डेनियल ली 17 साल जापान आकर बसे थे. उनका कहना है कि ओसाका रहने के लिए दुनिया की बेहतरीन जगहों में से एक है.

इस शहर में व्यापारिक गतिविधियां ज़्यादा होती हैं. यहां बहुत सी मल्टी नेशनल कंपनियां हैं. लिहाज़ा यहां चौबीसों घंटे काम होता है. यहां की सड़कों पर दिन की तरह देर रात में भी चहल-पहल रहती है.

ली की तरह योशी यामामोतो 25 साल पहले जापान के क्योटो से ओसाका आकर बस गई थीं.

उनका कहना है कि ये शहर महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज़ से बेहतरीन है. यहां आधी रात में भी महिलाएं अंडरपास से गुज़र सकती हैं. यहां के लोग भी मिलनसार हैं.

उत्तर कोरिया का वो गुप्त शहर जिससे है ख़ौफ़?

मंदिरों के शहर में दरगाहों पर भी जुटती है भीड़?

इमेज कॉपीरइट Buddhika Weerasinghe/Getty
Image caption जापानी शहर ओसाका

किसी से बात करके लगता ही नहीं कि ये पहली मुलाक़ात है. आप भले ही उनकी भाषा ना समझ पाएं लेकिन उनसे मिलकर खुशी का एहसास होता है.

यामामातो के मुताबिक़ अगर आप यहां के स्थानीय लोगों के साथ मेल-मिलाप करने के ख़्वाहिशमंद हैं तो ओसाका के दूर-दराज़ के इलाक़े आपके लिए मौज़ू हैं. यहां बड़े बड़े पुराने रिवायती घर हैं. ये घर आपको बहुत किफ़ायती दाम में मिल जाएंगे.

अगर आपका बर्ताव ठीक रहा तो बहुत जल्द यहां के लोगों से आपकी दोस्ती हो सकती है. आपको यहां अपने परिवार जैसा ही प्यार, दोस्ती और स्नेह मिलेगा.

अगर आप क़ुदरत के प्रेमी हैं तो ओसाका का शहर से दूर वाला इलाक़ा मिनोह और किता-सेनरी आपकी पहली पसंद बन सकते हैं.

यहां दूर दूर तक क़ुदरत के हसीन नज़ारे देखने को मिल सकते हैं. ओसाका शहर से यहां तक पहुंचने के लिए अच्छी रेल सेवा भी मौजूद है.

आपकी ज़िंदगी बदलने वाले शहर

इमेज कॉपीरइट Buddhika Weerasinghe/Getty
Image caption ओसाका में धान की बीजाई

एम्स्टर्डम

ओसाका के बाद बारी आती है नीदरलैंड के शहर एम्सटर्डम की.

ये छोटा सा शहर भी सुरक्षा के लिहाज़ से बेहतरीन है. यहां की आबादी क़रीब दस लाख है.

यहां के लोग बहुत शांत, खुश मिज़ाज और मददगार हैं. यहां रहने वालों के चेहर पर अजीब तरह का सुकून देखने को मिलता है.

शहर के दूर दराज़ के इलाक़े भी इतने ही सुरक्षित हैं. इस शहर की एक खास बात और है कि यहां आपको बहुमंज़िला इमारतें नहीं मिलेंगी.

ये शहर पानी पर बसाया गया है. लिहाज़ा यहां के घर सीधे-सीधे बने है.

इमेज कॉपीरइट Dean Mouhtaropoulos/Getty
Image caption एम्स्टर्डम

सिडनी

ऑस्ट्रेलिया के शहर सिडनी की ख़ूबसूरती भी ग़ज़ब की कशिश रखती है. यहां के लोगों को बिंदास घूमता देखकर ही अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि लोग यहां भली भांति सुरक्षित हैं.

सिडनी के एक स्थानीय निवासी रिचर्ड ग्राहम कहते हैं कि अगर कोई संदिग्ध नज़र आता है तो लोग एक दूसरे को बाख़बर कर देते हैं.

हाल ही में सिडनी शहर के फुटपाथ सुधारने के लिए डेढ़ करोड़ डॉलर सालाना ख़र्च करने का फ़ैसला लिया गया है.

फुटपाथ की देख-रेख और मरम्मत के लिए इतनी मोटी रक़म ख़र्च करने के पीछे मक़सद है लोगों में पैदल चलने की आदत को बढ़ावा देना.

सऊदी अरब का वो खामोश शहर

पाकिस्तान का वो शहर जो है ब्रितानी हेयरस्टाइल का दीवाना

इमेज कॉपीरइट David Hancock/Getty

सिडनी शहर के बारे में कहा जाता है कि जितना यहां की गलियों में आप घूमते हैं, यहां के लोगों से आपका मेल-जोल बढ़ता है. यहां के लोगों और संस्कृति को आप नज़दीक से जान पाते हैं.

सिडनी का पोस्ट प्वाइंट ज़्यादातर अप्रवासियों की पहली पसंद होता है जोकि सिटी सेंटर से क़रीब तीन किलोमीटर दूर है. यहां की इमारतें और रेस्टोरेंट न्यूयॉर्क शहर जैसे मालूम होते हैं.

कालिख की चादर ओढ़े नाइजीरियाई शहर

इमेज कॉपीरइट Roslan Rahman/Getty
Image caption सिंगापुर का 'गार्डन्स बाई द बे'

सिंगापुर

सिंगापुर भी दुनिया के सबसे सुरक्षित देशों में से एक है. यहां क़ानून व्यवस्था बहुत सख़्त है. यहां की सरकार पुलिस फ़ोर्स पर दिल खोल कर ख़र्च करती है.

यहां के लोग भी बहुत ईमानदार हैं. इसकी बड़ी वजह क़ानून का सख़्ती से पालन होना है. यहां कोई किसी के धर्म, जाति या नस्ल का मज़ाक़ नहीं उड़ा सकता है.

यहां के लोग अपने काम की जगह के नज़दीक रहना पसंद करते हैं. टियोंग बहरू के रेस्टोरेंट काफ़ी मशहूर हैं. यहां दुनिया भर के खाने आपको मिल सकते हैं.

रेस्टोरेंट की इमारतें औपनिवेशिक काल की इमारतों जैसी हैं. ज़्यादा आमदनी वाले लोग आउटरेम पार्क के पास डक्सटोन हिल अपार्टमेंट में रहना पसंद करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Olivier Morin/Getty
Image caption स्टॉकहोम

स्टॉकहोम

स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम भी सुरक्षा के लिहाज़ से एक बेहतरीन शहर है. खास तौर से बच्चों की सुरक्षा के लिए यहां ख़ास इंतज़ाम किए गए हैं.

सड़कों और ट्रैफिक से दूर शहर के बीचों बीच बड़े बड़े पार्क और खेल के मैदान बनाए गए हैं.

यहां के लोगों की ज़िंदगी में सुकून है. कोई हड़बड़ी में नहीं रहता. नई तकनीक, फ़ैशन, डिज़ाइन वग़ैरह अपनाने में यहां के लोग सबसे आगे रहते हैं.

ज़्यादातर लोग सेंट्रल बिज़नेस डिस्ट्रिक्ट के पास अपार्टमेंट में रहते हैं.

लेकिन जो लोग इससे भी ज़्यादा शांति वाली जगह पर रहना चाहते हैं तो वो कुंगशोलमेन जा सकते हैं, जहां क़ुदरत के हसीन नज़ारों का दीदार घर की ख़िड़की से किया जा सकता है.

ये है देश का सबसे साफ़ सुथरा शहर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे