दुनिया का वो शहर जहां कोई अपना 'आपा नहीं खोता'

  • 3 दिसंबर 2017
मेक्सिको इमेज कॉपीरइट Getty Images

ग़ुस्सा इंसान का सबसे बड़ा दुश्मन होता है. वो इंसान को ख़त्म कर देता है. लेकिन फिर भी इंसान इससे बच नहीं पाता. कभी ना कभी कहीं ना कहीं गुस्से में कोई ना कोई ग़लत हरकत कर ही बैठता है.

लेकिन एक शहर ऐसा है जहां ग़ुस्सा करना शान के ख़िलाफ़ समझा जाता है. अगर कोई ऊंची आवाज़ में बात करे तो लोग उसे बुरा समझते हैं. उससे दूरी बना लेते हैं.

अब आप सोच रहे होंगे कि हम यक़ीनन लखनऊ शहर की बात कर रहे हैं. क्योंकि ये बातें तो लखनऊ के बारे में ही कही जाती हैं. कहते हैं लखनऊ के लोग तो गाली भी तमीज़ के दायरे में देते हैं.

लेकिन यहां आप ग़लत हैं. हम लखनऊ की बात हरगिज़ नहीं कर रहे हैं. बल्कि हम बात कर रहे हैं सात समंदर पार के शहर मेक्सिको सिटी की.

इमेज कॉपीरइट John Mitchell/Alamy

मेक्सिको सिटी में कोई भी सार्वजनिक स्थान पर अपना आपा नहीं खोता. बहसबाज़ी हो जाने पर भी उसे प्यार से हल कर लिया जाता है.

शराब पीने के बाद नशे की हालत में तो कोई बदसलूकी शायद कर भी दे. लेकिन, होशो-हवास में कोई ऐसी ग़लती कभी नहीं करता.

मेक्सिको सिटी शहर में बचपन से ही बच्चों को अपने जज़्बात पर काबू रखना और शांत रहना सिखाया जाता है. यहां के लोगों का मानना है कि गुस्से में आप अपना सब कुछ गंवा देते हैं.

यहां के लोगों में ग़ज़ब का सब्र देखने को मिलता है. अगर लोग कहीं लाइन में खड़े होते हैं, तो धीरज के साथ अपनी बारी का इंतज़ार करते हैं.

यहां कोई हड़बड़ी में नज़र नहीं आता. छोटी-छोटी ग़लतियों पर बिला झिझक माफ़ी मांग लेते हैं. छोटी-छोटी मेहरबानियों पर दिल से शुक्रिया अदा करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Tony Anderson/Getty Images

शिष्टाचार का ये बर्ताव यहां के लोगों में पीढ़ियों से चला आ रहा है. इसके पीछे मेक्सिको के मूल निवासी माने जाते हैं. यूरोपियन लोगों के मेक्सिको पहुंचने से पहले वहां एज्टेक सभ्यता आबात थी.

1519 में जब स्पेन ने मेक्सिको पर अपना क़ब्ज़ा जमा लिया. इसके बाद यहां पर स्पेन और एज़्टेक सभ्यताओं के मेल से नई संस्कृति ने जन्म लिया. स्पेन के राजाओं ने क़रीब तीन सौ साल तक यहां अपना दबदबा बनाए रखा. लेकिन संस्कृति के मामले में मेक्सिको हमेशा आगे रहा.

एज़्टेक साम्राज्य के दौर में आज के मेक्सिको सिटी के इलाक़े को नाहुआ के नाम से जाना जाता था. बाद में इस इलाक़े पर स्पेन के लोगों का रसूख़ क़ायम हो गया था. लेकिन यहां आकर सबने वाले स्पेनिश लोगों ने भी मेक्सिको के मूल निवासियों के रिवायती शिष्टाचार के तौर तरीक़े सीखे. इनकी भाषा में भी नाहुआ में स्थानीय स्तर पर बोले जाने वाले शब्द बड़े पैमाने पर शामिल हो गए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एज़्टेक आदिवासियों की नाहुल्त भाषा आज मोटे तौर पर क़रीब पंद्रह लाख लोग बोलते हैं. इस ज़बान में एक ख़ास तरह की मिठास और अपनापन है.

नाहुआ के कुछ समुदायों में एक चलन और भी है. वो किसी से निगाह मिलाकर बात नहीं करते. हालांकि आम तौर पर माना जाता है कि सामने वाले की आंख में आंख डालकर बात करो. इससे आपका आत्मविश्वास ज़ाहिर होता है. लेकिन यहां के लोग इसे ग़ुरूर की अलामत और तहज़ीब के ख़िलाफ़ मानते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दरअसल मेक्सिको पर लंबे वक़्त तक विदेशियों का राज रहा है. यहां के लोगों में सत्ताधारी पक्ष के लिए हमेशा ही एक अविश्वास का भाव रहा है. शायद इसीलिए यहां के लोग बाहर की दुनिया और अपने बीच एक लाइन खींचे रखना चाहते हैं. शायद इसीलिए उनकी कोशिश रहती है कि उनके शब्दों से किसी कोई दुख ना पहुंचे. यहां तक कि अगर आप किसी से रास्ता पूछें और उसे वो पता नहीं है तो भी वो ना कहने में हिचकिचाएगा.

इमेज कॉपीरइट Kari/Alamy

अगर आपके मिज़ाज में ज़रा भी अकड़ है, ज़बान में शीरीं नहीं तो यहां के लोग आपको नाकाम लोगों की फ़ेहरिस्त में शामिल कर लेंगे.

तमाम ख़ूबियों के बावजूद ये कहना भी ग़लत ही होगा कि मेक्सिकों में सभी बहुत अच्छे मिज़ाज के लोग हैं. कुछ बुराईयां यहां के लोगों में भी हैं. लेकिन ज़्यादातर ख़ुशमिज़ाज हैं. अपने शहर में आने वाले सैलानियों को पूरा समय देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

शायद यहां के लोगों की यही अदा इस शहर को बहते पानी की तरह से अपने साथ बहाए ले जा रही है. और ये शहर अपनी अलग पहचान बनाए हुए है.

कभी मौक़ा लगे तो आप भी मेक्सिको सिटी घूम आएं.

(मूल लेख अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें, जो बीबीसी पर उपलब्ध है.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे